Unrelated image, true incident: Woman’s skeleton found by son in Mumbai house in 2017

An image of a human skeleton is being shared on social media with the claim that this a corpse of an old woman who died lonely in her home ten months ago. The image is shared with the narrative that when non-resident Indian Rituraj Sahani returned from America after a long time, he found his mother’s decayed corpse in the house. According to the message, Rituraj’s mother Asha Sahani wanted him to take her with him to America or admit her to an old-age home. Facebook page ‘National Crime Investigation Bureau’ posted the message with the image on February 27.

जरूर पढ़ें :-
—————
यह मुम्बई की करोड़पति स्त्री का शव है। एक करोड़पति NRI पुत्र की माँ की लाश है। लगभग 10 माह से 7 करोड़…

Posted by National Crime Investigation Bureau on Wednesday, 27 November 2019

The message reads, “जरूर पढ़ें :-यह मुम्बई की करोड़पति स्त्री का शव है। एक करोड़पति NRI पुत्र की माँ की लाश है। लगभग 10 माह से 7 करोड़ के फ़्लैट में मरी पड़ी थी। अमेरिका में रहने वाले इंजीनियर ऋतुराज साहनी लंबे अरसे बाद अपने घर मुंबई लौटे, तो घर पर उनका सामना किसी जीवित परिजन की जगह अपनी मां के कंकाल से हुआ। बेटे को नहीं मालूम कि उसकी मां आशा साहनी की मौत कब और किन परिस्थितियों में हुई। आशा साहनी के बुढ़ापे की एकमात्र आशा ‘उनके इकलौते बेटे’ ने खुद स्वीकार किया कि उसकी मां से आखिरी बातचीत कोई सवा साल पहले बीते साल अप्रैल में हुई थी। 23 अप्रैल 2016 को मां ने ऋुतुराज से कहा था कि बेटा! अब अकेले नहीं रह पाती हूँ। या तो अपने पास अमेरिका बुला लो या फिर मुझे किसी ओल्डएज होम में भेज दो। बेटे ऋतुराज ने आशा साहनी को ढाढस दिया कि मां फिक्र न करे, वह जल्द ही इंडिया आएगा। डोनाल्ड ट्रंप के अमेरिका में किसी भारतीय का नौकरी करना और डालर कमाना आसान नहीं रहा। लिहाजा बेटे ने अपने हिसाब से तो जल्दी ही की होगी, वह सवा साल बाद मॉं से किया वायदा पूरा करने इंडिया आया, पर माँ के हिसाब से देर हो गई और इसी बीच न जाने कब आशा साहनी की मौत हो गई। रविवार सुबह एयरपोर्ट से घर पहुंचने के बाद ऋतुराज साहनी ने काफी देर तक दरवाजे पर दस्तक दी। जब कोई जवाब नहीं आया तो उन्होंने दरवाजा खुलवाने के लिए एक चाबी बनाने वाले की मदद ली। भीतर घुसे तो उन्हें अपनी 63 साल की मां आशा साहनी का कंकाल मिला।

आशा साहनी 10वें फ्लोर पर बड़े से फ़्लैट में अकेले रहती थीं। उनके पति की मौत 2013 में हो चुकी थी। पुलिस के मुताबिक 10वीं मंजिल पर स्थित दोनों फ्लैट साहनी परिवार के ही हैं, इसलिए शायद पड़ोसियों को कोई बदबू नहीं आई। हालांकि पुलिस के मुताबिक यह भी हैरानी की बात है कि किसी मेड या फिर पड़ोसी ने उनके दिखाई न देने पर गौर क्यों नहीं किया। बेटे ने अंतिम बार अप्रैल 2016 में बात होने की जानकारी ऐसे दी, मानों वह अपनी मां से कितना रेगुलर टच में था। जैसा कि बेटे से बातचीत में आशा ने संकेत भी किया था कि वह इतनी अशक्त हो चुकी थीं कि उनका अकेले चल-फिर पाना और रहना मुश्किल हो गया था। करोड़ों डालर कमाने वाले बेटे की मां और 12 करोड़ के दो फ़्लैटों की मालकिन आशा साहनी को अंतिम यात्रा तो नसीब नहीं ही हुई, इससे भी बड़ी विडंबना यह हुई, जैसा कि प्रत्यक्षदर्शियों का अनुमान है कि संभवत: आशा की मौत भूख-प्यास के चलते हुई।भारत के महाराष्ट्र प्रान्त की आर्थिक राजधानी मुंबई के अंधेरी इलाके लोखंडवाला की पाश लोकलिटी ‘वेल्स कॉट सोसायटी’ में इस अकेली बुजुर्ग महिला की मौत जिन हालात में हुई, उनसे यह साफ है कि कोलंबिया विश्वविद्यालय की रिपोर्ट में छुपी पश्चिमी सभ्यता की त्रासदी हम भारतीयों के दरवाजे पर दस्तक देती लग रही है। इस रिपोर्ट के मुताबिक मौत का इंतजार ही इस सदी की सबसे खौफनाक बीमारी और आधुनिक जीवन शैली की सबसे बड़ी त्रासदी है। अशक्त मां की करुण पुकार सुनकर भी अनसुना कर देने वाला जब अपना इकलौता बेटा ही हो, तब ऐसे समाज में रिश्ते-नातेदारों से क्या अपेक्षा की जाय? आशा साहनी की मौत ने एक बार फिर चेताया है कि भारत के शहरों में भी सामाजिक ताना-बाना किस कदर बिखर गया है। अब समय नहीं बचा है, अब भारतवर्ष को चेत जाना चाहिए। भारत में भारतीय संस्कृति नहीं बची तो कुछ नहीं बचेगा।”

Several other individuals on Facebook and Twitter posted the image with the same narrative.

Unrelated image

With a reverse image search of the image on Russian search engine Yandex, Alt News found the same image posted on a blog on October 14, 2016. According to the blog, the human skeleton was found in a pastor’s house in Nigeria’s Ogun state. Daily Post, a Nigerian newspaper, on October 14, reported, “The news made the rounds on Friday of a certain unnamed pastor whose late sister’s skeleton was found in his apartment in Peace Land Estate in the Akute area of the state. Nemesis caught up with the man whose landlady tried to evict him from his flat over late payment of rent, as he had not paid his rent for a year.” The landlady had invaded into the pastor’s house and discovered the said skeleton.

According to an October 17, 2016 report by the media outlet, Sunday Oluwatobiloba, the pastor was arrested by the police and later paraded before the press at the police headquarters. The skeleton was alleged to be of Oluwatobiloba’s sister Funmi, who reportedly went missing in a mysterious manner since 2010. The pastor and his second sister Elizabeth believed that their sister Funmi was on a spiritual journey. The pastor was quoted by the newspaper saying, “She (Funmi) has gone on a spiritual journey and she has been in that position in the last six years. We (he and Elizabeth) are expecting her back before the end of this year and we are not afraid to live with her.”

The story of Asha Sahani

Despite the fact that the image is from Nigeria, the story of an NRI named Rituraj Sahani finding his mother Asha Sahani’s corpse is real. Asha Sahani is a 63-year-old woman whose skeletal remains were found at an Oshiwara high-rise in Mumbai on August 6, 2017. It was reported that Rituraj, a software engineer settled in the U,S found his mother’s skeletal in their house after returning to India. According to a report published by Hindustan Times, Oshiwara police conducted a panchmnama on August 8, 2017, and found a suicide note that read, “No one should be held responsible for my death”. Police also found an empty bottle and a spray while recovering Rs 50,000 in cash.

“The police said Rituraj was unable to return to India because he was embroiled in divorce proceedings initiated by his Indian-origin wife staying in the US. Rituraj has custody of their 10-year-old son, said an officer. The police said before April 2016, Sahani had visited US for a week and stayed with Rituraj. She had told him not to worry about her and that she can live in an old age home, Rituraj told police in his statement.”, stated the report. Moreover, the police also said that the son spoke to the mother last in April 2016 and used to visit her every year or once in six months.

In conclusion, an image of a human skeleton found from pastor’s home in Nigeria was shared as 62-year-old woman Asha Sahani’s remains recovered from her Mumbai apartment in 2017.

Donate to Alt News!
Independent journalism that speaks truth to power and is free of corporate and political control is possible only when people start contributing towards the same. Please consider donating towards this endeavour to fight fake news and misinformation.

Donate Now

To make an instant donation, click on the "Donate Now" button above. For information regarding donation via Bank Transfer/Cheque/DD, click here.
You could follow Alt News posts either via our Facebook page or by following us on Twitter or by subscribing to our E-mail updates.


Send this to a friend