सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल है जिसमें कुछ लड़के-लड़कियां दिख रही हैं. तस्वीर पर लिखे टेक्स्ट के मुताबिक, मध्यप्रदेश के एक हुक्का बार में हुई छापेमारी में 30 लोगों को पकड़ा गया था. इनमें 15 लड़के और 15 लड़कियां थीं जिसमें सभी लड़कियां हिन्दू थीं और सभी लड़के मुस्लिम समुदाय से थे. फ़ेसबुक यूज़र अनामिका गुप्ता ने ये तस्वीर पोस्ट करते हुए लिखा कि ये सोचने लायक बात है. (पोस्ट का आर्काइव लिंक)

चिंतन करने का विषय है

Posted by Anamika Gupta on Tuesday, 7 September 2021

फ़ेसबुक पर ये तस्वीर वायरल है.

ट्विटर पर भी इसे शेयर किया गया है. व्हाट्सऐप पर ये तस्वीर इसी दावे के साथ शेयर की जा रही है.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

गूगल पर रिवर्स इमेज सर्च से ऑल्ट न्यूज़ को ये तस्वीर 24 जुलाई 2020 के एमपी ब्रेकिंग न्यूज़ के आर्टिकल में मिली. आर्टिकल के मुताबिक, भोपाल में एक जन्मदिन की पार्टी में पुलिस ने छापा मारा था. इस दौरान, पुलिस ने 26 लड़के और 7 लड़कियों को हिरासत में लिया था. भोपाल में 24 जुलाई से सम्पूर्ण लॉकडाउन लगाया गया था. उस दौरान, शाहपुर क्षेत्र के ट्रायोलॉजी हुक्का लाउंज में कुछ लोग पार्टी कर रहे थे. पुलिस को जब इसकी ख़बर लगी तो उन्होंने छापेमारी कर इन लोगों को गिरफ़्तार किया. पब के मैनेजर रवि राय और मालिक मनोज रामचंदानी को भी धारा 144 के उल्लंघन में गिरफ़्तार किया गया.

रिपोर्ट में बताया गया कि ये पार्टी नावेद खान नाम के एक व्यक्ति ने दी थी. आर्टिकल में नावेद को पहले भी अलग-अलग मामलों में गिरफ़्तार किये जाने की बात बताई गई थी.

लाइव हिंदुस्तान ने भी इस घटना के बारे में 24 जुलाई 2020 को रिपोर्ट पब्लिश की थी.

This slideshow requires JavaScript.

लेकिन इन रिपोर्ट्स में हिरासत में लिये गए लोगों के नाम या धर्म की कोई जानकारी नहीं दी गयी थी. इसके चलते ऑल्ट न्यूज़ ने शाहपुर पुलिस से संपर्क किया. हमें बताया गया कि इस घटना में कोई सांप्रदायिक ऐंगल नहीं था.

7 सितंबर 2020 को विश्वास न्यूज़ ने इस वायरल तस्वीर के बारे में फ़ैक्ट-चेक आर्टिकल पब्लिश किया था. आर्टिकल में भोपाल पुलिस के प्रवक्ता नवीन कुमार के हवाले से बताया गया, “संबंधित मामले में कुल 33 लोगों को हिरासत में लिया गया था, जिसमें 7 लड़कियां और 26 लड़के शामिल थे। सात लड़कियों में से छह हिंदू, जबकि एक ईसाई थी। वहीं, 26 लड़कों में से 19 मुस्लिम और सात हिंदू थे।” नवीन कुमार ने विश्वास न्यूज़ के साथ एक लिस्ट शेयर की थी जिसमें हिरासत में लिये गए लोगों के नाम दिए गए थे. इस लिस्ट में 7 हिन्दू लड़के थे.

कुल मिलाकर, 2020 में भोपाल के एक पब से लॉकडाउन का उल्लंघन करने के आरोप में 30 से ज़्यादा लोग हिरासत में लिये गए थे. इस घटना की एक तस्वीर सोशल मीडिया पर सांप्रदायिक ऐंगल से शेयर की गई कि पकड़ी गयी सभी लड़कियां हिन्दू थीं जबकि सभी लड़के मुस्लिम समुदाय से थे.


‘लव-जिहाद’ के शक़ में नाबालिग लड़के को पीटा, वीडियो इसी दावे के साथ वायरल, लड़का-लड़की एक ही समुदाय से :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: