लव-जिहाद के दावे से सोशल मीडिया पर एक लड़की की 3 तस्वीरें शेयर हो रही हैं. पहली तस्वीर में एक लड़का-लड़की साथ में खड़े दिख रहे हैं. वहीं दूसरी और तीसरी तस्वीरों में लड़की के शरीर पर कुछ चोटें दिख रही हैं. ये तस्वीरें केरला की बताकर शेयर हो रही हैं. दावा है कि ये लड़की हिन्दू है और साथ में खड़ा व्यक्ति उसका पति है जो कि मुस्लिम समुदाय से है. 25 अगस्त को फ़ेसबुक ग्रुप ‘सोनू ठाकुर योगी आदित्यनाथ भक्त टीम‘ में ये तस्वीरें इसी दावे के साथ पोस्ट हुईं. आर्टिकल लिखे जाने तक इसे 2,200 बार लाइक और 547 बार शेयर किया गया है.

फ़ेसबुक और ट्विटर पर ये तस्वीरें इसी दावे के साथ शेयर की गई हैं. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

फ़ैक्ट-चेक

रिवर्स इमेज सर्च करने पर पहली तस्वीर 26 जून 2020 के ढाका ट्रिब्यून के एक आर्टिकल में मिली. आर्टिकल के मुताबिक, ये महिला ढाका, बांग्लादेश की सुमैया हसन है. 26 जून 2020 को सुमैया ने फ़ेसबुक पर एक पोस्ट करते हुए अपनी कुछ तस्वीरें शेयर कीं जिसमें वो चोटिल अवस्था में दिखाई दे रही हैं. पोस्ट में उन्होंने अपने पति और ससुरालवालों पर दहेज के कारण पीटने का आरोप लगाया. सुमैया की पोस्ट पर संज्ञान लेते हुए शाहबाग, ढाका पुलिस स्टेशन के इन-चार्ज ने सुमैया के पति ज़ाहिद हसन से पूछताछ की थी. पुलिस के मुताबिक, सुमैया और ज़ाहिद ने कुछ साल पहले शादी की थी. उनके बीच पहले से ही तनाव था और सुमैया ने पहले भी ससुरालवालों के खिलाफ़ एक शिकायत दर्ज करवाई थी. लेकिन बाद में परिवारवालों ने इसे आपस में ही सुलझा लिया था.

27 जून, 2020 की ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट में सुमैया की एक और तस्वीर शेयर की गई थी. तस्वीर में सुमैया की आंखों पर चोट के निशान साफ़ दिखाई देते हैं. आर्टिकल के मुताबिक, सुमैया हसन ने 26 जून को फ़ेसबुक पर 6 तस्वीरें पोस्ट की थी. कुछ ही घंटों में सुमैया की ये पोस्ट वायरल हो गई. सुमैया ने अपने पति और देवर को ड्रग अडिक्ट बताया था. सुमैया ने आरोप लगाया था कि ससुरालवालों ने उसके छोटे भाई को मारने की धमकी दी थी जिस कारण वो इतने समय से चुप थी. रिपोर्ट के मुताबिक, पुलिस ने ज़ाहिद को गिरफ़्तार कर लिया था. पुलिस ने सुमैया की चोट के बारे में बताया कि ये चोट उस वक़्त की ही थी लेकिन कोई डॉक्टर ही इस बात की पुष्टि कर सकता है कि ये चोट कितने दिन पुरानी है. सुमैया के ससुर अब्दुर्रहीम ने इन आरोपों को ग़लत बताया. उनका कहना था कि ज़ाहिद सुमैया को पीटा करता था लेकिन इसमें उनका या उनके परिवार का कोई लेना-देना नहीं था. इस रिपोर्ट में कहीं भी ये नहीं बताया गया है कि सुमैया हसन ने अपना धर्म बदलकर शादी की थी.

सुमैया हसन के फ़ेसबुक हैंडल से ये तस्वीरें शेयर की गयी थी जिसे बाद में एक स्पष्टीकरण के साथ डिलीट कर लिया गया. सुमैया ने लिखा कि बहुत से लोगों को नहीं पता है कि उनकी समस्या सॉल्व हो गयी है. इसलिए वो चाहती हैं कि लोग ये तस्वीरें शेयर न करें. इस पोस्ट में ये भी लिखा है कि पुलिस ने उनसे शिकायत दर्ज करवाने के लिए कहा था. लेकिन उन्होंने पुलिस से निवेदन किया कि वो नहीं चाहती कि केस दर्ज हो. अपने 8 महीने बच्चे का भविष्य देखते हुए उन्होंने अपने पति से सुलह कर ली है.

Plz sobai shere kore den amn onk a jne na j amr problem thik hoise

Amar facebook status dekhe police bishoyti amole…

Posted by Sumaiya Hassan on Saturday, 27 June 2020

सुमैया हसन के एक फ़ेसबुक पोस्ट में वो वही कपड़े पहने दिखती हैं जो वायरल हो रही तस्वीरों में हैं.

कुल मिलाकर, बांग्लादेश में घरेलू हिंसा की शिकार हुई चोटिल लड़की की कुछ तस्वीरें भारत की बताकर शेयर हुईं. तस्वीरों के साथ ये झूठा दावा किया गया कि ये लड़की हिन्दू है. पहले भी अलग-अलग घटनाओं की तस्वीरें लव जिहाद के झूठे दावे से सोशल मीडिया पर शेयर की गई थी. लव जिहाद के झूठे दावे सोशल मीडिया पर अक्सर चलाए जाते हैं जिनके बारे में पब्लिश हुई हमारी फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट्स आप यहां पर पढ़ सकते हैं.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.