ख़बरों के अनुसार, 7 जुलाई की सुबह उत्तरी कश्मीर के हंदवाडा ज़िले में हुई एक मुठभेड़ में सुरक्षाबलों ने हिज़बुल मुजाहिदीन के कमांडर मेहराज़ुद्दीन हलवाई उर्फ उबैद को मार गिराया. इस घटना की जानकारी देते हुए टाइम्स नाउ, लल्लनटॉप, पत्रिका, जागरण, हिंदुस्तान टाइम्स बांग्ला, IANS, टीवी9 भारतवर्ष, द न्यू इंडियन एक्सप्रेस, गुजरात समाचार, द स्टेट्समैन, एशियानेट, स्वराज्य इत्यादि ने मेहराजुद्दीन की बताते हुए एक तस्वीर भी शेयर की.

CNN न्यूज़ 18 के एडिटर आदित्य राज कौल और टाइम्स ऑफ़ इंडिया के पत्रकार राज शेखर झा ने भी ये तस्वीर शेयर करते हुए इस ख़बर की जानकारी दी. (आर्काइव लिंक)

BJP दिल्ली के प्रवक्ता अजय शेहरावत ने भी ये तस्वीर शेयर की.

फ़ैक्ट-चेक

हमने देखा कि ट्विटर पर कुछ लोग इस तस्वीर वाले पोस्ट पर रिप्लाई करते हुए कह रहे हैं कि ये कश्मीर में मारे गए आतंकी मेहराज़ुद्दीन की तस्वीर नहीं है.

तस्वीर का गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने से हमें मालूम चला कि इसमें दिख रहे शख्स का नाम उमर हुसैन है. सितम्बर 2015 में छपी BBC की एक रिपोर्ट के अनुसार- ‘ब्रिटेन का रहने वाला उमर हुसैन सोशल मीडिया के जरिए ‘जिहाद’ को बढ़ावा देता था. वो इस्लामिक स्टेट समर्थक था. इस्लामिक स्टेट ने उसे उन 700 लोगों में चुना था, जो सीरिया और इराक के आतंकी संगठनों से जुड़ने वाले थे.’

मिरर में छपी मार्च 2016 की रिपोर्ट में भी इस तस्वीर को उमर हुसैन का बताया गया. रिपोर्ट में बताया गया है कि कैसे ISIS से जुड़ा उमर हुसैन UK को निशाना बनाने के लिए फ़ेसबुक के ज़रिये आतंकियों से जुड़ता था.

BBC की 2018 और द सन की 2019 की रिपोर्ट में उमर हुसैन की मौत की खबर दी गयी है. BBC ने लिखा है कि सीरिया में एक हमले के बाद उसे मरा हुआ मान लिया गया था. वहीं द सन की रिपोर्ट के अनुसार सीरिया में उसने एक आत्मघाती हमले को अंजाम दिया था जिसमें उसकी मौत हो गयी थी. हालांकि, ये स्पष्ट नहीं है कि उसकी मौत कब और कैसे हुई थी.

This slideshow requires JavaScript.

यानी, आतंकी संगठन ISIS से जुड़े उमर हुसैन की तस्वीर पत्रकारों और मीडिया पोर्टलों ने हिज़बुल मुजाहिदीन के कमांडर मेहराजुद्दीन हलवाई की तस्वीर बताकर शेयर की. बाद में कुछ जगहों पर ये तस्वीर हटा दी गयी लेकिन बाकी जगहों पर ये तस्वीर ज्यों की त्यों बरकरार है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

Priyanka Jha specialises in monitoring and researching mis/disinformation at Alt News. She also manages the Alt News Hindi portal.