रेलवे स्टेशन पर बनाया गया एक वीडियो सोशल मीडिया पर इस दावे के साथ वायरल है, “श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में रेलवे स्टेशन बन कर तैयार हो गया है.” नीचे दिए पोस्ट को आर्टिकल लिखे जाने तक 2,800 से अधिक बार शेयर किया गया है.

 

श्रीराम जन्मभूमि अयोध्या में रेलवे स्टेशन बन कर तैयार हो गया है
जय जय श्री राम
जय श्री राम

Posted by पवन देव कौशिक on Thursday, 8 July 2021

कई ट्विटर यूज़र्स ने इस वीडियो को इसी कैप्शन के साथ शेयर किया है.

ये वीडियो फ़ेसबुक पर काफ़ी तेजी से शेयर किया जा रहा है जिसे हजारों लाइक्स और व्यूज मिल रहे हैं.

फ़ैक्ट-चेक

इस वीडियो को करीब से देखने पर हमने पाया कि इसमें 00:33 सेकेंड पर गुजरात टूरिज़्म का लोगो दिखाई देता है. साथ ही हमने ये भी देखा कि वीडियो पर एक ट्विटर यूज़र का कमेंट है कि ये वीडियो गांधीनगर रेलवे स्टेशन का है.

‘अहमदाबाद-हिम्मतनगर-उदयपुर ब्रॉड गेज़ कन्वर्ज़न’ नाम के एक फेसबुक पेज़ ने भी यही वीडियो “गांधीनगर रेलवे स्टेशन” कैप्शन के साथ 4 जुलाई को पोस्ट किया था. हमने जगह का सच जानने के लिए गांधीनगर रेलवे स्टेशन का दौरा किया. नीचे वायरल वीडियो से ली गयी एक तस्वीर और गांधीनगर रेलवे स्टेशन पर ली गई तस्वीर की तुलना है.

इस तरह, गांधीनगर रेलवे स्टेशन का एक वीडियो ‘नवीनीकृत’ अयोध्या रेलवे स्टेशन का बताकर वायरल है. गौरतलब है कि अयोध्या जंक्शन यूपी के फैज़ाबाद ज़िले के दो रेलवे स्टेशनों में से एक है. सरकार ने 2017-18 में अयोध्या जंक्शन को राम मंदिर मॉडल की तरह बनाने के लिए मंजूरी दी थी. 28 सितंबर, 2020 को जारी रेल मंत्रालय की प्रेस रिलीज़ के अनुसार, इस काम का पूरा खर्च 104.77 करोड़ रुपये है. इस परियोजना को 2021-22 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा गया है. हाल ही में, वाराणसी के मणि मंदिर का एक वीडियो ‘नवीनीकृत’ काशी विश्वनाथ मंदिर के रूप में वायरल था.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

Aqib is monitoring and researching mis/disinformation at Alt News