[डिस्क्लेमर: वीडियो में हिंसा है. पाठक इस बात को ध्यान में रख कर ये वीडियो को देखने या न देखने का निर्णय लें.]

सोशल मीडिया पर कांवड़ के जुलूस की एक वीडियो क्लिप वायरल है. वीडियो में एक शख्स, कांवड भक्तों को ले जा रहे ट्रक के आगे कूद जाता है. बता दें कि कांवड़ यात्रा हिंदू कैलेंडर के सावन महीने में आयोजित होनेवाली एक तीर्थयात्रा है. इसके दौरान भगवा पहने शिव भक्त गंगाजल लेकर यात्रा पर निकलते हैं. वो पूरे भारत में अलग-अलग शिवलिंग पर जल चढ़ाते हैं. दक्षिण भारत में इसे कावड़ी आट्टम के नाम से जाना जाता है. पौराणिक कथाकार देवदत्त पटनायक ने अपने ब्लॉग पर दो संस्कृतियों के बारे में व्याख्या की है.

वीडियो में तीन ट्रक तेज़ आवाज़ में म्यूजिक बजाते हुए गुज़र रहे हैं. लेकिन इस वीडियो का अंत अचानक से ऐसे वक़्त होता है जब एक आदमी तीसरे ट्रक के नीचे कूद जाता है.

 

वायरल वीडियो का एक दृश्य

ये वीडियो व्हाट्सऐप पर काफी लंबे टेक्स्ट के साथ शेयर किया जा रहा है. मेसेज के मुताबिक, इस घटना में कावड़ियों को फंसाने के लिए वो व्यक्ति “जानबूझकर” ट्रकों के बीच में कूदा था. मेसेज में आगे बताया गया है कि ट्रक के सामने कूदने वाला व्यक्ति मुस्लिम समुदाय से था और इस घटना से उत्तर प्रदेश के सहारनपुर ज़िले के देवबंद शहर में सांप्रदायिक तनाव पैदा हो गया है. इसमें ये भी ज़िक्र किया गया है कि पुलिस ने कावड़ियों के खिलाफ़ मामला दर्ज किया है.

वायरल मेसेज में आगे लिखा है कि देवबंद एक सांप्रदायिक रूप से संवेदनशील ज़गह है. साथ ही सवाल उठाया गया है कि मुस्लिम व्यक्ति कावड़ियों के ट्रक के बीच क्यों कूद गया?

[वायरल टेक्स्ट: आज सुबह “देवबन्द” जो कि (अतिसंवेदनशील जगह हैं) में “कावड़ियों” के “ट्रक” के नीचे एक “मुस्लिम” शख्स की मौत हो जाती हैं जिसको लेकर बवाल खड़ा हो गया कि “कावड़ियों” ने जानबूझ कर इस व्यक्ति को मारा हैं पुलिस ने सभी “कावड़ियों” के खिलाफ केस तुरत दर्ज कर कार्यवाही शुरू कर दी लेकिन भला हुआ एक बच्चे का जो एक जगह खड़ा होकर “कावड़ियों” की “झांकी” की विडीयो बना रहा था और ये घटना भी उस बच्चे के मोबाइल में कैद हो गई वीडियो में सामने आया कि मरने वाला “मुस्लिम” शख्स जानबूझ कर “कावड़ियों” के ट्रक के पिछले पीहिये के नीचे कूद गया और उसकी मोके पर ही मौत हो गई चूंकि “देवबन्द” अति संवेदनशील जगह हैं ऐसी घटना से जातिय दँगा भड़ने की पूरी पूरी सम्भावना रहती हैं लेकिन इस बच्चे की बनी वीडियो से मामला शांत हो गया लेकिन सोचने वाली बात ये हैं कि आखिर मरने वाले “मुस्लिम” शख्स ने सुसाइड करने के लिए “कावड़ियों” का ही ट्रक को क्यो चुना कही ये कोई सोची समझी साजिश तो नही थी]

इस दावे की सच्चाई जानने के लिए ऑल्ट न्यूज़ के व्हाट्सऐप हेल्पलाइन नंबर (+91 7600011160) पर कई रिक्वेस्ट आयी हैं.

वीडियो पोस्ट किए बिना, मधु पूर्णिमा किश्वर ने पूरे व्हाट्सऐप टेक्स्ट को एक ट्वीट थ्रेड में शेयर किया और यूपी के सीएम योगी आदित्यनाथ को टैग करते हुए पूछा कि क्या ये सच है? ऑल्ट न्यूज़ ने पहले भी कई बार मधु किश्वर को ग़लत जानकारियां शेयर करते हुए पकड़ा है. (आर्काइव्ड लिंक)

वीडियो वेरिफ़िकेशन

ऑल्ट न्यूज़ ने InVID नामक एक वीडियो वेरिफ़िकेशन टूल का इस्तेमाल करके वायरल क्लिप के एक फ़्रेम को रिवर्स इमेज सर्च किया. इससे हमें 2017 में यूट्यूब पर एक रीजनल न्यूज़ चैनल का वीडियो मिला. इसमें वायरल वीडियो का फुटेज शेयर किया गया है. यानी, ये घटना तकरीबन 5 साल पुरानी है.

सोशल मीडिया पर हाल में इस वीडियो के वायरल होने के बाद, सहारनपुर पुलिस ने एक प्रेस नोट ट्वीट किया. पुलिस ने बताया कि वीडियो में दिख रहे व्यक्ति की मौत के बारे में सोशल मीडिया किये गए दावे भ्रामक हैं. इसके अलावा, ऑल्ट न्यूज़ ने देवबंद के एक पुलिस अधिकारी से भी बात की जिन्होंने हमें यही बताया.

हालांकि पुलिस ने अपने प्रेस नोट में उस व्यक्ति या उसके धर्म की पहचान नहीं की है. आगे, ऑल्ट न्यूज़ ने की-वर्ड्स सर्च किया. हमें 2017 की अलग-अलग न्यूज़ रिपोर्ट्स मिलीं जिसमें इस घटना के बारे में बताया गया है.

जागरण के मुताबिक, ट्रक के बीच कूदने वाला व्यक्ति लहसवाड़ा गांव का रहने वाला था जिसका नाम वाहिद था. उसकी उम्र 36 साल थी. घटना की ख़बर मिलते ही पुलिस तुरंत मौके पर पहुंची और शव को पोस्टमॉर्टम के लिए भेज दिया. सहारनपुर के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक बबलू कुमार ने स्क्रॉल को बताया, “दुर्घटना सुबह करीब 8 बजे हुई और वीडियो दोपहर 1 बजे के आसपास वायरल हो गया. ये एक संयोग या सुनियोजित मामला भी हो सकता है क्योंकि वो आदमी थोड़ा परेशान था जैसा कि उसके परिवार ने दावा किया.”

स्कूप वूप से बात करते हुए देवबंद के स्टेशन हाउस ऑफ़िसर (SHO) पंकज कुमार त्यागी ने मौत के पीछे किसी भी साजिश से इनकार किया. SHO ने ये भी कहा कि वाहिद की मां ने पुलिस को लिखित में बयान दिया था कि वो इस मामले में FIR दर्ज नहीं करना चाहती. SHO त्यागी ने कहा, ‘शायद इसके पीछे कुछ निजी मुद्दे हैं’.

UP पुलिस की फ़ैक्ट-चेक टीम ने भी मधु किश्वर के ट्विटर थ्रेड को भ्रामक बताया है.

कुल मिलाकर, कांवड यात्रा करने वाले श्रद्धालुओं को ले जा रहे ट्रकों के बीच कूदकर एक व्यक्ति के आत्महत्या करने का पुराना वीडियो, फिर से सांप्रदायिक दावे के साथ वायरल शेयर किया गया.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

Tagged:
About the Author

Archit is a senior fact-checking journalist at Alt News. Previously, he has worked as a producer at WION and as a reporter at The Hindu. In addition to work experience in media, he has also worked as a fundraising and communication manager at S3IDF.