सोशल मीडिया पर वायरल एक वीडियो में कुछ मुस्लिम लड़के पोस्टर टांग कर यति नरसिंहानंद सरस्वती को धमकी दे रहे हैं. वीडियो में मौजूद लड़के ‘सर तन से जुदा’ जैसे उन्मादी नारे लगा रहे हैं. कई सोशल मीडिया यूज़र्स और मीडिया चैनलों ने ये वीडियो हाल का बताकर चलाया है.

केंद्रीय मंत्री व भाजपा नेता गजेंद्र सिंह शेखावत ने ये वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा कि जयपुर में “सर तन से जुदा” करने की धमकी वाले पोस्टर्स लगाए गए लेकिन पुलिस का कहीं अता-पता नहीं है. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

टाइम्स नाउ नवभारत ने ये वीडियो ट्वीट करते हुए ‘#BREAKING’ लिखा है. ट्वीट के मुताबिक, जयपुर में ‘सर तन से जुदा’ नारे का एक नया वीडियो सामने आया. चैनल ने लिखा कि भाजपा सांसद गजेंद्र सिंह शेखावत ने इसे शेयर किया है. (आर्काइव लिंक)

इंडिया टीवी ने इसे उदयपुर में टेलर कन्हैया लाल की हत्या के बाद का बताकर चलाया. साथ ही उन्होंने ट्वीट में लिखा, “राजस्थान में कन्हैयालाल पार्ट टू की धमकी सर तन से जुदा वालों का नया ‘मैसेज’आ गया ?” (आर्काइव लिंक). एक अन्य रिपोर्ट में इंडिया टीवी ने नारा लगाने वाले लड़कों को गिरफ्तार होने कि बात कही. साथ ही उन्होंने इस रिपोर्ट में यह भी दावा किया कि आरोपी पिछले तीन-चार दिन से भड़काऊ वीडियो बनाकर वायरल कर रहे थे.

पाकिस्तानी-कैनेडियन कॉलम्निस्ट तारेक फतह ने भी ये वीडियो ट्वीट किया. हालांकि, इस ट्वीट में ये नहीं बताया गया है कि वीडियो कहां का है और ये घटना कब की है. (आर्काइव लिंक)

ये वीडियो ट्विटर और फ़ेसबुक पर वायरल है.

फ़ैक्ट-चेक

हमने देखा कि केंद्रीय मंत्री गजेंद्र सिंह शेखावत के ट्वीट पर जयपुर पुलिस ने जवाब देते हुए इसे अप्रैल 2021 की घटना बताया है. यानी, ये एक साल पहले हुई घटना का वीडियो है. पुलिस ने ये भी बताया कि आरोपियों पर नियमानुसार कार्यवाही की गई.

डीसीपी नॉर्थ परिस देशमुख ने इस मामले पर बयान देते हुए कहा कि वीडियो एक साल पुराना है. उन्होंने कहा कि वीडियो में जो लोग दिख रहे हैं उनके खिलाफ नियमानुसार कार्रवाई तत्समय की जा चुकी है. साथ ही उन्होंने इस भ्रामक वीडियो को ना शेयर करने की अपील की और इसे फैलाने वाले पर नियमानुसार कार्रवाई की जाने की हिदायत भी दी.

आगे, इस आधार पर हमने ट्विटर पर सर्च किया. ट्विटर यूज़र ‘मोटा भाई‘ ने 12 अप्रैल 2021 को ये वीडियो ट्वीट था. यानी, ये वीडियो एक साल पहले से ऑनलाइन मौजूद है.

बाद में गजेन्द्र सिंह शेखावत ने ट्वीट करते हुए स्वीकार किया कि ये वीडियो पुराना है. राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत के OSD लोकेश शर्मा ने इसे कोट ट्वीट करते हुए लिखा कि विनम्र आग्रह है पुराने वीडियो शेयर करके भ्रम न फैलाएं.

वीडियो वायरल होने के बाद तीन आरोपियों को राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया है. साथ ही पुलिस ने लोगों को हिदायत दी कि कि ऐसे वीडियोज़ न फैलाएं. इससे माहौल खराब होता है. इसे फैलाने वालों पर कानूनी कार्रवाई करने की बात भी की गई.

कुल मिलाकर, केंद्रीय मंत्री व भाजपा नेता गजेंद्र सिंह शेखावत सहित मीडिया चैनल्स और कई सोशल मीडिया यूज़र्स ने एक साल पुराना वीडियो हाल की घटना बताकर शेयर किया.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

Tagged:
About the Author

Abhishek is a journalist at Alt News.