एक कमरे में बैठी महिलाओं के समूह का वीडियो गुजराती सोशल मीडिया तंत्र में इस दावे के साथ शेयर हो रहा है कि एक बच्चा चोर गिरोह को गिरफ्तार किया गया। वीडियो में, एक आदमी जो शायद वीडियो फिल्मा रहे हैं, उन्हें महिलाओं से अपना चेहरा दिखाने के लिए कहते हुए सुना जा सकता है। फेसबुक उपयोगकर्ता भरत पटेल ने दावा किया, ”છોકરા ઉપાડી જનાર ગેંગને સાબરકાંઠાના વડાલીથી તથા ખેડબ્રહ્મા નજીકના શ્યામનગર સ્ટેન્ડ પરથી પોલીસે ૯ લેડીઝ ને ઝડપી પાડેલ. (पुलिस ने साबरकांठा के वडाली से तथा खेड़ब्रह्मा के पास श्यामनगर बस स्टैंड से बच्चा चोर गिरोह की नौ महिलाओं को गिरफ्तार किया है)” -यह संदेश दावा करता है कि पुलिस ने गुजरात के साबरकांठा जिले के वडाली शहर में महिलाओं का गिरोह पकड़ा।

 

છોકરા ઉપાડી જનાર ગેંગને સાબરકાંઠાના વડાલીથી તથા ખેડબ્રહ્મા નજીકના શ્યામનગર સ્ટેન્ડ પરથી પોલીસે ૯ લેડીઝ ને ઝડપી પાડેલ. તા-૨૮/૯/૧૯..

Posted by Bharat Patel on Saturday, 28 September 2019

फेसबुक पर कुछ और लोगों ने समान दावे के साथ वीडियो साझा किया।


जबरन वसूली करते हुए पकड़ी गईं महिलाएं

गूगल पर एक कीवर्ड-खोज से ऑल्ट न्यूज़ को 28 सितंबर, 2019 को गुजराती समाचार पोर्टल MeraNews द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट मिली। रिपोर्ट के अनुसार, पेशेवर पोशाक पहनने वाली ये महिलाएं राहगीरों और वाहन मालिकों से पैसे वसूलती थीं। वे शहर भर में में घूमती थीं और लोगों से जबरन पैसे ऐंठती थीं। अगर कोई व्यक्ति पैसे देने से इनकार करता था, तो यह समूह हंगामा खड़ा कर देता था। वडाली पुलिस ने साबरकांठा जिले में एक ट्रैफिक-अभियान के दौरान सब्ज़ी मंडी के पास इस गिरोह की नौ सदस्यों को गिरफ्तार किया था।

ऑल्ट न्यूज़ ने इस मामले को लेकर वडाली पुलिस थाने से संपर्क किया। पीएसआई परेश जानी ने सोशल मीडिया के दावों को खारिज करते हुए बताया, “महिला का यह गिरोह जिसे मैंने गिरफ्तार किया था, वह सड़कों पर धमकी देकर लोगों से पैसे निकालने के अपराध में शामिल है। इसका बच्चा चोरी से कोई संबंध नहीं है। हमने उनके खिलाफ लोगों से पैसे वसूलने की शिकायत दर्ज की है।” हमें बताया गया कि सभी को जेल भेज दिया गया है।

निष्कर्ष रूप में, पुलिस द्वारा जबरन वसूली करती हुई गिरफ्तार महिलाओं के गिरोह का वीडियो, गुजरात राज्य में बच्चा चोर की अफवाहों को बड़े पैमाने पर हवा देने के लिए सोशल मीडिया में साझा कर दिया गया।

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.