कई ट्विटर और फे़सबुक यूज़र्स एक टीचर की तस्वीर शेयर कर रहे हैं जिसमें उन्होंने एक बच्चे को अपने पास बच्चों के कैरियर में लटकाया हुआ है. इस तस्वीर के साथ वायरल टेक्स्ट है – “इनकी पत्नी की बच्चे को जन्म देते समय मौत हो गयी. लेकिन वो बच्चे को पालने और कॉलेज क्लास लेने, दोनों की ज़िम्मेदारी उठा रहे हैं. ये सच्चे हीरो हैं.”

ये तस्वीर आईएएस अवनीश शरन और अपना भारत के एडिटर इन चीफ़ योगेश मिश्रा ने शेयर की. अवनीश शरन का ट्वीट 7,000 से ज़्यादा लोगों ने रीट्वीट किया.

नीचे लगे फ़ेसबुक के स्क्रीनशॉट में देख सकते हैं कि ये दावा कितना वायरल है.

फै़क्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने इस वायरल तस्वीर का TinEye पर रिवर्स इमेज सर्च किया और हमें CNN स्पैनिश का 2016 का एक आर्टिकल मिला जहां ये तस्वीर पब्लिश हुई थी. इस आर्टिकल के मुताबिक़, तस्वीर में दिख रहा व्यक्ति मेक्सिको के इंटर-अमेरिकन यूनिवर्सिटी फ़ॉर डेवलपमेंट में पढ़ाने वाले लॉ प्रोफ़ेसर मोइसेस रेयेस संदोवल हैं.

जब उनसे पूछा गया कि वो बच्चा क्यों थामे हुए हैं तो उन्होंने कहा कि ये बच्चा उनकी 22 वर्षीय छात्रा यालेना सालस का है. उन्होंने यालेना का बच्चा इसलिए पकड़ा ताकि वो बिना किसी परेशानी के क्लास अटेंड कर पाए और लेक्चर न छूटे. 2016 में मोइसेस ने ये तस्वीर फ़ेसबुक पोस्ट करते हुए लिखा, “मेरी एक छात्रा है जिसने अपनी विभिन्न जिम्मेदारियों के बावजूद क्लास नहीं छोड़ी, तो मैंने उसका बच्चा कुछ देर के लिए पकड़ लिया ताकि वो बिना डिस्टर्ब हुए क्लास अटेंड कर सके.” उनका ये फ़ेसबुक पोस्ट 21,000 से ज़्यादा बार शेयर किया जा चुका है.

Tengo una alumna, que no ha desertado a la escuela a pesar de sus distintos roles, por eso decidí cargar a su hijo, sin interrumpir la clase para que tomara apuntes. #Acapulco

Posted by Moisés Reyes Sandoval on Wednesday, July 6, 2016

यानी, मेक्सिको के एक टीचर की 2016 की तस्वीर ग़लत दावों के साथ वायरल है. टीचर ने अपनी एक स्टूडेंट का बच्चा पकड़ा हुआ है. लेकिन लोगों ने दावा किया कि एक टीचर की पत्नी की बच्चे को जन्म देते समय मौत हो गयी और अब वो ही इसे संभाल रहे हैं.


फ़र्ज़ी पत्रकारों की फ़र्ज़ी कहानी से लेकर किसानों के ख़िलाफ़ प्रदर्शन करने वाले BJP वर्कर्स की असलियत तक

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Archit is a graduate in English Literature from The MS University of Baroda. He also holds a post-graduation diploma in journalism from the Asian College of Journalism. Since then he has worked at Essel Group's English news channel at WION as a trainee journalist, at S3IDF as a fundraising & communications officer and at The Hindu as a reporter. At Alt News, he works as a fact-checking journalist.