चालू कुम्भ मेले में 14 अप्रैल को तीसरा शाही स्नान आयोजित हुआ जिसमें तकरीबन 14 लाख लोगों ने डुबकी लगाई. 10 से 14 अप्रैल के बीच कुम्भ मेले में 1300 लोग कोरोना से संक्रमित पाए गए थे. कई लोग कुम्भ मेले पर सवाल उठा रहे हैं कि इस महामारी के समय में कुम्भ मेले पर पाबंदी क्यों नहीं लगाई गई.

हरिद्वार कुम्भ मेला 1 अप्रैल से शुरू हुआ था. ये हिन्दू त्योहार हर 12 वर्षों में एक बार मनाया जाता है. कुम्भ मेले का आयोजन इलाहाबाद (गंगा-यमुना सरस्वती संगम), हरिद्वार (गंगा), नासिक (गोदावरी) और उज्जैन (शिप्रा) में आयोजित होता है. इस साल ये त्योहार 30 अप्रैल तक मनाया जाएगा. इस दौरान, कुम्भ मेला में उमड़ी भीड़ की तस्वीरें आप नीचे देख सकते हैं.

पहली तस्वीर

इस दौरान, साधुओं की एक तस्वीर शेयर करते हुए सोशल मीडिया यूज़र्स लिख रहे हैं, ‘साधुओं ने मास्क इतना नीचे क्यों पहना है’. बिज़नसमेन हर्ष गोयनका ने ये तस्वीर शेयर करते हुए लिखा है, “इस बीच कुम्भ मेला में इंटेरनेशनल प्रेस आश्चर्य में है कि हम अपना मास्क कितना नीचे पहन रहे हैं.” फ़िलहाल हर्ष गोयनका ने ये ट्वीट डिलीट कर दिया है लेकिन ट्वीट का आर्काइव वर्ज़न आप यहां पर देख सकते हैं. हर्ष गोयनका ने पहले भी सोशल मीडिया पर कई गलत जानकारियां शेयर की हैं जिसके बारे में ऑल्ट न्यूज़ की फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट्स आप यहां पर पढ़ सकते हैं.

पत्रकार राजू परुलेकर ने भी ये तस्वीर ट्वीट की है. (आर्काइव लिंक)

अभिनेत्री सिमी अग्रवाल ने भी ये तस्वीर ट्वीट की है. (आर्काइव लिंक)

फ़ेसबुक और ट्विटर पर और भी कई यूज़र्स ने ये तस्वीर शेयर की है.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

आसान से रिवर्स इमेज सर्च से मालूम हुआ कि ये तस्वीर हाल की नहीं बल्कि 2013 की है. ‘रिमोट लैन्ड’ नामक वेबसाइट के 14 फ़रवरी 2013 के आर्टिकल में ये तस्वीर शेयर की गई है. इस आर्टिकल में कुम्भ मेले की और भी कई तस्वीरें शेयर की गई है. ये आर्टिकल जय टिंडल ने लिखा था जो कि इस वेबसाइट के को-फ़ाउन्डर और COO है. आर्टिकल के मुताबिक, जय ने साल 2013 में इलाहाबाद में आयोजित कुम्भ मेले में हिस्सा लिया था.

इसके अलावा, जय टिंडल की वेबसाइट पर भी ये तस्वीर शेयर की गई है.

दूसरी तस्वीर

कॉलमिस्ट ज़ैनब सिकंदर सिद्दकी ने एक तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, “कुम्भ मेला कभी भी कोरोना वायरस का हॉटस्पॉट नहीं बन सकता. कुम्भ मेला में इकट्ठा हुए लोगों को कभी भी सुपरस्प्रेडर नहीं कहा जाएगा. पक्षपात और भी ज़्यादा साफ़ नहीं दिख सकता था.” (आर्काइव लिंक)

समाजवादी पार्टी लीडर रइस शेख ने ये तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, “शायद ये लोग ग्लोबल #COVID इंडेक्स में भारत का दूसरा स्थान मिलने का जश्न मना रहे हैं.”

निर्देशक राम गोपाल वर्मा ने भी ये तस्वीर ट्वीट की. (आर्काइव लिंक)

फ़ैक्ट-चेक

ये तस्वीर साल 2019 की है. इसे स्टॉक इमेज वेबसाइट अलामी पर अपलोड किया गया था. कैप्शन के मुताबिक, “इलाहाबाद, उत्तर प्रदेश, भारत. 15 जनवरी 2019. इलाहाबाद : मकर संक्रांति के मौके पर संगम पर भक्तों का जमावड़ा इकट्ठा हुआ, इलाहाबाद (प्रयागराज) में कुम्भ मेला 2019 का पहला शाही स्नान.” फोटो क्रेडिट में इस तस्वीर को क्लिक करने का श्रेय प्रभात कुमार वर्मा को दिया गया है.”

यानी, कुम्भ मेले की पुरानी तस्वीरें हाल में आयोजित कुम्भ मेले की बताकर शेयर की गई.


हरियाणा के करनाल में हो रही वेब सीरीज़ की शूटिंग के दृश्य को लोगों ने असली घटना बताकर शेयर किया :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.