नागरिकता संशोधन अधिनियम (CAA) और नेशनल रजिस्टर ऑफ सिटिजन्स (NRC) के चल रहे विरोध के संदर्भ में कथित तौर पर पुलिस की बर्बरता को दर्शाता एक वीडियो सोशल मीडिया में और खास तौर पर व्हाट्सप्प पे वायरल है। वीडियो के साथ वायरल सन्देश में दावा है कि ये असम में हाल की स्थिति को दर्शाता है। संदेश कुछ इस तरह है, “असम में NRC लागू, लोगों को घरों से उठाना शुरु हो चुका है। न्यूज़ वाले आपको ये नहीं दिखाएगी, क्योंकि वो बिक चुकी है। अब आपकी और हमारी ज़िम्मेदारी है इस वीडियो को ज़्यादा से ज़्यादा शेयर करने की। #policewalegundde” – Asam me NRC lagu, logo ko gharoo se uthana shuru ho chuka h. News wale aapko ye nahi dekhayegi, kyun ki wo bik chuki h, ab aapki aur humari zimmadari h is video ko ziyada se ziyada share karne ki. #policewalegundde”

ऑल्ट न्यूज़ के अधिकृत ऐप पर इस वीडियो की पड़ताल के कई अनुरोध आए हैं।

ऑल्ट न्यूज़ के व्हाट्सप्प नंबर, +91 76000 11160 पर 1 जनवरी, 2020 से इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिए कई मैसेज आए हैं।

Assam-WA

बांग्लादेश का पुराना वीडियो

ध्यान से देखने पर वीडियो में पुलिस की काली वर्दी पर RAB लिखा हुआ दिखता है। रैपिड एक्शन बटालियन (RAB – Rapid Action Battalion) बांग्लादेश पुलिस की अपराध और आतंकवाद विरोधी इकाई है।

RAB bangladesh

इस आधार पर हमने यूट्यूब पर कीवर्ड्स सर्च किए और थोड़ा स्क्रोल करने पर हमें यही वीडियो मिल गया, जिसे जून 2014 में यूट्यूब पर मई, 2013 में हुई बांग्लादेश की घटना बताकर अपलोड किया गया है। वीडियो का शीर्षक है, “5 May 2013 RAB & Police killing metion in Bangladesh”

6 मई, 2013 को प्रकाशित BBC की रिपोर्ट के अनुसार, बांग्लादेश में हुए प्रदर्शन में टकराव से 27 लोगों की मौत की खबर है। इस रिपोर्ट में आगे लिखा है, “मृतकों और घायलों की संख्या की अलग-अलग खबरें आ रही है, लेकिन पुलिस ने पुष्टि की है कि कांचपुर में मृतकों में दो पुलिस अधिकारी और सुरक्षा बल के एक सदस्य शामिल थे। केंद्रीय ढाका में एक छत से घटनाओं को देखने वाले एक गवाह ने कहा कि प्रदर्शनकारी बहुत आक्रामक थे, कुछ लोग पत्थर फेंक रहे थे, जिससे स्थिति जल्दी हिंसक हो गई … पुलिस के पास जवाब देने के अलावा कोई विकल्प नहीं था।”

bbc

6 मई, 2013 को Channel 4 News ने इस दंगे के दृश्य प्रसारित किए हैं, जिसमें पुलिस और प्रदर्शनकारियों के बीच झड़प देखा जा सकता है।
Al Jazeera ने 14 मई, 2013 को इस घटना पर वीडियो रिपोर्ट प्रकाशित किया था, जिसका शीर्षक है “वीडियो का दृश्य यह सुझाव देते हैं कि बांग्लादेश मौत की संख्या को छुपा रहा” -(अनुवाद)

Al Jazeera के वीडियो का एक फ्रेम पूरी तरह वायरल वीडियो से मेल खाता है, जैसा कि नीचे तस्वीर में देखा जा सकता है। बाईं तरफ वायरल वीडियो में 02:01 मिनट का फ्रेम है और दायीं तरफ Al Jazeera के वीडियो का दृश्य।

al zajeera-viral video

इस तुलना से पता चलता है कि वायरल वीडियो बांग्लादेश का है ना कि असम का। इस वीडियो की पड़ताल द क्विंट ने भी की है।

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Priyanka Jha specialises in monitoring and researching mis/disinformation at Alt News. She also manages the Alt News Hindi portal.