एक CCTV फ़ुटेज सोशल मीडिया पर काफी शेयर किया जा रहा है. फ़ुटेज में दिख रहा है कि एक व्यक्ति तलवार से दुकान में बैठे कुछ मुस्लिम लोगों पर वार करता है. दुकान के अंदर बैठे लोग बचाव में उस पर कुर्सी, साईकल, सिलिंडर आदि फेंक कर मारते हैं. इसे ‘द कश्मीर फ़ाइल्स’ फ़िल्म के बाद का असर बताया जा रहा है. आदिल शेख नाम के ट्विटर यूज़र ने ये वीडियो इसी दावे के साथ ट्वीट किया. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

एक और ट्विटर यूज़र ने भी ये वीडियो इसी दावे के साथ ट्वीट किया. (आर्काइव लिंक)

फ़ेसबुक और ट्विटर पर ये वीडियो इसी दावे के साथ शेयर किया जा रहा है.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

वीडियो के फ़्रेम को रिवर्स इमेज सर्च करने पर ऑल्ट न्यूज़ को न्यूज़18 गुजराती का ट्वीट मिला. ट्वीट करते हुए मीडिया संगठन ने ये घटना गुजरात के सूरत शहर की बताई.

न्यूज़18 गुजराती ने 20 मार्च 2022 को इस घटना के बारे में आर्टिकल पब्लिश किया था. रिपोर्ट के मुताबिक, सूरत के भाथेना इलाके में एक दुकानदार पर मनचले लड़कों ने हमला कर दिया. लड़कों ने 2 दुकानों के मालिकों से हफ़्ते की मांग की थी. दुकानदारों ने इसके लिए मना कर दिया और पुलिस में शिकायत दर्ज करवाने का फैसला लिया था. इसके बाद, इन दोनों लड़कों ने दुकानदारों पर तलवार से हमला कर दिया था.

आगे, ऑल्ट न्यूज़ ने सलाबतपुरा पुलिस स्टेशन में संपर्क किया जहां इस मामले में दोनों पक्षों की ओर से शिकायत दर्ज करवाई गई थी. पुलिस ने बताया कि वीडियो का ‘द कश्मीर फ़ाइल्स’ फिल्म से कोई लेना-देना नहीं है. उन्होंने कहा कि ये घटना 15 मार्च को हुई थी. दोनों पक्षों के बीच में पिछले कुछ समय से आपसी विवाद चल रहा था. लेकिन ये हमला कोई सांप्रदायिक कारणों की वजह से नहीं किया गया था. इस मामले में तलवार से हमला करने वाले और दुकानदार दोनों ही मुस्लिम समुदाय से हैं. पुलिस ने इस मामले में दोनों पक्षों की ओर से शिकायत दर्ज कर ली है. और फिलहाल 2 व्यक्तियों को गिरफ़्तार भी किया जा चुका है.

बूमलाइव ने इस मामले की दर्ज FIR कॉपी देखी और पाया कि 11 आरोपियों में से 10 आरोपी मुस्लिम हैं.

इस तरह, सूरत में आपसी विवाद के चलते एक व्यक्ति ने दुकानदार पर तलवार से हमला किया था. इस घटना का वीडियो सोशल मीडिया पर द कश्मीर फ़ाइल्स फिल्म के बाद का असर बताते हुए शेयर किया.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.