बर्फ़ से ढके पहाड़ का एक वीडियो सोशल मीडिया पर इस मेसेज़ के साथ शेयर किया जा रहा है – “भारत सरकार के प्रयास के कारण कैलाश पर्वत के ऊपर का दृश्य पहली बार संभव हो सका है.” मेसेज के अनुसार, वीडियो 21 जुलाई, 2021 को लिया गया है. एक फ़ेसबुक यूज़र सचिन कुशवाह के पोस्ट को 2 हज़ार बार शेयर किया गया.

 

राम राम जी🙏🙏
भारत सरकार के प्रयास के कारण कैलाश पर्वत के ऊपर का दृश्य पहली बार संभव हो सका है जी 21-7-2021
सावन प्रारंभ हो गया आप भी दर्शन कर लें जी

Posted by Sachin KushwAh on Saturday, 24 July 2021

कई ट्विटर यूज़र्स ने इस वीडियो को इसी कैप्शन के साथ शेयर किया.

ये वीडियो फ़ेसबुक पर इसी दावे के साथ खूब वायरल हो रहा है. ऑल्ट न्यूज़ को आधिकारिक व्हाट्सएप नंबर (+91 76000 11160) पर इस मेसेज़ की सच्चाई जानने के लिए कई सारी रिक्वेस्ट मिलीं.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

InVID की मदद से Yandex पर वीडियो के एक फ़्रेम का रिवर्स सर्च करने पर हमने पाया कि इसे एक इंस्टाग्राम यूज़र ने सितम्बर 2020 में पोस्ट किया था. इस पोस्ट के कैप्शन में लिखा था, “Kilimanjaro, unforgettable moment! # tanzasafaris

किलिमंजारो पर्वत, तंजानिया का एक शांत ज्वालामुखी है. इसके कई वीडियो यूट्यूब पर मौजूद हैं. नीचे वायरल वीडियो से ली गयी तस्वीर और एक यूट्यूब वीडियो के स्क्रीनशॉट को हमने एक साथ रखा है. इनमें समानता देखी जा सकती है.

हमें आईस्टॉक पर किलिमंजारो पर्वत की एक तस्वीर भी मिली जिसमें स्पष्ट रूप से पहाड़ की चोटी दिखाई दे रही है.

यूट्यूब पे आगे सर्च करने पर हमें 23 जुलाई, 2020 को डेली न्यूज़ डिजिटल नाम के एक चैनल द्वारा अपलोड किया गया वही वीडियो मिला. वीडियो का टाइटल है – “Pilot makes 360 degrees turn around Mount Kilimanjaro|Rubani alivyoizungusha ndege Mlima Kilimanjaro (पायलट ने किलिमंजारो पर्वत के चारों ओर 360 डिग्री घुमाया)”

इस तरह, तंजानिया में किलिमंजारो पर्वत का एक वीडियो सोशल मीडिया पर कैलाश पर्वत के रूप में वायरल है. गौरतलब है कि वायरल मेसेज में भारत सरकार की सराहना करते हुए कहा गया है कि सरकार ने पहली बार कैलाश पर्वत की चोटी को देखना संभव कर दिया है. कैलाश पर्वत चीन में है जिसे हिंदू देवता शिव का घर माना जाता है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Aqib is monitoring and researching mis/disinformation at Alt News