कुछ सोशल मीडिया यूज़र्स ने अमेरिकी वाइस-प्रेसिडेंट इलेक्ट कमला हैरिस के एक तथाकथित ट्वीट का स्क्रीनशॉट शेयर किया. इस ट्वीट में वो भारत सरकार की आलोचना करते हुए इसके किसान आन्दोलन पर रवैये को ग़लत बता रही हैं. हाल ही में कनाडा के प्रधानमंत्री जस्टिन ट्रूडो ने भारतीय किसानों का समर्थन किया था. फ़ेसबुक पेज अकाल सहाय टीवी ने इस कथित ट्वीट के साथ कमला हैरिस की तस्वीर शेयर करते हुए लिखा, “अमेरिका की नयी उप-राष्ट्रपति कमला हैरिस #FarmerProtest के समर्थन में. अब वो लोग क्या कहेंगे जो किसानों को समर्थन देने के लिए जस्टिन ट्रूडो पर गुस्सा हो रहे थे.”

New Vice President of USA Kamala Harris Support #FarmerProtest
people who were upset on the Justin Trudeau statement in…

Posted by Akaal Sahai Tv on Tuesday, December 1, 2020

इसी तरह कुछ अन्य फे़सबुक यूज़र्स (पहला पोस्ट, दूसरा पोस्ट) ने भी यही दावा किया.

एक ट्विटर यूज़र दुपिंदर सिंह ने भी ये तस्वीर की जिसमें कमला हैरिस की तस्वीर के नीचे कथित ट्वीट लगा हुआ है.

कमला हैरिस नहीं जैक हैरिस का ट्वीट

हमने कमला हैरिस का ट्विटर हैंडल खंगाला और 28 नवम्बर से अब तक कोई ऐसा ट्वीट नहीं मिला. हमने इस ट्वीट का टेक्स्ट जब ट्विटर पर सर्च किया तो कनाडा के एमपी जैक हैरिस का एक ट्वीट मिला जिसमें उन्होंने वही लिखा है जो वायरल स्क्रीनशॉट में दिख रहा है. इसमें कहा गया है, “हमें देख कर यकीन नहीं होता कि भारत सरकार किस तरह किसानों के जीवनयापन पर सवाल खड़े करने वाले नये कृषि बिल के खिलाफ़ प्रदर्शन कर रहे किसानों को दबा रही है. वॉटर कैनन और आंसू गैस की बजाय भारत सरकार को किसानों के साथ खुले तौर पर संवाद करना चाहिए.”

ये ट्वीट जैक ने 12:45 बजे किया है. गौर करने वाली बात है कि वायरल स्क्रीनशॉट में भी यही समय दिख रहा है. लेकिन साफ़ तौर से किसी ने जैक के ट्वीट को एडिट कर इसे कमला हैरिस का ट्वीट दिखाने की कोशिश की है.

नीचे एडिटेड ट्वीट (बाएं) और ओरिजिनल ट्वीट (दाएं) की तुलना में देखा जा सकता है कि दोनों का समय एक ही है और एक ही बात लिखी है. इसके अलावा, जब हम किसी ट्वीट को वेब पर देखते हैं तो टाइम में ‘AM’ लिखा होता है, ‘am’ नहीं.

 

वैसे भी, अगर कमला हैरिस ऐसा ट्वीट करतीं तो ये भारत के साथ ही अमेरिकी मीडिया के लिए भी बड़ी खबर बन जाती.
कमला हैरिस ने कोई ऐसा ट्वीट नहीं किया जिसमें वो किसान आन्दोलन को लेकर भारतीय सरकार की आलोचना कर रही हैं.


भाजपा के IT सेल मुखिया अमित मालवीय ने अधूरा वीडियो शेयर करते हुए भ्रामक दावा किया

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

A journalist and a dilettante person who always strives to learn new skills and meeting new people. Either sketching or working.