सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल है. तस्वीर में मुस्लिम समुदाय से जुड़ी टोपी पहने कुछ लोग खड़े हैं जबकि उनके सामने कुछ पुलिसकर्मी सफ़ाई कर रहे हैं. तस्वीर के ऊपर लिखा है – “क्या आपने कभी पुलिस को देखा है मन्दिर साफ करते हुए..? नहीं ना ..? पर….बंगाल में ममता दीदी की पुलिस, मस्जिद साफ कर रही है, नमाज के लिए.. देखिये”. ये तस्वीर शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि पश्चिम बंगाल में पुलिस ने मस्जिद की सफ़ाई की. इसे शेयर करते हुए पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर निशाना साधा जा रहा है.

ट्विटर यूज़र अक्षय ने ये तस्वीर इसी दावे के साथ शेयर की. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

कई फ़ेसबुक ग्रुप्स में ये तस्वीर शेयर की गई है. (लिंक 1, लिंक 2, लिंक 3, लिंक 4)

This slideshow requires JavaScript.

और कुछ यूज़र्स ने ये तस्वीर ट्वीट की है. (लिंक 1, लिंक 2)

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

रिवर्स इमेज सर्च करने पर ऑल्ट न्यूज़ को ये तस्वीर 18 जून 2016 के एक फ़ेसबुक पोस्ट में मिली. AK NEWS ने ये तस्वीर पोस्ट करते हुए बताया कि भैंसा पुलिस ने रमज़ान के मौके पर पंजेशा मरकज़ में सफ़ाई की.

गौर से देखने पर मालूम हुआ कि तस्वीर में दाएं कोने पर ‘SK TOYS’ लिखा है. गूगल सर्च से ऑल्ट न्यूज़ को तेलंगाना के भैंसा में ‘SK TOYS’ नाम की दुकान मिली. इस दुकान का बोर्ड, वायरल तस्वीर में दिख रहे बोर्ड से मेल खाता है. गूगल मैप्स पर दिख रहा है कि इस दुकान के पास पंजेशा मस्जिद है. यहां ये बात कन्फ़र्म हो जाती है कि ये तस्वीर तेलंगाना के भैंसा की है.

फ़ेसबुक पेज ‘स्वच्छ तेलंगाना – स्वच्छ हैदराबाद’ से कई तस्वीरें पोस्ट की गई थीं जिसमें पुलिस सफ़ाई करते हुए दिख रही है. तेलंगाना पुलिस ने 20 जून 2016 को कुछ तस्वीरें पोस्ट करते हुए बताया था कि स्वच्छ भारत अभियान के तहत पुलिस ने मंदिर और मस्जिद में सफ़ाई की थी और पौधारोपण भी किया था. इस पोस्ट में दिख रही एक तस्वीर में पुलिस को मंदिर में सफ़ाई करते हुए देखा जा सकता है.

Adilabad
The DSP Bhainsa, CI Mudhole, SIs Tanoor, Lokeshwaram & Mudhole conducted Swatch Bharath programme and clean the Temples and Mosques and planted plants at Mudhole.

Posted by Telangana State Police on Monday, 20 June 2016

कुल मिलाकर, तेलंगाना के भैंसा में पुलिस ने स्वच्छ भारत अभियान के तहत मस्जिद में सफ़ाई की थी. इस घटना की तस्वीर पश्चिम बंगाल की बताकर झूठे दावे के साथ शेयर की गई.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: