21 जून 2021 को दुनियाभर में 7वां अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाया गया. इस दौरान, योग कर रहे कुछ लोगों की 2 तस्वीरें सोशल मीडिया पर सऊदी अरब की बताकर शेयर की गई. भाजपा कार्यकर्ता अभिषेक रॉय ने ये तस्वीरें ट्वीट कीं और कहा कि ये तस्वीरें उनके लिए हैं जो योग को एक समुदाय से जोड़कर देखते हैं. (आर्काइव लिंक)

ट्विटर यूज़र ‘@humlogindia’ ने भी ये तस्वीरें सऊदी अरब की बताकर ट्वीट कीं.

ट्विटर और फ़ेसबुक पर ये तस्वीरें सऊदी अरब की बताकर वायरल हुईं.

फ़ैक्ट-चेक

पहली तस्वीर

आसान से रिवर्स इमेज सर्च से हमें बुर्का पहनी लड़कियों के योग करने की तस्वीर जून 2015 के कुछ आर्टिकल्स में मिली. 18 जून 2015 के ‘voa news’ के आर्टिकल में इस तस्वीर को अहमदाबाद का बताया गया था. कैप्शन के मुताबिक, “17 जून 2015 को गुजरात के अहमदाबाद में मुस्लिम छात्र पहले अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर योगाभ्यास कर रहे हैं. संयुक्त राष्ट्र ने घोषणा की है कि 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के रूप में मनाया जायेगा.”

इसके अलावा, 19 जून 2015 की बीबीसी की रिपोर्ट में भी ये तस्वीर शेयर की गई थी. आउटलुक की एक रिपोर्ट में अहमदाबाद के स्कूल में योगाभ्यास कर रहे छात्रों की और भी तस्वीरें शेयर की गई थीं. इस आर्टिकल में तस्वीरें खींचने का क्रेडिट असोसिएटेड प्रेस के अजित सोलंकी को दिया गया.

This slideshow requires JavaScript.

दूसरी तस्वीर

रिवर्स इमेज सर्च करने पर ये तस्वीर 20 जून 2017 के गल्फ़ न्यूज़ के आर्टिकल में मिली. आर्टिकल के मुताबिक, अबू धाबी में बोहरा समुदाय के लोगों ने बोहरा इस्लामिक कम्युनिटी कल्चर सोसाइटी में योग के एक सेशन का आयोजन किया था. भारतीय मूल के दाऊदी बोहरा समुदाय ने तीसरे अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर इस योगा सेशन का आयोजन किया था. इसमें 500 से ज़्यादा लोग शामिल हुए थे जिसमें महिलाएं भी थीं. इस कार्यक्रम में UAE में भारतीय राजदूत नवदीप सिंह सूरी भी आये थे.

This slideshow requires JavaScript.

कुल मिलाकर, भारत और अबू धाबी में मनाए गए अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस से जुड़ी पुरानी तस्वीरें हाल में सऊदी अरब की बताकर शेयर की गई. बता दें कि हर बार की तरह इस बार भी विदेश में अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस के मौके पर योग सेशन आयोजित किये गए थे.


फ़ैक्ट-चेक: जम्मू-कश्मीर में बसायी गयी रोहिंग्या की बस्ती उखाड़ी गयी?

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: