सोशल मीडिया पर एक वीडियो खूब वायरल हो रहा है जिसमें एक पुलिसकर्मी कुछ महिलाओं से पैसे लेते हुए दिख रहा है. दावा है कि गुजरात में रेलवे पुलिस गरीब मज़दूरों को रेलवे ट्रैक पर चलने देने के लिए उनसे पैसे वसूल रही है.

अभिनेत्री नगमा में 12 मई 2020 को ये वीडियो ट्वीट करते हुए दावा किया कि गुजरात में पुलिस महिला मज़दूरों से पैसे ले रही है. आर्टिकल लिखे जाने तक इस वीडियो को 63 हज़ार से ज़्यादा देखा और 2 हज़ार बार रीट्वीट किया गया है. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

फ़ेसबुक पेज सुजाता पॉल ने ये वीडियो 10 मई 2020 को ये कहते हुए पोस्ट किया गया -“रेल की पटरी पर पैदल चलने वाले मजदूरों से वसूली की जा रही है। गुजरात मॉडल में रेल की पटरी पर पैदल चलने वाले मजदूरों से वसूली की जा रही है🤔” इस पोस्ट को आर्टिकल लिखे जाने तक 99 हज़ार बार देखा और 7,300 बार शेयर किया गया है. (पोस्ट का आर्काइव लिंक)

रेल की पटरी पर पैदल चलने वाले मजदूरों से वसूली की जा रही है।

गुजरात मॉडल में रेल की पटरी पर पैदल चलने वाले मजदूरों से वसूली की जा रही है🤔

Posted by Sujata Paul – India First on Sunday, 10 May 2020

ऑल इंडिया स्टूडेंट्स एसोसिएशन ने अपने फ़ेसबुक पेज से ये वीडियो 10 मई 2020 को इस मेसेज के साथ पोस्ट किया -“गुजरात मॉडल में रेल की पटरी पर पैदल चलने वाले मजदूरों से हफ्ता वसूल हो रही है ये कैसा गुजरात मॉडल ?” आर्टिकल लिखे जाने तक इस वीडियो को 15 हज़ार बार देखा जा चुका है. (फ़ेसबुक पोस्ट का आर्काइव लिंक)

ट्विटर यूज़र विपिन सारस्वत ने ये वीडियो 10 मई 2020 को ट्वीट किया जिसे आर्टिकल लिखे जाने तक 20 हज़ार से ज़्यादा बार देखा और 1,100 बार लाइक किया गया है. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

फ़ैक्ट-चेक

वीडियो के की-फ़्रेम्स को गूगल रिवर्स इमेज सर्च करने पर ‘देशगुजरात’ का एक ट्वीट मिला. 13 जुलाई 2019 के ट्वीट में इस घटना को गुजरात के सूरत शहर का बताया गया है. ट्वीट में ‘देशगुजरात’ के आर्टिकल का लिंक भी शेयर किया गया है. रिपोर्ट के मुताबिक, रेलवे पुलिस फ़ोर्स के जवान टंडेल ने शराब की तस्करी करने वाली कुछ महिलाओं से रिश्वत ली थी. उनके एक वीडियो के वायरल होने के बाद उन्हें ड्यूटी से बर्खास्त कर दिया गया था. आर्टिकल के मुताबिक, टंडेल उस वक़्त सूरत रेलवे स्टेशन में कार्यरत थे.

आगे की-वर्ड सर्च से हमें 11 जुलाई 2019 की ‘एबीपी अस्मिता’ की एक वीडियो रिपोर्ट मिली. इसके अलावा, गुजराती न्यूज़ चैनल ‘GSTV’ का 12 जुलाई 2019 का एक आर्टिकल भी मिला.

इस तरह हमने देखा कि जुलाई 2019 के रेलवे पुलिस के एक जवान द्वारा शराब की तस्करी करने वाली महिलाओं से रिश्वत लेने का वीडियो शेयर कर इसे मज़दूरों के पलायन से जोड़ा जा रहा है.

वायरल है ये वीडियो

व्हाट्सऐप पर कुछ लोगों ने ये वीडियो शेयर करते हुए इसकी सच्चाई के बारे में पूछा है.

ये वीडियो फ़ेसबुक और ट्विटर पर खूब वायरल है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.