एक वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल है. इसमें एक व्यक्ति, दूसरे की डंडे से पिटाई कर रहा है. फिर बाद में गालियां देते हुए उसे मुर्गा बनाता है और फिर बेरहमी से पिटाई करता है. पास में सोफ़े पर पिस्टल रखी है और भाजपा का चुनाव चिन्ह ‘कमल’ टेबल पर रखा है. पीड़ित बार-बार गुहार लगा रहा है और कह रहा है कि उससे ग़लती हो गई. वीडियो के साथ दावा किया जा रहा है कि ये मध्य प्रदेश के रीवा की घटना है और वीडियो में पिटाई कर रहा व्यक्ति भाजपा नेता है वहीं मार खाने वाला पंचायत सचिव है.

मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस के ऑफ़िशियल हैंडल से ये वीडियो ट्वीट किया गया है. ट्वीट में दावा किया गया है कि मध्य प्रदेश के रीवा में पंचायत सचिव ने हिस्सा नहीं पहुंचाया तो भाजपा के नेता ने ऑफ़िस में बुलाकर उसकी पिटाई कर दी. उससे उठक बैठक लगवाई और मुर्गा बनाकर रखा. (आर्काइव लिंक) मध्य प्रदेश यूथ कांग्रेस ने ये वीडियो इसी दावे के साथ फ़ेसबुक पर भी शेयर किया है.

दैनिक भास्कर के पत्रकार आशीष उरमालिया ने भी ये वीडियो शेयर करते हुए ऐसा ही दावा किया. (आर्काइव लिंक)

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री कमलनाथ के मीडिया कॉर्डिनेटर नरेंद्र सलूजा ने वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा कि इसकी जांच होनी चाहिए. कोई इसे रीवा का बता रहा है, कोई मार खाने वाले को पंचायत सचिव बता रहा है. इसकी सच्चाई सामने आनी चाहिए. (आर्काइव लिंक)

प्रकाश राज पैरोडी नाम के अकाउंट ने भी ये वीडियो ट्वीट करते हुए ऐसा ही दावा किया. (आर्काइव लिंक)

ये वीडियो इसी दावे के साथ फ़ेसबुक और ट्विटर पर वायरल है.

फ़ैक्ट-चेक

जब ऑल्ट न्यूज़ ने वायरल वीडियो के फ़्रेम को रीवर्स इमेज सर्च किया तो हमें इससे जुड़ी दैनिक भास्कर की 14 अप्रैल 2022 की रिपोर्ट मिली. इस आर्टिकल के मुताबिक, वायरल वीडियो उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर ज़िले का है. एसपी आनंद ने वीडियो के बारे में बताते हुए कहा कि अबतक पुलिस को इसकी जानकारी नहीं है. मामला दर्ज होने पर इसपर कार्रवाई की जाएगी.

पत्रकार रणविजय सिंह ने 15 अप्रैल, 2022 को ये वीडियो ट्वीट करते हुए इसे शाहजहांपुर का बताया था. इस ट्वीट पर 16 अप्रैल 2022 को रिप्लाई करते हुए शाहजहांपुर पुलिस ने अपर पुलिस अधीक्षक नगर, संजय कुमार का बयान शेयर किया.

ट्वीट के जवाब में मौजूद वीडियो में पुलिस अधीक्षक ने कहा कि डंडे से पीट रहे आरोपी का नाम प्रतीक तिवारी है और पीड़ित का नाम राजीव भारद्वाज है जो चौक का रहने वाला है. पीड़ित ने बताया कि प्रतीक तिवारी के यहां काम करने वाले किसी लड़के के बारे में जानकारी ना देने कि वजह से आरोपी ने मारपीट की. इस आधार पर पुलिस ने प्रतीक तिवारी, समित्तर और 4 अज्ञात के खिलाफ मामला दर्ज किया. शाहजहांपुर पुलिस द्वारा दिए गए बयान के मुताबिक, मामले में 2 आरोपियों कि गिरफ़्तारी हो गई थी और उनपर आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित की गई. बाकियों की गिरफ़्तारी का प्रयास जारी था.

हमें 16 अप्रैल 2022 को शाहजहांपुर के सदर बाज़ार थाने में दर्ज FIR रिपोर्ट मिली. FIR संख्या 354 में दो नामजद आरोपी प्रतीक तिवारी, समित्तर और 4 अज्ञात के खिलाफ IPC की 147, 323, और 506 धाराओं में मामला दर्ज किया गया था.

यानी, वीडियो मध्य प्रदेश के रीवा का नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर का है. वहीं ये मामला हाल का नहीं बल्कि 4 महीने पुराना है. कुल मिलाकर, उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर में एक युवक की पिटाई का पुराना वीडियो शेयर करते हुए दावा किया गया कि मध्य प्रदेश के रीवा में एक पंचायत सचिव को भाजपा नेता ने ऑफिस में बुलाकर पीटा.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

Tagged:
About the Author

Abhishek is a journalist at Alt News.