कई सोशल मीडिया यूज़र्स ने एक वीडियो शेयर किया जिसमें एक व्यक्ति चीता के साथ सोते हुए नज़र आ रहा है. दावों के मुताबिक ये वीडियो राजस्थान के मोछाल में स्थित हिंदू मंदिर, पीपलेश्वर महादेव का है. 23 दिसम्बर, 2020 को एक यूज़र ने ये वीडियो शेयर करते हुए ये दावा किया है.

In Rajasthan at Siriholini Village, daily at night a Cheetah with his family comes and sleeps with the priest of Pipaleshwar Temple . This was going on for a while and one day this guy mentioned it to the wildlife department. They fitted a CCTV to record it.

Posted by Anurag Sharma on Wednesday, 23 December 2020

अगस्त महीने से वायरल

ट्विटर यूज़र अनुराग ताम्रकार ने इस वीडियो को शेयर किया जिसे ये लेख लिखे जाने तक 700 से ज्यादा व्यूज़ मिल चुके हैं.

इसी तरह अन्य ट्विटर और कुछ फ़ेसबुक यूज़र्स ने भी यह वीडियो शेयर किया.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने जब कीवर्ड सर्च किया तो यह वायरल वीडियो एक यूट्यूब चैनल पर मिला. इसे डोल्फ सी. वाॅकर ने अपलोड किया था.

इस वीडियो का टाइटल है, ‘Do Cheetahs Prefer Cold Hard Concrete Or Warm Blankets Pillow & A Friend?|Three BIG CAT Night’ और इसे करीब डेढ़ करोड़ व्यूज मिले हुए हैं. इस यूट्यूब चैनल पर लिखे डिस्क्रिप्शन के अनुसार वाॅकर साउथ अफ्रीका के पशु अधिकारों के हिमायती हैं और जूलॉजी की पढ़ाई की हुई है. उनके चैनल के करीब 5 लाख सब्सक्राइबर हैं. ऑल्ट न्यूज़ ने उनके फे़सबुक प्रोफ़ाइल को सर्च किया और हमें पता चला कि उन्हें ‘चीता व्हिस्परर’ के नाम से भी जाना जाता है.

वीडियो डिस्क्रिप्शन के अनुसार, इसमें नज़र आ रहे चीता साउथ अफ्रीका के चीता पालन केंद्र – ‘चीता एक्सपीरियंस’ में पैदा हुए और वहीं पले बढ़े हैं. डिस्क्रिप्शन के अनुसार इनमें से एक चीता को जल्द ही सुरक्षित जंगली क्षेत्र में छोड़ा जाना था. वाॅकर का मानना है कि सोने के मामले में चीता घरेलु बिल्लियों की तरह ही हैं. उन्हें ठंडी ज़मीन के बजाय गर्म और मुलायम बिस्तर ही चाहिए.

NDTV ने 2015 में वाॅकर पर एक लेख लिखा था जिसके अनुसार वे ‘चीता एक्स्पेरिरंस’ में 2014 से ही वालंटियर कर रहे थे.

साफ़ है कि इसे पीपलेश्वर महादेव मंदिर का बताने वाला दावा बिल्कुल ही गलत है. इस वीडियो को साउथ अफ़्रीका के प्रसिद्ध पशु कार्यकर्ता डोल्फ सी. वाॅकर ने 2019 में अपने यूट्यूब चैनल पर अपलोड किया था.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Archit is a senior fact-checking journalist at Alt News. Previously, he has worked as a producer at WION and as a reporter at The Hindu. In addition to work experience in media, he has also worked as a fundraising and communication manager at S3IDF.