मन को विचलित करने वाला 30 सेकंड का एक वीडियो शेयर हो रहा है. इस वीडियो में एक व्यक्ति एक छोटे बच्चे का गला काटते हुए दिखता है. इस वीडियो की संवेदनशीलता देखते हुए ऑल्ट न्यूज़ इसे आर्टिकल में शामिल नहीं कर रहा. इसे शेयर करते हुए यूज़र्स ये अपील कर रहे हैं कि बच्चों को घर से बाहर न निकलने दें. इसके साथ दावा किया जा रहा है कि कुछ लोग बच्चों का क़त्ल कर उनका किडनी निकाल लेते हैं.

ये वीडियो व्हाट्सऐप पर भी शेयर किया जा रहा है.

फ़ैक्ट-चेक

की-वर्ड्स सर्च करने पर हमें 9 जनवरी 2021 की दैनिक भास्कर की रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में वीडियो से जुड़ी घटना की कुछ तस्वीरें शामिल हैं. मामला कुछ इस तरह है कि राजस्थान के सीकर ज़िले के करड़ गांव में चचेरे भाई ने अपने छोटी भाई की बड़ी बेरहमी से हत्या कर दी है. आर्टिकल के मुताबिक, “21 साल के कैलाशचंद रैगर ने चार दर्जन लोगों के सामने 10 साल के चचेरे भाई उत्तम रैगर की ब्लेड से गला रेत कर हत्या कर दी. लहुलुहान उत्तम 10 मिनट तक रोड पर तड़पता रहा.” रिपोर्ट में इसे पारिवारिक रंजिश का मामला बताया है. आर्टिकल में एसपी कुंअर राष्ट्रदीप के हवाले से बताया गया है, “अपने चाचा से बदला लेने के लिए आरोपी ने चचेरे भाई की हत्या की है. जिसको पुलिस ने पकड़ लिया है. ताकि घटनाक्रम के बारे में पूछताछ की जा सके. मृतक उत्तम परिवार में पांच बहनों से छोटा व भाई से बड़ा था. वह पांचवी कक्षा में पढ़ता था.”

This slideshow requires JavaScript.

पत्रिका ने इस घटना के बारे में एक वीडियो रिपोर्ट शेयर की है.

 

सीकर: भाई का गला रेंत कर हत्या करने का लाइव वीडियो वायरल, मासूम ने तड़पते हुए तोड़ा दम

Posted by Sikar Patrika on Friday, 8 January 2021

कुल मिलाकर, आपसी रंजिश के कारण छोटे बच्चे की हत्या करने का वीडियो सोशल मीडिया पर बच्चा चोरी के दावे से शेयर किया गया. गौर करें कि हर साल सोशल मीडिया पर बच्चा चोरी से जुड़ी अफ़वाहे और फ़र्ज़ी मेसेज शेयर किये जाते हैं. इस कारण लोग बात को बिना समझे और जाने मानसिक रूप से बीमार या संदेहपूर्ण व्यक्ति पर धावा बोल देते हैं. बच्चा चोरी के इन फ़र्ज़ी मेसेज के कारण कई लोगों ने जान भी गवाई है. पहले भी हम ऐसे कई फ़र्ज़ी बच्चा चोरी मेसेज, वीडियोज़ और तस्वीरों की जांच कर चुके हैं जिसे आप यहां पढ़ सकते हैं.


इमरान खान की मोदी सरकार के सन्दर्भ में कही गयी बातों को ग़लत दावों के साथ पेश किया गया | फ़ैक्ट-चेक :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.