पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव में भारी बहुमत हासिल कर तृणमूल कांग्रेस ने राज्य में फिर से अपनी सरकार बना ली है. चुनाव परिणाम के बाद राज्य में कई जगहों पर तृणमूल कांग्रेस और भाजपा कार्यकर्ताओं के बीच हिंसा हुई है. इस हिंसा में आर्टिकल लिखे जाने तक 11 लोगों की जान चली गई है. ABP न्यूज़ की रिपोर्ट में बताया गया है कि इस हिंसा में भाजपा से जुड़े 6 लोग, TMC के 4 और इंडियन सेक्युलर फ़्रन्ट के 1 व्यक्ति की मौत हुई है. इस हिंसा से जोड़कर हाल में सोशल मीडिया पर कई तस्वीरें और वीडियोज़ शेयर किये जा रहे हैं. ऐसी ही एक तस्वीर सोशल मीडिया पर वायरल है. तस्वीर में किसी इमारत पर आग लगी हुई दिखती है.

ट्विटर यूज़र प्रिया ने ये तस्वीर पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव परिणाम के बाद हुई हिंसा की बताकर ट्वीट की है. आर्टिकल लिखे जाने तक इस ट्वीट को 386 बार रीट्वीट किया गया है. (आर्काइव लिंक)

ट्विटर हैन्डल ‘@Hindu_2_o’ ने भी ये तस्वीर पश्चिम बंगाल में हाल में हिंसा की बताकर ट्वीट की है. (आर्काइव लिंक)

एक ट्विटर यूज़र ने ये तस्वीर ट्वीट करते हुए पश्चिम बंगाल में TMC चुनने के लिए लोगों को धन्यवाद कहा है. एक अन्य यूज़र ने लिखा है कि हिन्दुओं को कश्मीरियों की तरह मारा जा रहा है.

फ़ैक्ट-चेक

आसान से रिवर्स इमेज सर्च से हमें ये तस्वीर 14 मई 2019 के ABP न्यूज़ के आर्टिकल में मिली. आर्टिकल, मई 2019 में पश्चिम बंगाल के कोलकाता में विद्यासागर कॉलेज के बाहर अमित शाह की रैली के दौरान हुई हिंसा के बारे में है.

15 मई 2019 के द स्टेट्समैन के आर्टिकल में भी ये तस्वीर अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा की बतायी गई.

द इंग्लिश पोस्ट के आर्टिकल में बताया गया था कि इस हिंसा से संबंधित 3 FIR दर्ज की गयी थीं. अमित शाह के रोड शो में हुई हिंसा में 3 बाइक जला दी गयी थीं. इसमें दोनों पार्टियों के कई लोग घायल हुए थे.

उस वक़्त इस हिंसा से जोड़कर कई झूठे दावे सोशल मीडिया पर शेयर किये गए थे जिसपर लिखे ऑल्ट न्यूज़ की फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट्स आप यहां पढ़ सकते हैं.

इस तरह, मई 2019 में कोलकाता में अमित शाह के रोड शो के दौरान हुई हिंसा की तस्वीर हाल में पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के परिणाम घोषित होने के बाद हुई हिंसा की बताकर शेयर की गयी.


हरियाणा के करनाल में हो रही वेब सीरीज़ की शूटिंग के दृश्य को लोगों ने असली घटना बताकर शेयर किया :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.