पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनाव के परिणाम के बाद राज्य में कई जगह पर भाजपा और तृणमूल कांग्रेस के कार्यकर्ताओं के बीच झड़प देखने को मिली. इस हिंसा में आर्टिकल लिखे जाने तक भाजपा के 6, TMC के 4 और इंडियन सेक्युलर फ़्रन्ट से जुड़े 1 व्यक्ति की मौत की ख़बर मिली है. इस दौरान, हाथ में तलवार और बन्दूक लिए नाच रही भीड़ का एक वीडियो काफ़ी शेयर किया जा रहा है. वीडियो में लोग ‘खेला होबे’ गाने पर डांस कर रहे हैं.

भाजपा महिला मोर्चा की राष्ट्रीय सोशल मीडिया इंचार्ज प्रीति गांधी ने ये वीडियो पश्चिम बंगाल में चुनाव परिणाम के बाद मनाये जा रहे जश्न का बताकर ट्वीट किया है. आर्टिकल लिखे जाने तक इस वीडियो को 5 हज़ार से ज़्यादा बार देखा जा चुका है (आर्काइव लिंक). पहले भी प्रीति गांधी ने कई बार सोशल मीडिया पर भ्रामक जानकारियां शेयर की हैं जिसपर लिखे ऑल्ट न्यूज़ के आर्टिकल्स आप यहां पर पढ़ सकते हैं.

भाजपा दिल्ली के जनरल सेक्रेटरी कुलजीत सिंह चहल ने भी ये वीडियो ट्वीट किया. आर्टिकल लिखे जाने तक इसे तकरीबन 40 हज़ार बार देखा जा चुका है.(आर्काइव लिंक)

कॉलमिस्ट शेफाली वैद्य (आर्काइव लिंक) और फ़िल्म निर्माता अशोक पंडित (आर्काइव लिंक) ने भी ये वीडियो ट्वीट किया है.

ट्विटर हैन्डल ‘@impritamhalder’ और प्रोपगेंडा मीडिया आउटलेट ‘@KreatelyOSINT’ ने भी ये वीडियो पश्चिम बंगाल से जोड़कर ट्वीट किया है. ट्विटर पर और फ़ेसबुक पर और भी कई यूज़र्स ने ये वीडियो पश्चिम बंगाल चुनाव के नतीजों के बाद हुए जश्न का बताकर शेयर कर रहे हैं.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

वीडियो के फ़्रेम्स को यांडेक्स पर रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें ये वीडियो इंस्टाग्राम पर 26 सितंबर 2020 को पोस्ट किया हुआ मिला. इस वीडियो में ‘खेला होबे’ की जगह कोई और ही हिन्दी गाना चल रहा है. इस गाने के बोल हैं – “तेरे लिए कसमें नहीं, कसमें नहीं रस्मे नहीं”.

यूट्यूब पर भी ये वीडियो 27 सितंबर 2020 को अपलोड किया गया था.

यहां गौर करें कि ‘खेला होबे’ गाना तृणमूल कांग्रेस के युवा नेता देबांग्शु भट्टाचार्य ने लिखा था जो 2021 में रिलीज़ हुआ था. इसलिए सितम्बर 2020 को अपलोड हुए वीडियो के दृश्यों के साथ 2021 में रिलीज़ हुआ गाना ये बताता है कि दोनों में कोई कनेक्शन नहीं है और ये वीडियो झूठी जानकारी फैलाने के मकसद से शेयर किया जा रहा है.


हरियाणा के करनाल में हो रही वेब सीरीज़ की शूटिंग के दृश्य को लोगों ने असली घटना बताकर शेयर किया :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: