पिछले सप्ताह से, ऑल्ट न्यूज़ को अपने अधिकृत मोबाइल एप्प पर एक तस्वीर की पड़ताल करने के लिए कई अनुरोध प्राप्त हुए हैं, जिसका स्त्रोत BBC बताया गया है और लोगों को कैडबरी ना खाने की चेतावनी दी गई है क्योंकि वह “HIV से संक्रमित है”।

वायरल तस्वीर पर लिखे संदेश के अनुसार, “यह वही व्यक्ति है ,जिसने अपने संक्रमित खून कैडबरी के उत्पादों में मिला दिया है। अगले कुछ हफ्तों तक कैडबरी के किसी भी उत्पाद को न खाएं, क्योंकि कंपनी के एक कर्मचारी ने HIV (एड्स) से दूषित खून से इसे जहरीला बना डाला है। इसे कल BBC न्यूज़ पर दिखाया गया था। कृपया इस मैसेज को उन लोगों को भेजे जिनकी आप परवाह करते हैं। “ (अनुवाद)

पुरानी अफवाह

ऑल्ट न्यूज़ ने सबसे पहले “कैडबरी” और “HIV” शब्द को BBC की वेबसाइट पर सर्च किया। लेकिन हमें इससे संबंधित कोई भी परिणाम नहीं मिला, जिससे यह मालूम होता है कि अंतरराष्ट्रीय मीडिया संगठन ने ऐसी कोई खबर प्रकाशित नहीं की है।

उसके बाद, हमने वायरल तस्वीर में दिख रहे व्यक्ति की तस्वीर को रिवर्स सर्च किया। परिणामस्वरुप हमें नाइजीरियाई समाचार साइट Information Nigeria, CKN Nigeria और Nairaland मिली, जिसमें इस व्यक्ति की पहचान अमीनु सादिक ओग्वुचे के रूप में की गई थी, जो 2014 में न्याया बस स्टेशन पर हुए हमले का आरोपी था।

बीबीसी रिपोर्ट के अनुसार करीब सत्तर लोग इस हमले में मारे गए थे।

बूम ने इस तस्वीर की पड़ताल की थी। तथ्य-जांच करने वाली इस संगठन ने कैडबरी चॉकलेट बनाने वाली कंपनी मोंडेलेज़ (भारत) के एक प्रवक्ता से इसकी जानकारी प्राप्त की, उन्होंने बताया, “जिस पोस्ट की आप बात कर रहे है वह एक अफवाह है और इसमें कोई सच्चाई नहीं है। जिस व्यक्ति की तस्वीर पोस्ट में दर्शायी गई है, वह मोंडेलेज़ कंपनी में कभी काम नहीं करता था। इस तरह की फ़र्ज़ी और तथ्यहीन पोस्ट बड़े ब्रांड के लिए नुकसानदेह है। हम अपने ग्राहकों से आग्रह करते है कि कृपया इस पोस्ट को आगे शेयर ना करें और उत्पादन के बारे में पहले तथ्यों की जांच करें।” (अनुवाद)

नाइजीरिया की एक तस्वीर सोशल मीडिया में इस फ़र्ज़ी दावे से शेयर की गई कि एक HIV ग्रस्त व्यक्ति ने अपने खून से कैडबरी चॉकलेट में मिश्रित कर दिया है। ऐसा ही एक अन्य दावा भी प्रसारित किया गया था कि पेप्सी उत्पादन में वायरस की मिलावट की गई है।

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

About the Author

Archit is a senior fact-checking journalist at Alt News. Previously, he has worked as a producer at WION and as a reporter at The Hindu. In addition to work experience in media, he has also worked as a fundraising and communication manager at S3IDF.