सोशल मीडिया पर अहमदाबाद के सरदार वल्लभ भाई पटेल एयरपोर्ट का नाम बदल कर अडानी एयरपोर्ट करने का दावा काफ़ी शेयर किया जा रहा है. मध्यप्रदेश कांग्रेस ने एक बिलबोर्ड की तस्वीर ट्वीट करते हुए लिखा, “अहमदाबाद एयरपोर्ट का नाम — सरदार वल्लभभाई पटेल से अडानी एयरपोर्ट हुआ..!” (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

गुजरात के कांग्रेस विधायक अमित चावडा ने ये तस्वीर इसी दावे के साथ ट्वीट की है. (आर्काइव लिंक)

ऑल इंडिया कांग्रेस कमिटी (AICC) तेलंगाना के इंचार्ज मणिक्कम टैगोर ने भी ये दावा ट्वीट किया है. (आर्काइव लिंक)

फ़ैक्ट-चेक

अहमदाबाद के सरदार वल्लभभाई पटेल एयरपोर्ट का नाम बदलकर ‘अडानी एयरपोर्ट’ नहीं किया गया है. लेकिन एयरपोर्ट अथॉरिटी ऑफ़ इंडिया (AAI) ने 6 नवंबर 2020 को अहमदाबाद एयरपोर्ट की ज़िम्मेदारी अडानी ग्रुप को सौंपी थी.

इसके अलावा, अहमदाबाद एयरपोर्ट का नाम बदलने के बारे में कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं है. AAI की वेबसाइट पर भी इस एयरपोर्ट का नाम ‘सरदार वल्लभभाई पटेल एयरपोर्ट’ ही है.

7 नवंबर की द टाइम्स ऑफ़ इंडिया की वीडियो रिपोर्ट में एयरपोर्ट के साइनबोर्ड और होर्डिंग के हाल के दृश्य दिखते हैं जिनमें ‘अडानी एयरपोर्ट्स’ लिखा हुआ है. गौर करें कि अहमदाबाद एयरपोर्ट का नाम बदला नहीं गया है. वीडियो रिपोर्ट में एयरपोर्ट के अंदर जाते ही एक साइनबोर्ड दिखता है जिसमें बीच में ‘सरदार वल्लभभाई पटेल इन्टरनेशनल एयरपोर्ट’ लिखा हुआ है. वहीं साइड में ‘अडानी एयरपोर्ट्स’ लिखा है.

This slideshow requires JavaScript.

अडानी एयरपोर्ट्स, अडानी ग्रुप का ही हिस्सा है. बैनर में अडानी कंपनी का लोगो भी दिखता है.

लाइव मिंट की 2 नवंबर 2020 की रिपोर्ट के मुताबिक, “फ़रवरी 2019 में केंद्र सरकार ने 6 बड़े एयरपोर्ट्स का निजीकरण किया था जिसमें लखनऊ, अहमदाबाद, जयपुर, मेंगलोर, तिरुवनंतपुरम, गुवाहाटी शामिल हैं. नीलामी के बाद इन एयरपोर्ट्स की ज़िम्मेदारी अगले 50 सालों तक ‘अडानी ग्रुप’ को दे दी गई.”

अडानी एयरपोर्ट का लोगो लखनऊ के एयरपोर्ट की होर्डिंग में भी दिखता है.

‘अडानी’ शब्द एयरपोर्ट के बिलबोर्ड में तब शामिल किया जब कंपनी ने अहमदाबाद एयरपोर्ट के विकास और मेन्टेनेंस की ज़िम्मेदारी AAI से ले ली. कांग्रेस ने मोदी सरकार पर निशाना साधने के लिए होर्डिंग की तस्वीर शेयर कर ग़लत दावा किया कि ‘सरदार वल्लभभाई पटेल’ का नाम अहमदाबाद एयरपोर्ट से हटा दिया गया है.


पिछले हफ़्ते के 5 बड़े फ़ैक्ट-चेक इस वीडियो रिपोर्ट में देखें:

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

Pooja Chaudhuri is a senior editor at Alt News.