संयुक्त राज्य अमेरिका ने दो दशकों के संघर्ष के बाद 30 अगस्त को अफ़ग़ानिस्तान से पूरी तरह से वापसी कर ली. अमेरिका ने कथित तौर पर वहां सैन्य उपकरण छोड़ दिए जिन्हें तालिबान ने अपने कब्ज़े में ले लिया है. ऐसी बातों के बीच एक वीडियो सोशल मीडिया पर काफ़ी वायरल हो रहा है जिसके बारे में दावा किया जा रहा है कि तालिबानी अमरीकी ब्लैक हॉक हेलीकॉप्टर उड़ा रहे हैं.

मीडिया आउटलेट्स और पत्रकारों ने दावा किया कि वीडियो में तालिबानी एक अमेरिकी ब्लैक हॉक हेलीकॉप्टर उड़ा रहे हैं और उससे एक व्यक्ति, संभवतः एक अमेरिकी अनुवादक को फांसी पर लटकाया गया है. नीचे ज़ी न्यूज़ के एडिटर-इन-चीफ़ सुधीर चौधरी का ट्वीट है. (आर्काइव लिंक)

इंडिया टुडे के कार्यकारी संपादक शिव अरूर ने भी इस दावे को बढ़ावा देते हुए चैनल का एक आर्टिकल शेयर किया.

इस खबर को कई मेनस्ट्रीम मीडिया आउटलेट्स ने पब्लिश किया था.

खबर पब्लिश करने वाले अन्य प्रमुख आउटलेट्स में ZEE5, आज तक, नवभारत टाइम्स, दैनिक भास्कर, अमर उजाला, ज़ी हिंदुस्तान, इंडिया TV, ANI, MSN इंडिया, ज़ी न्यूज़, NDTV, रिपब्लिक और ABP न्यूज़ शामिल थे. भाजपा समर्थक प्रोपगेंडा आउटलेट ऑप इंडिया ने भी एक स्टोरी पब्लिश की.

फ़ैक्ट-चेक

ट्विटर पर पश्तो में कीवर्ड सर्च करने पर हमें नीचे दिए गए ट्वीट मिले जिससे इस बात की तस्दीक हुई कि ये हेलीकाप्टर कंधार में उड़ रहा था.

पश्तो में ‘कंधार’ को एक कीवर्ड के रूप में इस्तेमाल करके हमें एक और वीडियो मिला जिसमें एक शख्स हेलीकॉप्टर से लटकाहुआ था. ये वीडियो काफ़ी साफ़ है.

अगर आप गौर से देखें तो पायेंगे कि एक रस्सी उस शख्स की पीठ से बंधी हुई है और वो एक हार्नेस (सुरक्षा देने वाली रस्सियां) से बंधा हुआ है. उसके गले में रस्सी नहीं पड़ी है.

इसके अलावा, उसी वीडियो में, इस लटके हुए शख्स के शरीर को हरकत करते हुए भी देखा जा सकता है. 15 सेकंड पर ये एकदम साफ़ दिखता है. इंटरनेट पर किये जा रहे दावे के उलट, ये शख्स मरा नहीं है.

ऑल्ट न्यूज़ को अफ़ग़ान न्यूज़ एजेंसी अश्वका का एक ट्वीट मिला जिसमें कंधार गवर्नर के ऑफ़िस के ऊपर उड़ रहे हेलीकॉप्टर का ऐसा ही एक वीडियो था. हमने DM के माध्यम से चैनल से संपर्क किया. उन्होंने बताया कि गवर्नर कार्यालय पर झंडा लगाने के लिए उस व्यक्ति को हेलीकॉप्टर से लटकाया गया था. चैनल ने हमें बताया, “हमारे पास वहां एक टीम है, उन्होंने कंफ़र्म किया कि कंधार में गवर्नर कार्यालय में झंडा लगाने के लिए व्यक्ति को हेलीकॉप्टर से लटकाया गया था.”

स्थानीय पत्रकार सादिकुल्ला अफ़ग़ान ने भी एक वीडियो पोस्ट किया था जिसमें एक व्यक्ति को हेलीकॉप्टर से लटका हुआ दिखाया गया था. उन्होंने बताया कि उस व्यक्ति का नाम तालिब है और 100 मीटर के खंभे पर झंडा लगाने की कोशिश कर रहा था.

एक अन्य अफ़ग़ान पत्रकार ने ट्वीट किया कि वह उस अफ़ग़ान पायलट को जानता है जो हेलीकॉप्टर उड़ा रहा था. उन्होंने हेलिकॉप्टर से लटकाए गए व्यक्ति की पहचान तालिबानी आतंकी के रूप में की जो चरमपंथी इस्लामी समूह का झंडा लगाने की कोशिश कर रहा था, लेकिन असफल रहा.

ندهار ولایت مقام (कंधार प्रांत) शब्द का इस्तेमाल करते हुए फ़ेसबुक पर एक कीवर्ड सर्च से हमें एक झंडे के खंभे के आस-पास घूमते हुए एक व्यक्ति का वीडियो मिला. पोस्ट के मुताबिक, गवर्नर कार्यालय पर तालिबान अपना झंडा लगाने की कोशिश कर रहा था. इस वीडियो में भी साफ़ तौर पर उस शख्स को ज़िन्दा देखा जा सकता है. वो अपनी जेब से कुछ निकालने की भी कोशिश कर रहा था.

 

کندهار:
ا.ا.ا غوښتل چي د څرخي الوتکي په مرسته ولایت مقام کي د ۱۰۰ میتره بېرغ پرځای خپل بېرغ و ځړوي، خو بریالي نه سول.

Posted by Khan Mohammad Ayan on Monday, 30 August 2021

ऐसा ही एक वीडियो कंधार के एक स्थानीय रिपोर्टर अरघंद अब्दुलमनन ने शेयर किया था.

ये ध्यान दिया जाना चाहिए कि न्यूयॉर्क पोस्ट सहित दुनिया भर में ये गलत जानकारी वायरल है. मालूम पड़ता है कि @natsecjeff1 के पोस्ट के बाद इस वीडियो ने काफ़ी ध्यान खींचा. हालांकि, उन्होंने क्लिप शेयर करते हुए कोई दावा नहीं किया था. एक अन्य यूज़र @Holbornlolz, जो खुद को एक कॉमेडियन बताता है, ने “हेलीकॉप्टर से लटका हुआ आदमी” कैप्शन के साथ ये वीडियो पोस्ट किया. वॉशिंगटन पोस्ट के फ़ैक्ट चेकर ग्लेन केसलर ने ट्वीट किया कि कैसे इंटरनेट पर इस खबर को तोड़-मरोड़ कर पेश किया गया.

मीडिया आउटलेट्स और पत्रकारों ने ग़लत रिपोर्ट देते हुए दावा किया कि तालिबान ने ब्लैक हॉक हेलीकॉप्टर पर एक अमेरिकी अनुवादक को फांसी पर लटका दिया. लटका हुआ व्यक्ति तालिबान का सदस्य था और वो संगठन का झंडा लगाने की कोशिश कर रहा था. उसे फांसी नहीं दी गई थी, बल्कि एक हार्नेस से लटकाया गया था. गौरतलब है कि अमेरिकी रक्षा विभाग ने अभी तक वीडियो पर कोई टिप्पणी नहीं की है, इसलिए ये सुनिश्चित नहीं किया जा सकता कि हेलीकॉप्टर असल में ब्लैक हॉक था.


पंजशीर घाटी में तालिबानी आतंकियों के मारे जाने का बताकर मीडिया ने चलाए पुराने वीडियोज़, देखिये

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

Co-founder, Alt News
Co-Founder Alt News, I can be reached via Twitter at https://twitter.com/zoo_bear