अरुणाचल प्रदेश में चीन के कुछ सैनिकों ने कथित रूप से घुसपैठ की थी. इसके बाद भारतीय सैनिकों द्वारा कुछ चीनी सैनिकों को हिरासत में लेने की बात सामने आ रही है.

इस दौरान, सोशल मीडिया पर एक तस्वीर वायरल हुई जिसमें भारतीय सैनिक चीनी सैनिकों को पकड़े हुए हैं. तस्वीर शेयर करते हुए दावा किया जा रहा है कि भारतीय सैनिकों ने अरुणाचल प्रदेश में 150 से ज़्यादा चीनी सैनिकों को बंदी बना लिया. भाजपा ग़ाज़ियाबाद के सोशल मीडिया संयोजक आनन्द कालरा ने ये तस्वीर ट्वीट करते हुए यही दावा किया. आर्टिकल लिखे जाने तक इस ट्वीट को 2 हज़ार से ज़्यादा बार रीट्वीट किया जा चुका है. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

ट्विटर यूज़र ‘हम लोग We The People’ ने भी ये तस्वीर इसी दावे के साथ ट्वीट की. (आर्काइव लिंक)

ट्विटर और फ़ेसबुक पर ये तस्वीर वायरल है.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

रिवर्स इमेज सर्च करने पर हमें दिसम्बर 2020 के कुछ आर्टिकल्स में ये तस्वीर मिली. रिपोर्ट्स में तस्वीर शेयर करते हुए बताया गया था कि गलवान घाटी में भारत-चीन के सैनिकों के बीच हुए विवाद के बारे में एक फ़िल्म बनाई जा रही थी. और ये उसी फ़िल्म की शूटिंग की तस्वीर है. (लिंक 1, लिंक 2, लिंक 3, लिंक 4)

बता दें कि 15 जून 2020 को भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच गलवान घाटी में हुए घातक फे़स-ऑफ में भारतीय सेना के 20 जवान शहीद हो गए थे.

आगे, इस आधार पर की-वर्ड्स सर्च करते हुए ऑल्ट न्यूज़ को 3 दिसम्बर 2020 का एक यूट्यूब वीडियो मिला. वीडियो में वायरल तस्वीर का दृश्य 5 मिनट 48 सेकंड पर दिखता है. विवरण के मुताबिक, ये ‘LAC’ नाम की फ़िल्म की शूटिंग का वीडियो है. ये फ़िल्म लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सैनिकों के बीच हुई हिंसक झड़प के बारे में है. फ़िल्म की कोरियोग्राफ़ी का श्रेय इंस्टाग्राम यूज़र ‘ig_tonyjaa’ को दिया गया है. टोनी जा ने फ़ेसबुक पर भी इस तस्वीर की असलियत बताई थी.

Daily Excelsior ने 30 नवंबर 2020 को LAC की शूटिंग के दृश्य दिखाए थे.

ये फ़िल्म बीते साल ख़बरों में इसलिये भी आयी थी क्यूंकि इसमें काम कर रहे ऐक्टर राहुल रॉय को शूटिंग के दौरान ब्रेन स्ट्रोक हुआ और उन्हें कारगिल से एयरलिफ़्ट करके मुंबई ले जाया गया था.

कुल मिलाकर, भारतीय सैनिकों द्वारा चीनी सैनिकों को बंदी बनाए जाने के दावे से शेयर की गई तस्वीर फ़िल्म की शूटिंग की है.


CAA-NRC, अमित शाह आदि नेताओं के बारे में बात करता शख्स DPS राजबाग में पढ़ाने वाला शकील अंसारी?

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: