दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कोयले की कमी के चलते बिजली का संकट पैदा होने पर चिंता जताई. अरविंद केजरीवाल ने इस बारे में प्रधानमंत्री मोदी को पत्र भी लिखा. इस दौरान, सोशल मीडिया पर हिंदुस्तान अखबार की एक तस्वीर वायरल है. तस्वीर में दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल का विज्ञापन दिख रहा है. वायरल हो रही तस्वीर में पूरे पन्ने का विज्ञापन है जिसपर अरविन्द केजरीवाल की तस्वीर के साथ लिखा दिखता है – “बिजली की कमी दूर करने के लिए कोयला दान देकर दिल्ली सरकार की मदद करें”. इसके नीचे लिखा है, “आपका एक तसल्ला कोयला पूरे दिल्ली का अंधेरा दूर कर सकता है”. ट्विटर यूज़र नवीद ने ये तस्वीर ट्वीट की. आर्टिकल लिखे जाने तक इस ट्वीट को 700 से ज़्यादा बार रीट्वीट किया जा चुका है. (आर्काइव लिंक)

ट्विटर यूज़र देवेंद्र त्रिपाठी ने ये क्लिप ‘#केजरी_के_हसीन_सपने’ के साथ ट्वीट की. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

एक फ़ेसबुक यूज़र ने ये तस्वीर अरविंद केजरीवाल पर निशाना साधते हुए शेयर की.

ट्विटर और फ़ेसबुक पर ये तस्वीर वायरल है.

फ़ैक्ट-चेक

न्यूज़ पेपर क्लिप गौर से देखने पर ऑल्ट न्यूज़ ने कुछ बातें नोटिस कीं जो इस क्लिप को बनावटी साबित करती हैं. जैसे, तस्वीर में नीचे दाएं कोने में ‘सटायर’ लिखा है.

न्यूज़ पेपर क्लिप पर 9 जुलाई 2021 की तारीख है. गौर से देखने पर मालूम पड़ा कि ये बिहार का संस्करण था.

आगे, ऑल्ट न्यूज़ ने हिंदुस्तान के बिहार संस्करण का 9 जुलाई 2021 का ई-पेपर चेक किया. हमने पाया कि वेबसाइट पर मौजूद अखबार और वायरल तस्वीर अलग है. अखबार में लिखा था – “कोविड से जो दुनिया छोड़ गए, उनके परिवारों के साथ है दिल्ली सरकार”. इसमें लिखा है कि कोरोना के कारण जिन परिवारों में कमाने वाले व्यक्ति की मृत्यु हुई है, उन्हें प्रति माह 2,500 रुपये की सहायता दिल्ली सरकार की ओर से दी जाएगी. बाकी, कोरोना के कारण जिस परिवार के किसी भी सदस्य की मृत्यु हुई थी, उन्हें एकमुश्त 50 हज़ार रुपये दिये जायेंगे.

कुल मिलाकर, 9 जुलाई 2021 के हिंदुस्तान अख़बार में छपे अरविंद केजरीवाल के विज्ञापन का टेक्स्ट बदल दिया गया. इस एडिटेड विज्ञापन को शेयर करते हुए अरविंद केजरीवाल का मज़ाक उड़ाया जा रहा है.


CAA-NRC, अमित शाह आदि नेताओं के बारे में बात करता शख्स DPS राजबाग में पढ़ाने वाला शकील अंसारी?

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: