सोशल मीडिया पर आज तक का एक कथित ट्वीट खूब शेयर किया जा रहा है. ऑल्ट न्यूज़ के व्हाट्सऐप नंबर और मोबाइल अप्लीकेशन पर इस ट्वीट की सच्चाई जानने के लिए कई रिक्वेस्ट आयी हैं. ट्वीट में लिखा है, “गांधी परिवार के खिलाफ़ सीबीआई नहीं ढूंढ पाई एक भी भ्रष्टाचार का सबूत, कोर्ट में गांधी परिवार से भाजपा ने मांगी माफ़ी.”

This slideshow requires JavaScript.

फ़ेसबुक पर ये स्क्रीनशॉट काफ़ी वायरल है.

कुछ ट्विटर यूज़र्स ने भी इसे शेयर किया.

फ़ेक ट्वीट

ऑल्ट न्यूज़ को आज तक के हैंडल से पोस्ट किया गया ऐसा कोई ट्वीट नहीं मिला. हालांकि, ट्वीट्स बाद में डिलीट भी कर दिये जाते हैं, लेकिन ये ट्वीट पूरी तरह से फ़र्ज़ी है क्यूंकी सोशल मीडिया पर इस ट्वीट का एक ही स्क्रीनशॉट शेयर किया गया है. अमूमन जिन ट्वीट्स का स्क्रीनशॉट ख़ूब शेयर किया जाता है, उनके कई तरह के स्क्रीनशॉट दिखते हैं क्यूंकि ये स्क्रीनशॉट अलग-अलग तरह के मोबाइल, कम्प्यूटर इस्तेमाल करने वालों ने लिये होते हैं.

ये बात आप ट्वीट के स्क्रीनशॉट में दिख रहे लाइक्स और रीट्वीट के आंकड़े से भी समझ सकते हैं. सभी स्क्रीनशॉट में एक ही आंकड़ा दिखता है. इसके अलावा, ट्वीट के स्क्रीनशॉट का कोई दूसरा उदाहरण नहीं है और न ही इस ट्वीट का कोई लिंक कहीं भी शेयर किया गया है. एक भी व्यक्ति ने आज तक के ट्वीट को क्वोट ट्वीट नहीं किया.

इसके अलावा, आज के राजनीतिक परिदृश्य में, भाजपा ने कोर्ट में गांधी परिवार से माफ़ी मांगी होती तो ये खबर सुर्खियों में ज़रूर होती. लेकिन यहां इस दावे से जुड़ी कोई खबर नहीं मिलती है.

आज तक ने फ़ेसबुक पर पोस्ट करते हुए इस ट्वीट को फ़र्ज़ी बताया है.

#FactCheck | यह फ़र्ज़ी ट्वीट की तस्वीर आजतक के ट्वीट के नाम पर सर्कुलेट की जा रही है।
#AFWAFactCheck

Posted by Aaj Tak on Tuesday, 31 August 2021

आज तक के कॉर्पोरेट कम्युनिकेशन डेस्क ने ऑल्ट न्यूज़ को बताया कि ये ट्वीट फ़र्ज़ी है और उनके ट्विटर हैंडल से ऐसा कोई ट्वीट नहीं किया गया है.

कुल मिलाकर, फ़र्ज़ी स्क्रीनशॉट को मीडिया आउटलेट का नाम देकर बनाया जाता है ताकि ग़लत जानकारियों को ख़बर के रूप में पेश किया जा सके. ऑल्ट न्यूज़ ने पहले भी ऐसे फ़र्ज़ी ट्वीट से जुड़े कई फ़ैक्ट-चेक आर्टिकल्स पब्लिश किये हैं.


पंजशीर घाटी में तालिबानी आतंकियों के मारे जाने का बताकर मीडिया ने चलाए पुराने वीडियोज़, देखिये

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Pooja Chaudhuri is a senior editor at Alt News.