राम मंदिर निर्माण को लेकर शुरू हुई तैयारियों के बाद फ़रवरी 2021 में केंद्र सरकार ने अयोध्या में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने की मंज़ूरी दे दी. सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नाम से एक लेटर वायरल है. इस कथित लेटर में नरेंद्र मोदी ने योगी आदित्यनाथ के हिन्दू राष्ट्र के लिए किये गए प्रयासों को लेकर उन्हें धन्यवाद दिया है. इसके अलावा, लेटर में प्रधानमंत्री मोदी ने अयोध्या में अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने की मंज़ूरी भी दी है. इसके लिए 1 हज़ार करोड़ रुपये भी दिए है. लेटर के दूसरे पैराग्राफ़ में लिखा गया है, “हिन्दू हमेशा हिन्दू राष्ट्र के प्रति ईमानदारी और कड़ी मेहनत के लिए आपका और आपकी टीम का आभारी रहेगा. मैं आपको और आपकी टीम को आनेवाले 2022 के चुनाव में अच्छे परिणाम की शुभकामनाएं देता हूँ और एक बार फिर इस बड़ी कामयाबी के लिए धन्यवाद देता हूँ”. इस लेटर पर 5 मार्च 2021 की तारीख दी गई है.

ट्विटर यूज़र ज़ाकिर हुसैन अंसारी ने ये लेटर ट्वीट करते हुए दावा किया कि ये लेटर मोदी सरकार की सच्चाई बयां करता है. ट्वीट के मुताबिक, भाजपा देश को हिन्दू राष्ट्र बनाने में व्यस्त है. (आर्काइव लिंक)

कई यूज़र्स ने ऑल्ट न्यूज़ को टैग करते हुए इस लेटर की सच्चाई के बारे में पूछा है.

ट्विटर हैन्डल ‘@nandtara’ ने भी इस लेटर की हकीकत जानने के लिए ऑल्ट न्यूज़ को टैग किया.

फ़ैक्ट-चेक

सर्च करने पर हमें हाल में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को ख़त लिखने की कोई मीडिया रिपोर्ट नहीं मिली.

इसके अलावा, ख़त में प्रधानमंत्री मोदी द्वारा योगी आदित्यनाथ को प्रिय (डियर) के रूप में संबोधित किया गया है. जबकि आमतौर पर प्रधानमंत्री संबोधन के लिए श्री, श्रीमान या श्रीमती का प्रयोग करते हैं.

वायरल तस्वीर में देख सकते हैं कि चिट्ठी पाने वाले का नाम और पता नीचे बाएं कोने में नहीं लिखा गया है. जबकि ऑफ़िशियल लेटर में नीचे के बाएं कोने में नाम और पता लिखा होता है.

प्रधानमंत्री मोदी ने साल 2020 में योगी आदित्यनाथ को एक ख़त लिखा था. योगी आदित्यनाथ के पिता के गुज़र जाने पर प्रधानमंत्री ने उन्हें शोकपत्र लिखा था. इस लेटर की कॉपी आप नीचे देख सकते हैं.

सोर्स : आज तक

उत्तर प्रदेश सरकार के फ़ैक्ट-चेकिंग हैन्डल ने भी ट्वीट करते हुए इस ख़त को फ़र्ज़ी बताया है.

इस वायरल लेटर में अयोध्या में बनने वाले अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट को लेकर कई दावे किये गए हैं. 3 मार्च 2021 की लाइवमिंट की रिपोर्ट के मुताबिक, केंद्र सरकार से अयोध्या में अन्तर्राष्ट्रीय एयरपोर्ट बनाने को लेकर मिली मंज़ूरी के बाद संभवतः अगले साल (2022) की शुरुआत तक विमान सेवा शुरू हो जाएगी. आर्टिकल के मुताबिक, हाल ही में अयोध्या एयरपोर्ट निर्माण के लिए केंद्र सरकार ने 250 करोड़ और राज्य सरकार ने 1 हज़ार करोड़ रुपये दिए हैं. राज्य सरकार ने इस प्रोजेक्ट के लिए 555.66 एकड़ ज़मीन खरीदने के लिए कुल 1001 करोड़ 77 लाख रुपये मंज़ूर किये हैं.

PM मोदी और योगी आदित्यनाथ का एक और फ़र्ज़ी ख़त वायरल

पहले भी प्रधानमंत्री मोदी का योगी आदित्यनाथ को लिखा एक पत्र वायरल हुआ था. इस लेटर में प्रधानमंत्री मोदी ने योगी आदित्यनाथ हिन्दू राष्ट्र में सहयोग देने को लेकर धन्यवाद दिया था. इस कथित ख़त में बताया गया था कि प्रधानमंत्री मोदी ने राम मंदिर निर्माण के लिए 50 करोड़ रुपये दिए हैं.

वायरल लेटर

PIB फ़ैक्ट-चेक ने 8 अगस्त 2020 को ट्वीट कर इस ख़त को फ़र्ज़ी बताया था.

और भी कई मीडिया संगठनों ने फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट्स में इस ख़त को फ़र्ज़ी बताया था.

यहां इन दोनों वायरल पत्रों में कई बातें एक जैसी ही हैं. जैसे हिन्दू राष्ट्र के लिए योगी आदित्यनाथ का धन्यवाद करना, योगी आदित्यनाथ और उनकी टीम के हिन्दू राष्ट्र के लिए किये गए परिश्रम की सराहना करना और आने वाले चुनाव में सफ़लता के लिए शुभकामनाएं देना. दोनों पत्रों की समानताएं लाल रंग से चिन्हित की गई हैं.

कुल मिलाकर, नरेंद्र मोदी ने हिन्दू राष्ट्र के लिए योगी आदित्यनाथ के सहयोग और परिश्रम का शुक्रिया करते हुए कोई लेटर नहीं लिखा है. प्रधानमंत्री मोदी के हवाले से कई बार फ़र्ज़ी लेटर्स सोशल मीडिया पर शेयर किये गए हैं जिसपर लिखी हमारी फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट्स आप यहां पर पढ़ सकते हैं.


फ़ैक्ट-चेक : अमित शाह रेड कारपेट पर चले और राम नाथ कोविन्द नीचे?

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.