नागरिकता संशोधन कानून के खिलाफ चल रहे विरोध प्रदर्शन के दौरान, कुछ तस्वीरों को इस दावे से साझा किया गया जा रहा है कि ये तस्वीरें असम के हिरासत केंद्रों को दर्शाती है। साथ में साझा किये गए सन्देश के मुताबिक, “इस तरह के हालात मे रहना आप को मंजूर हे तो फिर आप का चुप रहना लाज़्मी हे..असम के डीटेंशन सेंटर की एक तस्वीर।”

यह दावा फसेबूक पर भी पोस्ट किया गया है।

इस तरह के हालात मे रहना आप को मंजूर हे तो फिर आप का चुप रहना लाज़्मी हे।🤐🤐
असम के डीटेंशन सेंटर की एक तस्वीर,,,

Posted by Aslam Khan Guj on Sunday, 15 December 2019

इसके अलावा, कुछ उपयोगकर्ताओं ने इस तस्वीर को अपनी वेबसाइट पर भी साझा किया है।

तथ्य जांच

पहली तस्वीर

एक आसान सा रिवर्स सर्च करने पर हमें पता चला कि यह तस्वीर अमेरिका में सीमा के आसपास पहरा लगाने की सुविधा को दर्शाती है। गेट्टी इमेजीस के मुताबिक, “MCALLEN, TX – JUNE 10: महा निरीक्षक के कार्यालय द्वारा साझा की गई इस तस्वीर में, यूएस बॉर्डर के पहरे की सुविधा वाले McAllen Station पर 10 जून, 2019 को कई परिवार देखने को मिले थे।” (अनुवाद)

दूसरी तस्वीर

दूसरी तस्वीर भी अमेरिका के हिरासत केंद्र की है। गेट्टी इमेजीस के अनुसार, “WESLACO, TX – JUNE 11: महानिरीक्षक द्वारा प्राप्त हुई यह तस्वीर, 11 जून, 2019 को टेक्सास के वेस्लाको में अमेरिकी सीमा पर पहरे वाले वेस्लेको स्टेशन पर परिवार की भीड़ को देखा जा सकता है।” (अनुवाद)

तीसरी तस्वीर

इस आखरी तस्वीर की पड़ताल ऑल्ट न्यूज़ ने अपने पहले के एक लेख में ही की थी। यह तस्वीर Dominican रिपब्लिक के ला रोमाना जेल की स्थिति को दर्शाती है।

इस तरह, विदेशी सीमा की पहरेदारी की सुविधा और जेल की तस्वीरों को असम के हिरासत केंद्र की बताकर झूठे दावे से साझा किया गया।

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Pooja Chaudhuri is a senior editor at Alt News.