19 नवम्बर की शाम आते-आते ये ख़बर आई कि भारतीय सेना ने पाक अधिकृत कश्मीर (PoK) में ‘पिनप्वाइंट स्ट्राइक’ की है. इस ख़बर को समाचार एजेंसी PTI के हवाले से कई बड़े मीडिया संगठन ने चलाया. आज तक ने शाम 7 बजकर 3 मिनट पर इसे ब्रेकिंग न्यूज़ बताते हुए TV पर दिखाना शुरू किया.

देखते ही देखते कई बड़े पत्रकर और न्यूज़ एजेंसी ने बताया कि PoK में भारत ने एक और एयर स्ट्राइक की है. ऐसा दावा करने वालों में आज तक, इंडिया टुडे, दैनिक जागरण, द टाइम्स ऑफ़ इंडिया, अमर उजाला, दैनिक भास्कर, टाइम्स नाउ, ABP न्यूज़, इंडिया टीवी, CNN न्यूज़18, फर्स्ट पोस्ट, TV9 गुजराती, डेक्कन हेराल्ड, अमर उजाला, रिपब्लिक भारत, वन इंडिया, ज़ी न्यूज़ आदि प्रमुख नाम हैं.

This slideshow requires JavaScript.

 

ABP न्यूज़ की ऐंकर रुबिका लियाक़त ने #AbkiBaarPokPaar हैशटैग के साथ ट्वीट किया और लिखा, ‘बारूद से होगा सबका स्वागत.’ वहीं न्यूज़ नेशन चैनल के कंसल्टिंग एडिटर दीपक चौरसिया ने लिखा, “पीओके में भारत का अब तक का सबसे बड़ा एयर स्ट्राइक, कई आतंकी ठिकाने ध्वस्त.” आज तक चैनल की ऐंकर अंजना ओम कश्यप ने भी ऐसा एक ट्वीट किया.

This slideshow requires JavaScript.

 

वहीं, कई ऐसे BJP से जुड़े नेता ने भी यही दावे किए. BJP राष्ट्रीय परिषद् के सदस्य हरिओम पाण्डेय, BJP गुजरात के सेकरेट्री अमित ठाकर, बिहार BJP से जुड़े अरुण कुमार सिन्हा, पंजाब BJP के सोशल मीडिया हेड वरुण पूरी, राज्यसभा सदस्य हरनाथ सिंह यादव और अरुण पुदुर कुछ प्रमुख नाम हैं.

This slideshow requires JavaScript.

इंडियन आर्मी ने ख़ारिज किया

कुछ ही मिनटों में ANI ने इंडियन आर्मी के हवाले से ये बताया कि LoC पर आज कोई फ़ायरिंग नहीं हुई है.

नवभारत टाइम्स के पत्रकार नरेन्द्र नाथ मिश्रा और इंडिया टुडे ग्रुप के सीनियर एडिटर शिव अरूर ने भी इस बात की पुष्टि की कि PoK में आज किसी तरह की सैन्य कार्रवाई नहीं हुई है.

सेना ने ये स्पष्ट किया PTI की स्टोरी 13 नवंबर को हुए संघर्ष विराम उल्लंघन (CFV) के विश्लेषण पर आधारित है.

यानी, कई मीडिया संगठन और पत्रकारों ने PoK में भारत की ‘पिनप्वाइंट स्ट्राइक’ बताकर एक ख़बर प्रसारित कर दी.

अफ़वाह का सोर्स कौन?

हमने इपोक (Epoch) टाइम से पता किया कि इस ख़बर को PTI का हवाला देकर सबसे पहले चलाने वालों में पत्रकार प्रशांत कुमार शामिल हैं.

इसके अलावा जितने भी मीडिया चैनलों ने ये ख़बर प्रकाशित की उनमें से अधिकतर ने इस ख़बर का सोर्स PTI को दिया है. हम यहां शुरूआती आर्टिकल्स के कुछ उदाहरण देखेंगे और ये पता करने की कोशिश करेंगे कि क्या सच में इस ख़बर का सोर्स PTI ही था. हमने इंडिया टुडे, द टाइम्स ऑफ़ इंडिया और बिज़नेस स्टैण्डर्ड में इस ख़बर की कॉपी देखी. तीनों ही मीडिया आउटलेट्स ने PTI की ही कॉपी छापी है. क्यूंकि तीनों रिपोर्ट शब्दशः मेल खाती हैं.

This slideshow requires JavaScript.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

Priyanka Jha specialises in monitoring and researching mis/disinformation at Alt News. She also manages the Alt News Hindi portal.