भाजपा दिल्ली के प्रवक्ता तजिंदर बग्गा ने 5-6 जनवरी की रात को मुंबई के गेटवे ऑफ इंडिया पर हुए प्रदर्शन को दर्शाने वाला एक 18 सेकंड का वीडियो ट्वीट किया है। यह प्रदर्शन जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) में हुई हिंसा के खिलाफ किया गया था, जिसमें कुछ नक़ाबपोश गुंडे हथियारों के साथ जेएनयू परिसर में घुस आये थे और छात्रों की पिटाई की थी। मुंबई प्रदर्शन का नेतृत्व पूर्व जेएनयू छात्र उमर खालिद ने किया था। बग्गा के दावे के अनुसार, “मुस्लिम और वामपंथी छात्रों ने मुंबई में नारे लगाए, “हिन्दुओं से आज़ादी” मगर इस समय जामिया या जेएनयू में नहीं, उन्होंने हिन्दुओ से आज़ादी के नारे मुंबई के गेटवे ऑफ़ इंडिया पर लगाए हैं।” (अनुवाद) उनके ट्वीट को 9000 बार रिट्वीट किया जा चूका है।

“हिन्दुओं से आज़ादी” के नारे नहीं लगाए गए हैं

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि बग्गा का यह दावा कि प्रदर्शनकारियों ने “हिन्दुओं से आज़ादी” के नारे लगाए हैं, साफ तौर पर गलत है। हमें इस प्रदर्शन का एक फेसबुक लाइव मिला, जिसमें भाजपा के प्रवक्ता द्वारा ट्वीट किये गए 18 सेकंड के वीडियो को 17:53 मिनट से देखा जा सकता है।

खालिद को ये नारे लगाते हुए सुना जा सकता है, “तो NPR से (आज़ादी),और CAA से (आज़ादी),और CAA से (आज़ादी), तो जातिवाद से (आज़ादी), और मनुवाद से (आज़ादी), और संघवाद से (आज़ादी), और RSS से (आज़ादी), और RSS से (आज़ादी), तो भगवत से भी (आज़ादी), तो उस मोदी से (आज़ादी)”

हमें यूट्यूब पर इस प्रदर्शन का एक लाइव वीडियो भी मिला, जिसमें 52:42 मिनट पर उन्हीं नारों को सुना जा सकता है। इसके अतिरिक्त, खालिद ने ट्वीट करते हुए बग्गा के दावों को झूठा बताया है।

भाजपा दिल्ली के प्रवक्ता तजिंदर पाल सिंह बग्गा ने पूर्व जेनएयू छात्र उमर खालिद के एक वीडियो को ट्वीट कर यह झूठा दावा किया कि उन्होंने हिन्दुओं के खिलाफ नारे लगाए थे, जबकि उमर ने वास्तव में जातिवाद, मनुवाद, आरएसएस, संघ, पीएम मोदी, गृह मंत्री अमित शाह और आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत के खिलाफ नारेबाज़ी की थी।

झूठे दावे से वीडियो वायरल

इस झूठे दावे को भाजपा मुंबई के प्रवक्ता सुरेश नखुआ ने भी साझा किया है।

इसके अलावा, मेजर सुरेंद्र पूनिया ने भी इस झूठे दावे को प्रसारित किया।

यह क्लिप फेसबुक और ट्विटर पर समान दावे से वायरल है।

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.