पीयूष गोयल के ख़िलाफ़ रेलवे कर्मचारियों के 2018 के प्रदर्शन का वीडियो हाल का बताया गया

ज़ी न्यूज़ का एक ब्रॉडकास्ट सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है. इसमें भारतीय रेलवे के कर्मचारी रेल मंत्री पीयूष गोयल के खिलाफ़ प्रदर्शन करते नज़र आ रहे हैं. इस वीडियो के मुताबिक भारतीय रलवे कर्मचारी गोयल के खिलाफ़ नारा लगा रहे हैं.

दिल्ली कांग्रेस विधायक अल्का लाम्बा के एक फ़ैन पेज ने फ़ेसबुक पर ये वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “रेल मंत्री प्यूष गोयल की बात रेलवे कर्मचारियों ने नहीं सुनी।जय कर नारे लगाए रेल मंत्री मुरादाबाद.”

ट्विटर यूज़र @KiranYa37047307 (आर्काइव लिंक) ने भी वायरल वीडियो इसी दावे के साथ शेयर किया. इसे कई अन्य ट्विटर यूज़र्स ने भी शेयर किया.

इसी तरह कई फ़ेसबुक यूज़र्स ने भी ये वीडियो शेयर किया.

फ़ैक्ट-चेक

हमने पाया कि वीडियो में बायीं तरफ नीचे 17 नवम्बर, 2018 की तारीख़ लिखी हुई है. इससे ही पता चल जाता है कि वीडियो हाल का नहीं है.

इसके बाद हमने ज़ी न्यूज़ के यूट्यूब चैनल पर कीवर्ड सर्च किया और पाया कि चैनल ने इसे वाकई 17 नवम्बर, 2018 को अपलोड किया था.

ज़ी न्यूज़ की इस रिपोर्ट के मुताबिक पीयूष गोयल को लखनऊ में पेंशन स्कीम वापिस लाने और कर्मचारियों को दी जाने वाली सेवाओं को नियमित करने को लेकर विरोध का सामना करना पड़ा था. इसके बारे में बिज़नेस स्टैण्डर्ड और हफ़िंगटन पोस्ट ने भी रिपोर्ट किया था.

गौर करने वाली बात है कि हमें ऐसी कोई भी रिपोर्ट नहीं मिली जिसमें हाल में ही रेलवे कर्मचारियों के विरोध की बात बताई गयी हो. जुलाई में भारतीय व्यापर संघ केंद्र (CITU) ने रेलवे कर्मचारियों और अन्य बड़े संगठनों के साथ मिलकर रेलवे के निजीकरण के खिलाफ़ प्रदर्शन किया था.

यानी 2 साल पुराना वीडियो जिसमें रेलवे कर्मचारी रेल मंत्री पीयूष गोयल के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं, हाल का बता कर शेयर किया जा रहा है.

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend