सोशल मीडिया यूज़र्स पत्थरबाज़ी का एक वीडियो शेयर करते हुए दावा कर रहे हैं कि किसान प्रदर्शनकारियों ने भाजपा विधायक पर हमला किया. वीडियो में देखा जा सकता है एक गाड़ी वहां से निकलने की कोशिश कर रही है और भीड़ उसपर पथराव कर रही है.

यूज़र्स ने ये वीडियो शेयर करते हुए लिखा, “#हरियाणा.# #किसान बिल के विरोध में #रुझान आने लगे..पहला #भूमि सूजन #भाजपा विधायक #उदय सिंह का जोरदार स्वागत किसानों द्वारा..#Farmers #KhattarYogiKisaanVirodhi.” (आर्काइव लिंक)

ये वीडियो फे़सबुक पर भी वायरल है.

 

#हरियाणा
#किसान बिल के विरोध में #रुझान आने लगे..

पहला #भूमि सूजन #भाजपा विधायक #उदय सिंह सिंह का 😋
“””””””””””””👇👇जोरदार स्वागत किसानों द्वारा..👢🥾

Posted by Rjd Manish Yaduvanshi on Friday, December 25, 2020

इसी तरह दर्जनों लोगों ने भी यही दावा किया.

फै़क्ट-चेक

ऑल्ट न्यूज़ ने जब वीडियो के फ़्रेम्स का कीवर्ड के साथ रिवर्स इमेज सर्च किया तो हमें 28 नवम्बर, 2020 की एक रिपोर्ट मिली. इस रिपोर्ट में बताया गया है कि राजस्थान के जालोर जिले के सरनाऊ पंचायत समिति के सेड़िया ग्राम पंचायत में 27 नवम्बर, 2020 को मतदान के दौरान दो गुटों के बीच झड़प हो गई थी. रिपोर्ट में लिखा है, “झड़प में दोनों गुटों द्वारा एक-दूसरों पर पत्थरबाजी भी की, जिससे कांग्रेस प्रत्याशी की गाड़ी के शीशे तोड़ दिए गए एवं दो समर्थकों के हल्की चोटें भी आई.” ये तनातनी हुई कांग्रेस सदस्य मोहन कुमार और सुरेश वियाग की वजह से. मोहन कुमार प्रदेश कांग्रेस कमिटी के पूर्व सदस्य हैं और सुरेश वियाग जिला कांग्रेस महासचिव हैं. इन दोनों की माताएं सेड़िया ग्राम पंचायत में प्रत्याशी थीं. मतदान के दौरान दोनों पक्षों के समर्थकों ने एक दूसरे पर फ़र्ज़ी वोटिंग का आरोप लगाया जिसके बाद झड़प हो गयी.

एक स्थानीय मीडिया आउटलेट राजस्थान भारती ने भी इस घटना के बारे में रिपोर्ट की थी. हमने इस प्लेटफ़ॉर्म के दिनेश कुमार माले से संपर्क किया. उन्होंने बताया किया उनके रिपोर्टर घटना के वक़्त मौके पर मौजूद थे और वीडियो भी बनाया है जिसे आउटलेट ने अपनी वेबसाइट पर पब्लिश भी किया है. दिनेश ने कहा, “ये घटना जालोर चितलवाना की है. जब पंचायत समिति का चुनाव हो रहा था तब दो गुटों में झगड़ा हुआ था. ये कांग्रेस और निर्दलीय प्रत्याशियों के गुटों के बीच का झगड़ा हुआ था.”

दैनिक भास्कर की रिपोर्ट भी इस बात की तस्दीक करती है.

हमने सांचोर के SHO से संपर्क किया और उन्होंने भी इस बात की पुष्टि करते हुए कहा, “चुनाव के समय 2 पार्टियों का आपस में झगड़ा हो गया था. ये घटना दिसम्बर के आस-पास की है. ये मामला करडा थाने का है.”

इसके अलावा गौर करने वाली बात ये भी है कि हरियाणा में ‘उदय सिंह’ नाम से कोई भी भाजपा विधायक है ही नहीं. हरियाणा विधानसभा की वेबसाइट पर इस नाम का एक भी रिज़ल्ट नहीं आता है.

कुल मिलाकर, जिस वीडियो को हरियाणा में भाजपा विधायक पर किसानों का हमला बताकर शेयर किया जा रहा है वो असल में राजस्थान का है. राजस्थान के सरनाऊ ग्राम पंचायत में पिछले वर्ष नवम्बर में चुनाव के दौरान कांग्रेस और निर्दलीय प्रत्याशी के कार्यकर्ताओं में फ़र्ज़ी वोटिंग को लेकर झड़प हो गयी थी.


नरेंद्र मोदी के परिजन उनके पद का फ़ायदा उठाकर कमा रहे हैं करोड़ों? नहीं, फ़र्ज़ी लिस्ट हुई वायरल

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

A journalist and a dilettante person who always strives to learn new skills and meeting new people. Either sketching or working.