16 जुलाई को अफ़गानिस्तान के विदेश मंत्रालय ने एक बयान जारी कर बताया कि इस्लामाबाद स्थित अफ़गान राजदूत की बेटी सिलसिला अलिखिल को कुछ घंटों के लिए अगवा कर लिया गया था. इस दौरान, सिलसिला के साथ मार-पीट होने की बात भी बताई गई थी. इस खबर के बाहर आते ही सोशल मीडिया पर सिलसिला की बताकर 2 तस्वीरें (लिंक 1, लिंक 2) शेयर की जाने लगीं. तस्वीरों में एक घायल महिला दिखती है.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ेसबुक पर ये तस्वीरें वायरल है. (लिंक 1, लिंक 2, लिंक 3)

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्टो न्यूज़ ने बताया कि ये तस्वीर दक्षिणपंथी मीडिया वेबसाइट ऑप इंडिया और दैनिक जागरण ने सिलसिला की बताते हुए शेयर की थी. इन रिपोर्ट्स को अब डिलीट कर दिया गया है लेकिन आर्काइव वर्ज़न आप यहां पर देख सकते हैं – ऑप इंडिया, दैनिक जागरण.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

इस तस्वीर को शेयर करने वाले लोगों में एक यूज़र ने यूट्यूब वीडियो का स्क्रीनशॉट शेयर किया था. स्क्रीनशॉट में इस महिला की पहचान गुल चाहत के रूप में की गई है. यूट्यूब पर की-वर्ड्स सर्च करने से हमें गुल का ऑफ़िशियल यूट्यूब चैनल मिला. वीडियो में गुल ने शोएब नाम के आदमी पर मारपीट का आरोप लगाया है.

‘गुल चाहत’ की-वर्ड्स के साथ वायरल तस्वीर को रिवर्स इमेज सर्च करने पर 16 जुलाई का एक फ़ेसबुक पोस्ट मिला.

पाकिस्तान के द न्यूज़ ने रिपोर्ट किया था कि गुल चाहत एक ट्रांस एक्टिविस्ट है. रिपोर्ट में गुल के हवाले से बताया गया था कि उन्हें जान का खतरा है.

पूर्व पाकिस्तानी पत्रकार मलिक खुर्रम खान देहवार ने भारतीय सोशल मीडिया यूज़र्स द्वारा गुल चाहत की तस्वीर को सिलसिला की बताकर शेयर करने के बारे में एक ट्वीट भी किया.

साथ में मलिक खुर्रम ने अफ़गान के राजदूत नजीबुल्लाह अलिखिल का इस वायरल तस्वीर के बारे में दिया गया एक बयान भी शेयर किया. बयान के मुताबिक, “मैं अपनी बेटी #SilsilaAlikhil की तस्वीर पोस्ट करने पर मजबूर हूं. क्योंकि किसी और की तस्वीर सोशल मीडिया पर मेरी बेटी की बताकर शेयर की गई. मैं उन्हें (गुल चाहत) ठीक से नहीं जानता हूं. शुक्रिया”. यहां, सिलसिला के पिता द्वारा पोस्ट की गई तस्वीर और गुल चाहत की तस्वीर में फ़र्क साफ़ दिखता है.

कुल मिलाकर, पाकिस्तान की ट्रांस ऐक्टिविस्ट गुल चाहत की तस्वीर सोशल मीडिया पर अफ़गान के राजदूत की बेटी सिलसिला की बताकर शेयर की गई.


योगी आदित्यनाथ पर निशाना साधते हुए UP पुलिस कर्मियों का पुराना वीडियो शेयर :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Pooja Chaudhuri is a senior editor at Alt News.