राहुल गांधी ने जिन मज़दूरों के लिए कार का इंतज़ाम किया, उनकी तस्वीरें भ्रामक दावों से शेयर

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने 16 मई को सुखदेव विहार फ़्लाईओवर के पास कुछ प्रवासी मज़दूरों से मुलाकात की थी. ख़बरों के अनुसार उन्होंने मज़दूरों का हाल जाना और उनके घर जाने की भी व्यवस्था की. इसी मुलाकात की दो तस्वीरें कुछ यूज़र्स शेयर कर रहे हैं. दोनों में दिख रही महिला की तस्वीर को घेरे में लाकर सवाल किया जा रहा है, “इनोवा मे सवारी करने वाले श्रमिक भारत मे कहा पाए जाते हैं?” (ट्वीट का आर्काइव) ये बड़ी अजीब बात है कि क्यूंकि राहुल गांधी के साथ बैठी देखी गयी महिला एक गाड़ी में बैठी दिखती है इसलिए उनके मज़दूर होने पे सवाल उठाया जा रहा है.

एक फ़ेसबुक ग्रुप में भी ये तस्वीरें शेयर करते हुए ऐसा ही दावा किया गया है.

rahul

ऑल्ट न्यूज़ के ऑफ़िशियल ऐप पर भी इन तस्वीरों की जांच के कई रिक्वेस्ट्स मिले हैं.

rahul with migrants

फ़ैक्ट-चेक

तस्वीरों का रिवर्स इमेज सर्च करने से हमें उत्तर प्रदेश कांग्रेस कमिटी के प्रेसिडेंट अजय कुमार लल्लू का एक ट्वीट मिला. ये ट्वीट 16 मई का ही है जिस दिन राहुल गांधी ने मज़दूरों से मुलाक़ात की थी. इस ट्वीट में चार तस्वीरें हैं. इनमें से तीन तस्वीरों में वही महिला दिख रही हैं, जिनकी तस्वीर को घेरा लगाकर अभी शेयर किया जा रहा है. अजय कुमार कुल्लू ने लिखा है कि दिल्ली के आश्रम इलाके में मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश की ओर पैदल चल रहे प्रवासी मज़दूरों से अचानक मिलने पहुंचे राहुल गांधी. कुछ देर उनके साथ रुककर उनके दर्द को समझा. इन सभी को इनके घर भेज दिया गया है. दो तस्वीरों में एक गाड़ी में कुछ लोग बैठे दिख रहे हैं.

राहुल गांधी की मज़दूरों से मुलाक़ात को मीडिया ने भी रिपोर्ट किया था. 16 मई को ANI ने इस मुलाकात की कुछ तस्वीरें शेयर की थी, पहली तस्वीर में राहुल गांधी मजदूरों से उनका हाल-चाल पूछते नजर आ रहे हैं. बाकि की तीन तस्वीरों में मजदूरों को उनके सामान के साथ गाड़ी में बैठे हुए देखा जा सकता है. बाएं से दूसरी तस्वीर में उसी महिला को देखा जा सकता है जो हरी साड़ी और सफेद तौलिए में नजर आ रही हैं. इस ट्वीट में ANI ने हरियाणा से आ रहे एक मजदूर के बयान का भी ज़िक्र भी किया है, जिसके मुताबिक, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने उन्हें उनके घरों तक पहुंचाने के लिए वाहनों का इंतजाम किया.

कई मीडिया आउटलेट्स ने इस पर वीडियो रिपोर्ट भी किया था. जनसत्ता के इस वीडियो में बताया गया है कि राहुल गांधी ने 25 प्रवासी मजदूरों के लिए गाड़ी का इंतजाम कर उन्हें घर तक पहुंचाया. वीडियो में 1 मिनट 45 सेकंड पर उसी महिला को गाड़ी में बैठते हुए देखा जा सकता है, जिनकी तस्वीर अभी वायरल हो रही है. वीडियो में एक प्रवासी मजदूर बताता है कि राहुल गांधी कुछ देर पहले हमसे मिलने आए थे. उन्होंने घर जाने के लिए हमारे लिए गाड़ी बुक की और कहा कि वे हमें घर तक छोड़ेंगे. उन्होंने हमें खाना, पानी और मास्क भी दिया.

इस तरह कुछ प्रवासी मजदूरों को घर तक पहुंचाने के लिए गाड़ी का इंतजाम किया गया था. जिसकी तस्वीरें भ्रामक दावों से शेयर हो रही है.

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend