“हिंदुस्तान का शेर जिसने As*** का बदला लिया। (Hindustan ka sher jisne As*** ka badla lia)” यह सांप्रदायिक पोस्ट रजिया बानो नाम के फेसबुक अकाउंट से मंदसौर बलात्कार मामले के आरोपी का समर्थन देते हुए किया गया है और कहा गया है कि यह कठुआ बलात्कार पीड़िता का बदला है। कठुआ बलात्कार मामले ने कुछ ही महीने पहले पूरे देश को झकझोड़ कर रख दिया था। इस पोस्ट के अनुसार मंदसौर की घटना कठुआ रेप केस में मुस्लमान लड़की से हिन्दू द्वारा किये गए बलात्कार और हत्या का बदला है क्योंकि इसमें पीड़िता हिन्दू और आरोपी मुसलमान है।

सोशल मीडिया पर यह पोस्ट विवाद का कारण बन गया, जहाँ इसे मंदसौर की घटना पर एक मुस्लिम की प्रतिक्रिया के तौर पर देखा जाने लगा। यह पोस्ट एक सांप्रदायिक तनाव को उत्तेजित करने के स्पष्ट इरादे से लिखा गया था और इसने अपना उद्देश्य हासिल कर लिया था। यह खतरनाक सोच रखने वाली रजिया बानो कौन है? यह असली अकाउंट है या नकली? आइए पता करते हैं।

इस फेसबुक प्रोफाइल के अनुसार रजिया बानो कराची, पाकिस्तान में रहती है और आवर लेडी ऑफ़ फातिमा यूनिवर्सिटी (Our Lady of Fatima University: OLFU) की एक सदस्य है। उन्होंने इसी विश्वविद्यालय में फैशन कला का अध्ययन करने का भी दावा किया है। प्रोफाइल में ऐसे कई संकेत है जो रजिया बानो को फर्जी खाता साबित करता है।

1. नाम को लिखे जाने में अंतर?

पहली बार ही देखने में जिस बात पर सबसे पहले नजर पड़ती है वह है इस यूजर का नाम। रजिया (Rajiya) में “z” आता है ना कि “j”। कई हिंदी बोलने वाले “z” को “j” के रूप में उच्चारण करते हैं क्योंकि ज्यादातर हिंदी बोलने वाले वर्णमाला का सही उपयोग नहीं कर पाते हैं, लेकिन लिखते समय एक पाकिस्तानी ऐसी गलती करे यह असंभव लगता है।

2. इन्टरनेट पर उपलब्ध तस्वीर का इस्तेमाल

इस यूजर की तस्वीर एक आम प्रोफ़ाइल तस्वीर है जिसका उपयोग कई सालों से किया जा रहा है। यह नकली खातों में देखी जाने वाला एक प्रवृत्ति है जहां अक्सर वे इंटरनेट पर उपलब्ध तस्वीरों का उपयोग करते हैं। ऑल्ट न्यूज़ ने पहले भी इस तरह की एक फर्जी अकाउंट giniromet को बेनकाब किया था।

3. पाकिस्तानी का हिंदी भाषा में पोस्ट लिखना

पाकिस्तानी रजिया बानो की प्रोफाइल से कई पोस्ट हिंदी में किए गए है जो इस ओर इशारा करते हैं कि यह एक भारतीय द्वारा बनाया गया नकली अकाउंट हो सकता है।

यहाँ “इंसाल्लाह” को “इंसाअल्लाह” करके लिखा गया है।

4. एक चिकित्सा विश्वविद्यालय में फैशन कोर्स

वह विश्वविद्यालय जहां रजिया कराची से पढने का दावा करती है वह पाकिस्तान में मौजूद ही नहीं है। आवर लेडी ऑफ़ फातिमा यूनिवर्सिटी (Our Lady of Fatima University: OLFU) फिलीपींस स्तिथ एक विश्वविद्यालय है जो दवा, नर्सिंग और दंत चिकित्सा में पाठ्यक्रम प्रदान करता है।

रजिया ने यहाँ से फैशन कोर्स करने का दावा किया है। रजिया का फेसबुक प्रोफाइल इसी विश्वविद्यालय में एक फैकल्टी होने का दावा भी करता है जबकि उसके प्रोफाइल के अनुसार वो कराची, पाकिस्तान में रहती है।

5. रजिया बानो या शर्मा जी?

20 मई के एक फेसबुक पोस्ट ने इस नफरतबाज़ रजिया बानो को पूरी तरह उजागर कर दिया। ‘क्या हाल है दोस्तों’ पोस्ट के जवाब में कमेंट्स सेक्शन में कुछ यूजर ने यह पूछा कि शर्मा जी नाम क्यों बदल लिया। एक कमेंट में रजिया बानो को “शर्मा जी” कहा गया है और दुसरे कमेंट में “पवन” कहा गया है। इस व्यक्ति को अपने नए अवतार में अपने दोस्तों के साथ बातचीत करते हुए देखा जा सकता है। शर्मा जी ने कहा, “बस इंतजार करें और देखें प्रिय” (अनुवाद)।

रजिया बानो का प्रोफाइल अब डिलीट कर लिया गया है। कई सोशल मीडिया यूजर इसके पोस्ट को सच मान बैठे और मंदसौर की घटना पर पाकिस्तानी मुसलमान की प्रतिक्रिया के रूप में देख कर आक्रोश प्रकट करने लगे। इस व्यक्ति का एजेंडा भयानक था इसने इस तरह के सांप्रदायिक रंग देने वाले पोस्ट करने से पहले एक बार सोचा भी नहीं। सतर्क रहें, यह व्यक्ति अभी भी किसी दूसरे नाम से सोशल मीडिया पर एक्टिव होगा और फिर से अपने विभाजनकारी एजेंडे को पूर्ण करने के लिए नई योजनायें बना रहा होगा।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Leave a Reply

avatar
  Subscribe  
Notify of