सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल है. वीडियो में पहाड़ी रास्ते पर गाड़ियों की लंबी लाइनें लगी हैं. दावा है कि ये वीडियो हिमाचल प्रदेश में घूमने आए लोगों का है जो अब वापस लौट रहे हैं. ट्विटर यूज़र ‘द हिमाचल क्लब’ ने भी ये वीडियो इसी दावे के साथ पोस्ट किया है. फ़िल्म निर्माता विनोद कापड़ी ने ये ट्वीट रीट्वीट किया है.

अभिनेत्री भैरवी गोस्वामी ने भी ये वीडियो ट्वीट किया है.

फ़ेसबुक यूज़र पंकज शर्मा ने ये वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा, “Tourist returning from Himachal Pradesh after landslidesजब इंसान ना माने तो प्रकृति खुद ही मनवा लेती है।”. (पोस्ट का आर्काइव लिंक)

 

Tourist returning from Himachal Pradesh after landslidesजब इंसान ना माने तो प्रकृति खुद ही मनवा लेती है।

Posted by Pankaj Sharma on Monday, 26 July 2021

फ़ेसबुक और ट्विटर पर कई लोगों ने ये वीडियो हिमाचल प्रदेश का बताते हुए पोस्ट किया है.

फ़ैक्ट-चेक

वायरल ट्वीट पर जवाब देते हुए एक यूज़र ने डेस्टिनेशन पाकिस्तान का एक ट्वीट शेयर किया है. डेस्टिनेशन पाकिस्तान, एक ट्रैवेल वेबसाइट है. ये वीडियो ट्वीट करते हुए @destinationpak ने लिखा, “बालाकोट-नारन रोड की हालत. कई यात्री ईद के बाद उत्तरी एरिया की ओर आगे बढ़ते हुए.”

पाकिस्तानी न्यूज़ चैनल 24 न्यूज़ एचडी ने 25 जुलाई 2021 को कग़ान घाटी में ईद के बाद पर्यटकों के भारी जमावड़े की खबर दी थी. आर्टिकल में शेयर की गई तस्वीर वीडियो से मिलती है.

पाकिस्तानी मीडिया आउट्लेट डेली टाइम्स ने 26 जुलाई को इस बारे में एक रिपोर्ट शेयर की थी. आर्टिकल के मुताबिक, ख़ैबर पख़्तूनख़्वा की कग़ान घाटी में लोग लाखों की संख्या में ईद की छुट्टियां मनाने पहुंचे थे. इस दौरान, घाटी की सड़कों पर गाड़ियों की लंबी लाइने देखने को मिलीं. रिपोर्ट में पुलिस डिपार्टमेंट के हवाले से बताया गया है कि घाटी में तकरीबन 7 लाख गाड़ियां आयी थीं.

इससे पहले भी हिमाचल प्रदेश की पुरानी तस्वीरें शेयर करते हुए उन्हें हाल की तस्वीर बताया गया था. इस बात में कोई दो राय नहीं है कि कोरोना की दूसरी लहर के बाद गाइडलाइन में दी गई थोड़ी छूट के बाद हिमाचल प्रदेश जैसी घूमने की जगहों पर लोगों की भीड़ देखने को मिली थी.

कुल मिलाकर, सोशल मीडिया पर गाड़ियों की लंबी लाइनों का वीडियो हिमाचल प्रदेश का नहीं बल्कि पाकिस्तान की कग़ान घाटी का है.


अखिलेश यादव के नाम का फ़र्ज़ी ट्वीट – नहीं कही राम मंदिर की जगह बाबरी मस्जिद बनाने की बात

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: