सोशल मीडिया पर शेयर किये जा रहे एक वीडियो में कुछ लोग हाथ में डंडा लेकर सड़क पर खड़े हैं. वीडियो में दिख रहा है कि ये लोग सेना की गाड़ी रोकते हैं. ये वीडियो पश्चिम बंगाल का बताकर शेयर किया जा रहा है.

कई फ़ेसबुक यूज़र्स ने ये वीडियो शेयर करते हुए लिखा है, “*पश्चिम बंगाल* सरकार, पुलिस, फौज सबको इनसे जान बचानी मुश्किल है। *एक घायल जवान को अस्पताल ले जाने के लिऐ रोक दिया गया।* यह दृश्य आप के अपने शहर या गली में जल्दी आनेवाला है.”

ये वीडियो उस समय भी शेयर किया जा रहा था जब पश्चिम बंगाल में विधानसभा चुनाव चल रहे थे. फ़ेसबुक यूज़र अविनाश चंदक ने ये वीडियो पोस्ट करते हुए लिखा, “भगवान बचाए दुनिया के इस सबसे बड़े लोकतंत्र को. पश्चिम बंगाल का एक और दृश्य. क्या ये लोकतंत्र है?”. (आर्काइव लिंक)

 

😡😡😡😡 God save this biggest democracy in d world… 😩😩😩
Another scene from West Bengal….
Is it democracy..🤔🤔

Posted by Avinash Chandak on Wednesday, 7 April 2021

एक और फ़ेसबुक यूज़र ने ये वीडियो इसी दावे के साथ पोस्ट किया है. (आर्काइव लिंक)

 

😡😡😡😡 God save this biggest democracy in d world…😩😩😩

Another scene from West Bengal….👇👇

Is it democracy..🤔🤔

दोस्तों, क्या यह दृश्य आप आप के शहर या गली में देखना चाहते हो😔

Posted by सम्पत मनमौजी on Wednesday, 7 April 2021

ट्विटर और फ़ेसबुक पर ये वीडियो पश्चिम बंगाल का बताकर शेयर किया जा रहा है.

इस वीडियो की सच्चाई जानने के लिए ऑल्ट न्यूज़ की ऑफ़िशियल एंड्रॉइड ऐप पर भी कई रीक्वेस्ट आई हैं.

फ़ैक्ट-चेक

वीडियो में लोग बंगाली भाषा में बात कर रहे हैं लेकिन ये बंगाली लहज़ा बांग्लादेश का है. वीडियो को गौर से देखने पर हमें गाड़ी पर बांग्लादेशी सेना का चिन्ह भी दिखा.

This slideshow requires JavaScript.

साथ ही, गाड़ी में बैठे जवानों की यूनिफ़ॉर्म पर AMC लिखा है जो Armed Forces Medical College (बांगलादेश) का शॉर्ट फ़ॉर्म है.

This slideshow requires JavaScript.

इसके अलावा, वीडियो को ध्यान से सुनने पर हमें एक नारा सुनाई दिया – “আমার ভাই শহীদ কেন খুনি হাসিনা জবাব দিন”. इसका अनुवाद है – “हमारे भाई शहीद क्यों, खूनी हसीना जवाब दो”. आगे, सर्च करने पर हमें बांग्लादेश में हुए प्रदर्शन के कुछ वीडियोज़ भी मिले.

 

আমার ভাই শহীদ কেন প্রশাসন জবাব চাই।,
আমার ভাইয়ের রক্ত বৃথা যেতে দিবনা।
নোয়াখালী জেলা তে হেফাজতে ইসলাম বাংলাদেশ এবং ইসলামী আন্দোলন বাংলাদেশ যৌথভাবে বিক্ষোভ মিছিল এবং সমাবেশ করেন। আগামী কাল সারাদেশে হরতাল মাঠে থাকবে হেফাজতে ইসলাম বাংলাদেশ ইসলামী আন্দোলন বাংলাদেশের ও তৌহিদী জনতা

Posted by Md Nasiruddin Bhuiya on Saturday, 27 March 2021

बूम की फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट में ओरिजिनल वीडियो शेयर किया गया है. 28 मार्च को फ़ेसबुक यूज़र ‘H.M. Al Amin’ ने ये वीडियो पोस्ट करते हुए इस वीडियो को बांगलादेश के हाथज़ारी रोड का बताया था.

 

হাটহাজারী সড়কে সেনাবাহিনী

Posted by H.M. Al Amin on Sunday, 28 March 2021

दरअसल, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी 26 मार्च को 2 दिवसीय बांग्लादेश दौरे के चलते ढाका पहुंचे थे. इस यात्रा का विरोध करते हुए वहां प्रदर्शन हुए थे. ये वीडियो इसी प्रदर्शन का है. बीबीसी की रिपोर्ट में बताया गया है कि बांग्लादेश के इस्लामवादी, मदरसा के छात्रों और लेफ़्ट-विंग के लोगों ने मोदी की मुस्लिम विरोधी पॉलिसियों के चलते विरोध किया था. इन प्रदर्शनों में 12 लोगों की मौत हुई थी.

ढाका ट्रिब्यून की रिपोर्ट के मुताबिक, बांग्लादेश के हाथज़ारी में प्रदर्शन के दौरान 4 लोगों की मौत हुई थी. रॉइटर्स ने भी इन प्रदर्शनों के बारे में वीडियो रिपोर्ट शेयर की थी.

कुल मिलाकर, बांग्लादेश में प्रधानमंत्री मोदी की यात्रा के विरोध में प्रदर्शन हुए थे. इसका वीडियो सोशल मीडिया पर पश्चिम बंगाल का बताकर शेयर किया गया.


NDTV पर सोशल मीडिया का निशाना, लेकिन क्या उसने झूठ रिपोर्ट किया था?

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.