सुप्रीम कोर्ट के वकील हरीश साल्वे की बताकर एक ऑडियो क्लिप व्हाट्सऐप पर शेयर की जा रही है. 5 मिनट की इस ऑडियो क्लिप में CAA के विरोध में दिसम्बर 2019 से फ़रवरी 2020 के बीच हुए प्रदर्शनों के बारे में बात की गयी है. इस ऑडियो क्लिप में प्रदर्शकों को बदमाश और धोखेबाज़ कहा गया है. क्लिप में ये भी कहा गया – “राहुल गांधी और असदुद्दीन ओवैसी जैसे लोगों का प्रदर्शकों के बिना कोई भविष्य नहीं है.”

फ़ैक्ट-चेक

ऑडियो क्लिप को गौर से सुनने पर 1 मिनट 34 सेकंड पर ये व्यक्ति अपनी पहचान सुरेश कोचट्टिल बताता है. सर्च करने पर हमें इस नाम से एक लिंक्ड-इन प्रोफ़ाइल मिली. प्रोफ़ाइल के मुताबिक, सुरेश मलयालम भाषीय न्यूज़ चैनल, जनम टीवी के चीफ़ ऑपरेटिंग ऑफ़िसर हैं. सुरेश की फ़ेसबुक प्रोफ़ाइल पर भी यही जानकारी दी गई है.

पिछले साल अगस्त में, सुरेश ने इस ऑडियो क्लिप को लेकर एक क्लेरिफ़िकेशन पोस्ट किया था. पोस्ट के मुताबिक, “मेरी एक पुरानी ऑडियो क्लिप व्हाट्सऐप पर वायरल हो रही है. इस ऑडियो क्लिप को ऐंटी CAA प्रोटेस्ट के दौरान रिकॉर्ड और रिलीज़ किया गया था. लेकिन पिछले कुछ दिनों से मेरे कुछ दोस्तों ने कॉल/मेसेज कर मुझसे इस बात की पुष्टि की है कि ये ऑडियो क्लिप मेरी ही है न कि हरीश साल्वे की. क्लिप को ध्यान से सुनने पर 1 मिनट 34 सेकंड पर मैं अपना नाम बताता हूं. उम्मीद है कि ये बात सारा कन्फ़्यूज़न दूर कर देगी.” आगे वो पोस्ट में बताते हैं, “पिछले कुछ महीनों में, मेरा एक वीडियो जस्टिस श्रीकृष्णा का बताकर शेयर हो रहा था जिसके बाद उन्हें अपने बारे में एक स्पष्टीकरण जारी करना पड़ा कि वीडियो में दिखने वाले व्यक्ति वो नहीं है. उम्मीद है कि हरीश साल्वे जी को इससे न गुज़रना पड़े.”

 

An old audio clip of mine is going viral on WhatsApp. It was recorded and released during the anti CAA agitation. Over the last few days, many friends have called / messaged me to confirm it was me and not Harish Salve, as many claimed. If you listen to it closely, at 1:34, i mention by name. Hope this clears the confusion.

A few months ago, a video of mine got credited to Justice Srikrishna, so much so that he had to issue a clarification that it was not him. I hope Harish Salve ji is not forced to undergo this trouble.

Posted by Suresh Kochattil on Sunday, 16 August 2020

पिछले साल मार्च में सुप्रीम कोर्ट के वकील हरीश साल्वे ने मीडिया संगठन मनी कंट्रोल को CAA पर अपनी राय बताई थी. उन्होंने कहा, “मैं ये समझने में असमर्थ रहा हूं कि एक कानून जो एक निश्चित वर्ग के लोगों को निश्चित समय सीमा और कुछ पैमानों के आधार पर कुछ अधिकार प्रदान कर रहा है, तो उसे कैसे कोई भेदभावपूर्ण बताया जा सकता है?” यही बात ऑडियो क्लिप में भी कही गई है.

ऑल्ट न्यूज़ से हुई बातचीत में हरीश साल्वे ने इस बात की पुष्टि की है कि ये ऑडियो क्लिप उनकी नहीं है.

इस तरह, जनम टीवी के COO सुरेश कोचट्टिल की ऑडियो क्लिप सुप्रीम कोर्ट के वकील हरीश साल्वे की बताकर शेयर की गई. पिछले साल अप्रैल में भी प्रवासी मज़दूरों के बारे में एक ऑडियो क्लिप हरीश साल्वे का बताकर शेयर किया गया था.


नरेंद्र मोदी के परिवार के लोग उनके पद का फ़ायदा उठाकर कमा रहे हैं करोड़ों? फ़र्ज़ी लिस्ट हुई वायरल

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Archit is a graduate in English Literature from The MS University of Baroda. He also holds a post-graduation diploma in journalism from the Asian College of Journalism. Since then he has worked at Essel Group's English news channel at WION as a trainee journalist, at S3IDF as a fundraising & communications officer and at The Hindu as a reporter. At Alt News, he works as a fact-checking journalist.