BJP प्रवक्ता संबित पात्रा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल का 18 सेकंड का एक वीडियो ट्वीट किया. उन्होंने इसे शेयर करते हुए लिखा. “तीनों फार्म बिल का लाभ गिनाते हुए सर जी.” इसमें अरविन्द केजरीवाल को ये कहते हुए सुना जा सकता है, “ज़मीन नहीं जाएगी, आपका MSP नहीं जायेगा, आपकी मंडी नहीं जाएगी. अब किसान अपनी फसल पूरे देश में कहीं भी बेच सकता है. अब किसान को अच्छे दाम मिलेंगें वो मंडी के बाहर कहीं भी बेच सकता है. दिलीप जी, ये 70 साल के अंदर सबसे बड़ा क्रांतिकारी कदम होगा कृषि के क्षेत्र में.” इस आर्टिकल के लिखे जाने तक पात्रा के ट्वीट को हज़ारों लाइक्स रीट्वीट्स मिल चुके हैं. (आर्काइव लिंक)

एक और वेरीफ़ाइड हैंडल ने ये वीडियो ट्वीट करते हुए यही दावा किया कि अरविन्द केजरीवाल किसान बिल के समर्थन में आये.

BJP कार्यकर्ता विकाश प्रीतम सिन्हा ने ये वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा, “अगर झूठ, फरेब, धोखा, मक्कारी और धूर्तता का कोई चेहरा होता तो वह बिल्कुल ऐसा होता।” इस ट्वीट को DD न्यूज़ के पत्रकार अशोक श्रीवास्तव ने रीट्वीट किया. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

गोपाल गोस्वामी नाम के एक और ट्विटर यूज़र ने ये वीडियो ट्वीट करते हुए लिखा है, “यह आदमी इस सदी का सबसे बड़ा स्कैम है, सुनिए एक वर्ष पहले का कृषि बिल पर इनका अभिप्राय क्या था.” इसके अलावा @Being_Humor, @capt_mishra नाम के यूज़र्स ने भी ये वीडियो शेयर किया.

फ़ैक्ट-चेक

ये वीडियो असल में एडिट किया गया है. असली वीडियो में अरविन्द केजरीवाल किसान बिल के विरोध में बोलते हुए सुने जा सकते हैं. सोशल मीडिया पर कई लोगों ने इस ओर इशारा किया कि ये वीडियो एडिटेड है. हमने पाया कि वीडियो में अलग-अलग समय पर कई छोटे-छोटे हिस्सों को काटकर ये 18 सेकंड का वीडियो बनाया गया है जिसे हमने नीचे बोल्ड कर रखा है. ज़ी पंजाबी हरियाणा हिमाचल के यूट्यूब चैनल ने ये पूरा वीडियो 15 जनवरी 2021 को अपलोड किया है. ये इंटरव्यू चैनल के एडिटर दिलीप तिवारी और उनके सहयोगी जगदीप संधू ने लिया थी.

वीडियो की शुरुआत में 5 मिनट 55 सेकंड पर मिनट पर जगदीप संधू अरविन्द केजरीवाल से सवाल करते हैं, “केंद्र सरकार दावा कर रही है कि किसान की इनकम डबल करने की कोशिश की जा रही है.”

अरविन्द केजरीवाल – “कैसे? केंद्र सरकार ने और भारतीय जनता पार्टी ने बड़े-बड़े नेता मैदान में उतारे. इनके सारे बड़े मंत्री, मुख्यमंत्री मैदान में उतरे लोगों को समझाने के लिए कि ये बिल किसानों के फायदे में है. मैंने इन सबके भाषण सुने हैं. उन भाषणों में क्या कहते हैं ये? भाषण में कहते हैं – जी इस बिल से आपकी ज़मीन नहीं जाएगी. ये तो फ़ायदा नहीं हुआ. ये तो थी ही, ज़मीन तो थी. आपका MSP नहीं जायेगा. ये तो फ़ायदा नहीं हुआ. ये तो था ही. आपकी मंडी नहीं जाएगी. ये तो था ही. फ़ायदा क्या हुआ? इनका एक भी नेता फ़ायदा नहीं गिना पा रहा. जब बहुत ज़्यादा कुरेदो तो फायदे के नाम पर कहते हैं, अब किसान अपनी फसल पूरे देश में कहीं भी बेच सकता है. यही फ़ायदा गिनाते हैं न ये! अब किसान को अच्छे दाम मिलेंगे, वो मंडी के बाहर कहीं भी बेच सकता है. मैं उनसे केंद्र सरकार से पूरी विनम्रता से पूछना चाहता हूं. आज पंजाब में और हरियाणा में मंडी में MSP 1800 रुपये क्विंटल है गेंहू की. बिहार में मंडी नहीं है वहां 800 रुपये में किसान बेच रहा है. वो जो 800 रुपये में किसान बेच रहा है उसे ये बता दो कि वो पूरे देश में कहां जाके मंडी के बाहर बेचे कि उसे साढ़े 1800 रुपये से ज़्यादा का दाम मिल जाये?”

9 मिनट 48 सेकंड पर अरविन्द केजरीवाल एक और सवाल का जवाब देते हुए कहते हैं, “ये तीनों किसान बिल वापस हो. और MSP की गारंटी का कानून लाया जाये. MSP स्वामीनाथन आयोग के हिसाब से 50% प्रॉफ़िट के हिसाब से जितनी कॉस्ट है उसका 50% ऐड करके MSP तैयार की जाये. अगर ये आ गया. दिलीप जी, ये 70 साल के अंदर सबसे बड़ा क्रांतिकारी कदम होगा कृषि क्षेत्र में.

यानी, हाल के एक इंटरव्यू से छोटे-छोटे हिस्से लेकर एक 18 सेकंड की क्लिप तैयार की गयी ताकि ये दिखाया जा सके कि अरविन्द केजरीवाल फ़ार्म बिल के समर्थन में बोल रहे हैं. इस एडिटेड क्लिप को BJP प्रवक्ता संबित पात्रा ने भी शेयर किया. संबित पात्रा द्वारा पहले कई मौकों पर फैलाई गयी ग़लत जानकारियों को ऑल्ट न्यूज़ ने संकलित किया है:

प्रोपोगेन्डा चीफ़ संबित पात्रा : BJP के राष्ट्रीय प्रवक्ता के 18 ग़लत दावों की लिस्ट


लाल किला पर प्रदर्शनकारी किसानों ने न तिरंगा हटाया था न खालिस्तानी झंडा फहराया, देखिये वीडियो रिपोर्ट

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged:
About the Author

Priyanka Jha specialises in monitoring and researching mis/disinformation at Alt News. She also manages the Alt News Hindi portal.