सोशल मीडिया पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के एक कथित ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल है. ट्वीट में लिखा है – “कंगना रनौत द्वारा की गई टिप्पणी देश की भावनाओं को आहत करने वाली है, मै स्वयं उन्हें पद्म पुरस्कार दिये जाने के लिए शर्मिंदगी महसूस कर रहा हूँ! मेरी सरकार श्री@narendramodi से विनती है कि मुझे पुरस्कार वापस लेने की अनुमति दी जाए।”. ये तस्वीर शेयर करते हुए यूज़र्स कह रहे हैं कि देश के राष्ट्रपति को प्रधानमंत्री से अनुमति मांगनी पड़ रही है.

बता दें कि अभिनेत्री कंगना रनौत ने टाइम्स नाउ के एक इवेंट के दौरान, स्वतंत्रता सेनानियों को लेकर विवादित बयान दिया था. कंगना ने कहा था कि हमें जो आज़ादी 1947 में मिली वो भीख में मिली थी. भारत को असली आज़ादी साल 2014 में मिली है. इस बयान को लेकर कंगना की काफ़ी आलोचना हुई. और उनके खिलाफ़ शिकायत भी दर्ज करवाई गई.

फ़ेसबुक पेज ‘Now Mahfooz Khan’ ने ये तस्वीर इसी दावे के साथ पोस्ट की. आर्टिकल लिखे जाने तक इसे 700 से ज़्यादा बार शेयर किया जा चुका है. (पोस्ट का आर्काइव लिंक)

मेरे खयाल से prasident ऑफ़ इंडिया को किसी की अनुमती की आवश्कता नही हो चाहिये?

पद्म पुरस्कार वापस लेना चाहिए 🤔🤔

Posted by Now Mahfooz Khan on Monday, 15 November 2021

फ़ेसबुक पर ये तस्वीर वायरल है.

This slideshow requires JavaScript.

ऑल्ट न्यूज़ के ऑफ़िशियल व्हाट्सऐप नंबर (+91 76000 11160) और मोबाइल ऐप पर इस स्क्रीनशॉट की जांच के लिए कुछ रीक्वेस्ट आयी हैं.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का ऑफ़िशियल ट्विटर हैन्डल ‘@rashtrapatibhvn’ है न कि ‘@rashtrptibhvn’. स्क्रीनशॉट में ट्विटर हैन्डल ‘@rashtrptibhvn’ दिख रहा है. साथ ही इसमें President of India की बजाय Prasident of India लिखा है.

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद की ट्विटर टाइमलाइन पर ऑल्ट न्यूज़ को ऐसा कोई ट्वीट नहीं मिला. अगर उन्होंने कोई ट्वीट किया होता तो मीडिया में इस बारे में खबर ज़रूर होती.

आगे, ट्विटर हैन्डल ‘@rashtrptibhvn’ के बारे में सर्च करते हुए हमें पता चला कि ये अकाउंट फ़िलहाल सस्पेन्ड कर दिया गया है.

वायरल स्क्रीनशॉट में दिख रहे ट्वीट का आर्काइव वर्ज़न आप यहां देख सकते हैं. आर्काइव लिंक में इस ट्विटर अकाउंट का बायो दिख रहा है जिसमें इसे राष्ट्रपति का फै़न अकाउंट बताया गया है.

इसके अलावा, कई ट्विटर यूज़र्स ने इस हैन्डल के पुराने ट्वीट्स पर रिप्लाइ करते हुए इसे फ़र्ज़ी अकाउंट बताया है. एक ट्विटर यूज़र ने ‘@rashtrptibhvn’ के प्रोफ़ाइल का स्क्रीनशॉट शेयर करते हुए गृहमंत्री कार्यालय, प्रधानमंत्री कार्यालय और दिल्ली पुलिस को टैग किया था. साथ में यूज़र ने राष्ट्रपति के नाम से कार्यरत इस फ़र्ज़ी ट्विटर अकाउंट पर कार्यवाही करने की मांग भी की थी.

कुल मिलाकर, राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नाम से चलाए जा रहे फ़र्ज़ी ट्विटर अकाउंट के एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट असली मानकर शेयर किया गया. राष्ट्रपति ने कंगना से पद्मश्री वापस लेने के लिए PM मोदी से अनुमति नहीं मांगी है.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.

Tagged: