भारत के पूर्व चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई के एक कथित ट्वीट का स्क्रीनशॉट सोशल मीडिया पर वायरल है. इस कथित ट्वीट को ‘@RanjanGogoii’ हैंडल से पब्लिश किया गया है. ट्वीट के मुताबिक, “”मुस्लिम”, “बौद्ध” और “ईसाई” अपने अपने “त्योहार” कैसे मनाएंगे? यह उनके “समाज” के लोग तय करेंगे, लेकिन #हिन्दू अपने “त्योहार” कैसे मनाएगे? यह भारत का कोर्ट तय करेगा ! भारतीय संविधान के “भेदभाव” मूलक अनुच्छेद 25, 26, 27, 28, 29, 30 और 31 में अब “संशोधन” किया जाना चाहिए।”.

फ़ेसबुक यूज़र आर्यन सिंह ने इस ट्वीट का स्क्रीनशॉट पोस्ट किया है.

Jai Shree Ram 🙏 🙏

Posted by Aryan Singh on Saturday, 12 June 2021

फ़ेसबुक पर ये स्क्रीनशॉट वायरल है.

फ़ैक्ट-चेक

ट्विटर पर सर्च करने से हमें रंजन गोगोई के नाम से चल रहे कई ट्विटर अकाउंट्स मिले. लेकिन इनमें से एक भी अकाउंट वेरीफ़ाइड नहीं है जो संदेह उत्पन्न करता है. इसके अलावा, हमें ‘@RanjanGogoii’ हैन्डल वाला कोई ट्विटर अकाउंट नहीं मिला.

आगे, ट्विटर हैन्डल ‘@RanjanGogoii’ के बारे में पता लगाने के लिए ऑल्ट न्यूज़ ने वेब आर्काइव का सहारा लिया. वेब आर्काइव पर ट्विटर हैन्डल ‘@RanjanGogoii’ के ढेर सारे ट्वीट्स मिले. इन आर्काइव वर्ज़न में हमने देखा कि इस ट्विटर हैन्डल ने अपने बायो में ख़ुद को पैरोडी अकाउंट बताया है.

आर्काइव खंगालने पर हमें इस वायरल ट्वीट का आर्काइव वर्ज़न भी मिला जिसे 26 मार्च 2020 को ट्वीट किया गया था.

आगे, इन ट्वीट्स के आर्काइव लिंक को कॉपी कर गूगल पर सर्च करने से हम ट्विटर हैन्डल ‘@PuspendraTweet’ तक पहुंचे. सीधी भाषा में कहे तो ये दोनों ट्विटर हैन्डल एक ही हैं. पहले इस ट्विटर अकाउंट का हैन्डल नेम ‘@RanjanGogoii’ था जिसे फ़िलहाल ‘@PuspendraTweet’ कर दिया गया है.

हमें ट्विटर पर इस ट्वीट को सबसे पहले शेयर करने का उदाहरण ट्विटर हैन्डल ‘@PuspendraTweet’ का ही मिला. इस ट्विटर हैन्डल ने 26 मार्च 2020 को दोपहर 3 बजकर 45 मिनट पर ये ट्वीट किया था.

गौर करें कि पहले रंजन गोगोई और अब पुष्पेंद्र के नाम से चलने वाले इस अकाउंट को कई वेरीफ़ाइड अकाउंट्स फ़ॉलो करते हैं जिसमें कपिल मिश्रा, मेजर सुरेन्द्र पुनिया, गजेन्द्र चौहान शामिल हैं.

This slideshow requires JavaScript.

कुल मिलाकर, एक फ़र्ज़ी हैन्डल का ट्वीट पूर्व चीफ़ जस्टिस रंजन गोगोई का बताकर सोशल मीडिया पर शेयर किया गया. पहले भी नीता अंबानी, डॉ. कफ़ील खान, किसान नेता राकेश टिकैत के नाम से चल रहे फ़र्ज़ी हैन्डल्स के ट्वीट असली मानकर शेयर किये गए थे.


जम्मू कश्मीर में बसायी गयी रोहिंग्या की बस्ती उखाड़ी गयी?

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: