26 जनवरी को दिल्ली में किसानों की ट्रैक्टर रैली के दौरान हुई हिंसा ने किसान आंदोलन को झटका दिया. इसके बाद गाज़ीपुर बॉर्डर पर पुलिसबल की बढ़ती तैनाती ने आंदोलन का माहौल ठंडा कर दिया. इस बीच मीडिया से बात करते हुए भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत रो पड़े. उन्होंने कहा कि वो आत्महत्या कर लेंगे लेकिन आंदोलन समाप्त नहीं करेंगे. इसके बाद कहानी में नया मोड़ आया और बड़ी संख्या में किसान गाज़ीपुर बॉर्डर पर पहुंचने लगे. इस दौरान सोशल मीडिया पर भी इसकी ख़ूब चर्चा हुई.

ट्विटर पर राकेश टिकैत के नाम से कई हैन्डल्स ट्वीट करने लगे. और ट्विटर यूज़र्स भी इन हैन्डल्स को राकेश का मानकर इन्हें फ़ॉलो करने लगे.

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने ट्विटर हैन्डल “@rkeshtikait” को राकेश टिकैत का मानते हुए उनके ट्वीट को कोट ट्वीट किया. (आर्काइव लिंक)

फ़ैक्ट-चेक

इस आर्टिकल में हम राकेश टिकैत के नाम से बने इन हैन्डल्स की असलियत आपको बताएंगे. और साथ ही आपको राकेश टिकैत का असली ट्विटर अकाउंट कौन सा है, ये भी बताएंगे.

राकेश टिकैत का ऑफ़िशियल ट्विटर अकाउंट कौन सा है?

ऑल्ट न्यूज़ ने राकेश टिकैत के असली ट्विटर अकाउंट तक पहुंचने के लिए उनके ऑफ़िशियल फ़ेसबुक पेज की मदद ली. फ़ेसबुक पेज पर राकेश टिकैत के ट्विटर और इंस्टाग्राम अकाउंट का लिंक दिया गया है. राकेश टिकैत का ट्विटर हैन्डल “@RakeshTikaitBKU” है. इस अकाउंट के फ़ॉलोवर्स की संख्या 77 हज़ार के पार है. राकेश टिकैत का इंस्टाग्राम अकाउंट “rakesh.tikait” है जिसके फ़ॉलोवर्स 25 हज़ार के पार हैं. बाकी अकाउंट से अलग ये सोशल मीडिया अकाउंट्स नियमित रूप से किसान आंदोलन के वीडियोज़ और तस्वीरें शेयर करता रहता है.

राकेश टिकैत ने 29 जनवरी को दोपहर 12 बजे ट्वीट करते हुए बताया कि उनका आधिकारिक ट्विटर हैंडल “@RakeshTikaitBKU” और “@OfficialBKU” हैं.

राकेश टिकैत के नाम से चलाए जा रहे कुछ फ़र्ज़ी ट्विटर अकाउंट्स

1. @RakeshTkaite

ये ट्विटर अकाउंट जुलाई 2019 में बनाया गया था. इस अकाउंट के फ़ॉलोवर्स 42 हज़ार के पार हैं. इस ट्विटर अकाउंट ने “#राकेश_टिकैत_किसानों_की_आवाज_है” के साथ काफ़ी ट्वीट्स किये हैं.

इस हैन्डल को यूज़र्स राकेश टिकैत का मानकर समर्थन दे रहे हैं और फ़ॉलो भी कर रहे हैं. इस हैन्डल ने कई ऐसे ट्वीट्स किये हैं जिससे लगे कि ये अकाउंट राकेश टिकैत का ही है. (आर्काइव लिंक)

जांच करने पर हमने पाया कि ये एक फ़र्ज़ी ट्विटर अकाउंट है. ट्विटर टाइमलाइन चेक करने पर हमने पाया कि इस अकाउंट का हैन्डल नेम पहले “@TurkBilal007” था. ट्विटर पर इस हैन्डल आईडी को सर्च करने से हमें @RakeshTkaite हैंडल मिलता है. इसके अलावा @RakeshTkaite के पुराने ट्वीट्स के रिप्लाई में हमें @TurkBilal007 हैन्डल नेम दिखता है. इसकी वजह है कि अगर कोई अपना हैन्डल नेम बदल दे तब भी उसके पुराने ट्वीट्स के रिप्लाई में पिछला हैन्डल नेम दिखता है.

This slideshow requires JavaScript.

2. @rkeshtikait

इस ट्विटर हैन्डल के फ़ॉलोवर्स की संख्या 18,100 के पार है. इस अकाउंट को दिसम्बर 2020 में बनाया गया था. ट्विटर बायो में इसे ‘ऑफ़िशियल ट्विटर अकाउंट’ बताया गया है. अरविन्द केजरीवाल ने इसी हैन्डल के एक ट्वीट को कोट ट्वीट किया है.

28 जनवरी 2021 को इस हैन्डल ने एक ट्वीट किया था, “जब तक जिंदा हूं किसान के लिए लड़ता रहूंगा ।” आर्टिकल लिखे जाने तक इस ट्वीट को 60 हज़ार बार लाइक और 13 हज़ार बार रीट्वीट किया गया है. (आर्काइव लिंक)

टाइमलाइन खंगालने पर हमें इस अकाउंट के पुराने ट्वीट्स के रिप्लाइ में हैन्डल नेम @Kiransingh_077 दिखा. ट्विटर पर इस हैन्डल नेम को सर्च करने से रिज़ल्ट में ट्विटर हैन्डल @rkeshtikait मिलता है. इसके अलावा, कई पुराने ट्वीट्स के रिप्लाई में हमें हैन्डल नेम @Kiransingh_077 दिखता है.

This slideshow requires JavaScript.

3. @Rakesh_Tiket

ट्विटर अकाउंट @Rakesh_Tiket के फ़ॉलोवर्स की संख्या 14 हज़ार के पार है. इसे जनवरी 2016 में बनाया गया था.

From : “@Salman__Iqbal”

फिलहाल इस ट्विटर हैन्डल का नाम बदल कर @DineshKaushik_ कर दिया गया है. इस हैन्डल के पुराने ट्वीट्स पर रिप्लाई में आप हैन्डल नेम @Rakesh_Tiket देख सकते हैं.

This slideshow requires JavaScript.

लेकिन इस हैन्डल नेम को अब एक दूसरे अकाउंट ने ले लिया है. ये ट्विटर अकाउंट भी फ़र्ज़ी ही है.

उपरोक्त ट्विटर हैन्डल्स से कई ऐसे ट्वीट्स किये गए हैं जो किसान प्रदर्शन की छवि को नुकसान पहुंचा सकते हैं. (पहला ट्वीट, दूसरा ट्वीट, तीसरा ट्वीट, चौथा ट्वीट)

This slideshow requires JavaScript.

इसके अलावा, ट्विटर पर कई बड़े नेताओं और कार्यकर्ताओं ने अपने ट्विटर अकाउंट का नाम बदलकर #MeBhiRakeshTikait किया है. लेकिन इन अकाउंट्स के हैन्डल नेम बदले नहीं गए हैं. यूज़र्स ऐसा राकेश टिकैत के समर्थन में कर रहे हैं. इन लोगों में आम आदमी पार्टी के सदस्य @imfulara, E-विज़र्ड डिजिटल सोल्यूशन के फ़ाउन्डर विवेक गुप्ता शामिल है.

ये पहली बार नहीं है कि खबरों में चर्चा का विषय बने किसी व्यक्ति के नाम से ट्विटर अकाउंट बनाया गया हो. पहले भी गुजरात स्वास्थ्य मंत्री के बेटे को रोकने वाली पुलिसकर्मी सुनीता यादव के नाम से कई फ़र्ज़ी ट्विटर अकाउंट्स बनाए गए थे. इसके अलावा, डॉ. कफ़ील खान, दिल्ली पुलिस अफ़सर सीमा ढाका के नाम से भी फ़र्ज़ी ट्विटर अकाउंट्स बनाए गए थे.

तो, जैसा कि हमने देखा किसान आंदोलन के चलते चर्चा में बने भारतीय किसान यूनियन के राष्ट्रीय प्रवक्ता राकेश टिकैत के नाम से ट्विटर पर कई फ़र्ज़ी अकाउंट बनाए गए. अरविंद केजरीवाल समेत कई जाने माने लोग राकेश टिकैत के नाम से चलाए जाने वाले फ़र्ज़ी ट्विटर हैन्डल्स को असली मानने लगे.


इस वीडियो के साथ लाल किला पर भारतीय राष्ट्रध्वज उतारकर अपना झंडा लगाने का दावा ग़लत है | पूरा विडियो देखें :

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
Tagged: