पुरानी तस्वीरें केंद्र सरकार द्वारा कश्मीर के मस्जिदों पर नियंत्रण के झूठे दावे से साझा

“केंद्र सरकार ने कश्मीर में सभी मस्जिदों को कब्ज़े में ले लिया है और आगे खुद देखें कि मस्जिद को कब्ज़े में क्यों लिया गया है”-(अनुवाद)।

कुछ तस्वीरों के साथ उपरोक्त दावा सोशल मीडिया पर साझा किया जा रहा है। दावे के मुताबिक, कश्मीर की एक मस्जिद में से हथियारों के बड़े जत्थे को बरामद किया गया है।

कुछ व्यक्तिगत उपयोगकर्ताओं द्वारा फेसबुक पर भी इसे साझा किया गया है।

समान कथन के साथ यह तस्वीरें व्हाट्सअप पर भी वायरल है।

झूठा दावा, असंबधित तस्वीरें

यह दावा कि केंद्र सरकार ने कश्मीर की सभी मस्जिदों को अपने नियंत्रण में ले लिया है, सरासर गलत है। ऐसा कुछ भी नहीं हुआ है। इस दावे के साथ साझा की गई तस्वीरों के बारे में ऑल्ट न्यूज़ ने पाया कि ये तस्वीरें पुरानी और अन्य घटनाओं से संबधित है, ये तस्वीरें कश्मीर की नहीं है।

पहली तस्वीर

ऑल्ट न्यूज़ ने गूगल पर उपरोक्त तस्वीर को रिवर्स सर्च किया और इसे Tumblr पर मार्च 2019 को की गई एक पोस्ट में पाया।

दूसरी तस्वीर

ऑल्ट न्यूज़ ने इस तस्वीर को भी रिवर्स सर्च किया और इसे शामली पुलिस द्वारा किये गए ट्वीट में पाया। ट्वीट के मुताबिक, यह एक मदरसे में की गई छापेमारी की तस्वीर है, जिसमें एक मदरसे में से नाजायज़ दस्तावेज, देशी-विदेशी मुद्रा समेत कई मोबाईल फोन बरामद किये गए और गिरफ्तारी भी की गई थी। यह घटना जुलाई 2019 की है।

तीसरी तस्वीर

उपरोक्त तस्वीर मार्च 2016 में अहमदाबाद राजकोट हाईवे पर एक होटल में की गई एक छापेमारी की तस्वीर है, जिसमें अवैध हथियार रैकेट चलाया जा रहा था।

चौथी तस्वीर

ऑल्ट न्यूज़ ने उपरोक्त तस्वीर को गूगल पर रिवर्स सर्च किया और हमें इंडिया टुडे द्वारा प्रकाशित एक लेख मिला। लेख के मुताबिक, यह तस्वीर पंजाब के पटियाला में स्थित ‘किरपान’ कारखाने की है। ऑल्ट न्यूज़ ने ‘खालसा किरपान’ कारखाने से संपर्क किया और पुष्टि की कि यह तस्वीर वास्तव में पटियाला के किरपान कारखाने की है।

अंत में सोशल मीडिया में किया गया दावा कि केंद्र सरकार ने कश्मीर की सभी मस्जिदों को अपने नियत्रण में ले लिया है, गलत है। इसके अलावा, साझा की गई तस्वीरें पुरानी और असंबधित है। पहले भी इन तस्वीरों को, एक अन्य झूठे दावे के साथ साझा किया गया था कि इन हथियारों को गुजरात के राजकोट शहर की एक मस्जिद से बरामद किया गया था।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend