27 जनवरी को गौतम गंभीर ने राजधानी में स्कूल की खराब स्थिति दर्शाने के लिए एक वीडियो साझा किया। उन्होंने लिखा, “वो कहते हैं कि शिक्षा के आधार पर चुनाव लड़िये, मैंने कहा सच के आधार पर लड़े।” (अनुवाद) दिल्ली में आगामी विधानसभा चुनाव 8 फरवरी को होने वाले हैं और गंभीर ने सत्ताधारी आम आदमी पार्टी (AAP) के ख़राब कार्यों को दर्शाने का कार्य किया है।

[मूल सन्देश –“They say fight the election on education, I say fight the election on truth!” ]

तथ्य जांच

वायरल वीडियो की शुरुआत में, ईमारत के गेट पर एक नोटिस देखा जा सकता है, हालांकि, कैमरा ने भी इस नोटिस पर फोकस नहीं किया है। पत्रकार उदय राणा सिंह ने इस नोटिस के करीबी दृश्य को ट्वीट किया है, जिसमें बताया गया है कि स्कूल को 9 अक्टूबर, 2019 से SBV JJ कॉलोनी में स्थांनांतरित किया गया है। अगर कोई ध्यान से इस वीडियो को देखे तो पता चलता है कि यह तस्वीर उसी जगह पर ली गई है क्योंकि स्कूल के गेट पर दिख रही कलाकृति समान है।

आप के अधिकृत ट्विटर हैंडल ने गंभीर के ट्वीट को उद्धृत करते हुए लिखा कि वीडियो में दिख रही स्कूल की ईमारत कार्यरत नहीं है। नोटिस को साफ रूप से दर्शाने वाले एक वीडियो के साथ पार्टी ने लिखा, “आपने जिस स्कूल की मुलाकात ली है उसे अक्टूबर, 2019 से SBV JJ कॉलोनी में स्थानांतरित किया गया है।” (अनुवाद) [मूल सन्देश -“The school you visited has been shifted to SBV JJ Colony in October 2019″]

सिंह ने स्थानांतरित स्कूल की ईमारत की तस्वीर को भी साझा किया है। उन्होंने लिखा, “मैंने खिचड़ीपुर में स्थानांतरित की गई स्कूल की मुलाकात ली। वे यहां पर अक्टूबर से पढाई कर रहे हैं क्योंकि उनके स्कूल में निर्माणकार्य चल रहा है।” (अनुवाद) [मूल सन्देश -“I also visited the makeshift school in Khichdipur. They’ve been studying here since October as their school is under renovation”]

इस गलत-जानकारी के बारे में दिल्ली के उप मुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने भी ट्वीट कर बताया है। उन्होंने ट्वीट करते हुए लिखा, “सर @AmitShah जी! आपके सांसद गौतम गम्भीर जी जिस स्कूल का विडियो बनाकर लाए और आपसे ट्वीट भी करवा लिए उसका सच ये है – उसके गेट पर ही लिखा है कि नई बिल्डिंग बनने के लिए उस स्कूल को छह महीने पहले बाज़ू के स्कूल में शिफ़्ट कर दिया गया है.”

भाजपा सांसद गौतम गंभीर ने टूटी-फूटी ईमारत के एक वीडियो को आप शाषित दिल्ली में कार्यरत स्कूल का बताते हुए साझा किया। हालांकि, इमारत के गेट पर लगे एक नोटिस में लिखा था कि स्कूल को निर्माण कार्य की वजह से एक अन्य स्थान पर स्थानांतरित किया गया है।

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Pooja Chaudhuri is a senior editor at Alt News.