महाभारत के युद्ध की कहानियों से जोड़ते हुए सोशल मीडिया में कंकाल की एक तस्वीर शेयर हो रही है. यूज़र्स दावा कर रहे है कि ये कंकाल भीम के बेटे घटोत्कच का है. दावे के अनुसार कुरुक्षेत्र की खुदाई के दौरान विदेशी पुरातत्व विशेषज्ञों को 80 फुट की लंबाई का एक कंकाल मिला था जो कि महाभारत में वर्णित भीम के बेटे घटोत्कच से मिलता है. 1 जुलाई 2020 को ट्विटर यूज़र ‘@Gulshanjha_IND’ ने ये तस्वीर इसी दावे से ट्वीट की. (ट्वीट का आर्काइव लिंक)

तस्वीर के साथ जो मेसेज शेयर किया जा रहा है वो ये है – “कुछ वर्षों पहले इसे डिस्कवरी चैनल ने प्रसारित किया था। कुरूक्षेत्र के पास खुदाई करते समय विदेशी पुरातत्व विशेषज्ञों को एक 80 फुट की लम्बाई के मानव कंकाल के अवषेश मिले जो महाभारत के भीम के पुत्र घटोत्कच के वर्णन के समान है पर आज भी कुछ लोगों को महाभारत काल्पनिक लगती है!”

ये तस्वीर ट्विटर और फ़ेसबुक पर शेयर की जा रही है. और भी कई वेबसाइट्स ने इस तस्वीर को अलग-अगल जगह की बताते हुए शेयर किया है. ‘dalliedkien.com’ ने इस तस्वीर को शेयर करते हुए दावा किया कि साल 1994 में एक आर्कियोलॉजिस्ट ने बाइबल में वर्णित गोलाइथ के कंकाल को जेरूसलम के ईस्ट वैली में पाया है. ‘theviraltrending.blogspot.com’ ब्लॉग में इस कंकाल को ग्रीस में खुदाई के दौरान मिले कंकाल के दावे से शेयर किया गया है.

इसके अलावा हमने पाया कि कंकाल की ऐसी ही कुछ तस्वीरें साल 2014 से ही सोशल मीडिया में शेयर हो रही हैं. 4 मई 2018 को एक फ़ेसबुक यूज़र ने घटोत्कच के कंकाल की बताते हुए ऐसी ही 3 तस्वीरें शेयर की थी. इस फ़ेसबुक पोस्ट की पहली तस्वीर यानि कि कई लोगों से घिरे कंकाल की तस्वीर सितंबर 2014 में पोस्ट की गयी थी. एक और फ़ेसबुक यूज़र ने 6 जनवरी 2014 को कंकाल की कुछ और तस्वीरें शेयर की थी.

This slideshow requires JavaScript.

फ़ैक्ट-चेक

हमने पाया कि ये सभी तस्वीरें या तो बनाई गई हैं या फ़िर किसी कलाकृति की हैं. इस आर्टिकल में हम बारी-बारी से इन तस्वीरों की सच्चाई आपके सामने रखेंगे.

पहली तस्वीर

गूगल रिवर्स इमेज सर्च से मालूम हुआ कि ये तस्वीर डिजिटल रूप से बनाई गई है. ‘designcrowd.com’ वेबसाइट पर इस तस्वीर को शेयर करते हुए बताया गया है कि एक अमेरिकन डिज़ाइनर ‘Whitmath57’ ने 14 अगस्त, 2011 को ऑस्ट्रेलियन कंपनी के एक डिज़ाइन कॉन्टेस्ट के लिए बनाया था. इस फ़ोटोशॉप तस्वीर को ‘Size Matters 4’ प्रोजेक्ट के तहत बनाया गया है. वेबसाइट पर अमेरिकन डिज़ाइनर Whitmath57 द्वारा बनाई गयी और भी कई कृत्रिम तस्वीरों को शेयर किया गया है.

दूसरी तस्वीर

ऑल्ट न्यूज़ इस तस्वीर की जांच पहले ही जुलाई 2019 में कर चुका है. तब ये घटोत्कच के कंकाल की तस्वीर बताकर शेयर हो रही थी. दरअसल ये एक इटालियन कलाकृति है जिसे जीनो डी डॉमिनिचिज़ ने साल 1889 में बनाया था. इस तस्वीर को फ्लिकर यूज़र मौरो ने 2007 में खींचा था. वर्ष 2012 में ‘माय मॉडर्न मेट’ नाम की वेबसाइट ने इस कंकाल के बारे में एक आर्टिकल पब्लिश किया था. इस आर्टिकल का टाइटल है -“द जायंट ट्रैवेलिंग स्केलेटन”. ट्रैवेलिंग वेबसाइट ‘Atlas Obscura’ के मुताबिक, जीनो डी डॉमिनिचिज़ द्वारा बनाई गयी इस कलाकृति को 2007 में इटली के मिलान शहर में रियाली प्लाज़ो में रखा गया था. इसका नाम “Calamita Cosmica” या “Cosmic Magnet” रखा गया था. ये कंकाल 28 मीटर लंबा है और इसका वज़न 8 टन है. जीनो डी डॉमिनिचिज़ की मृत्यु 1998 में हुई थी.

तीसरी तस्वीर

ये तस्वीर भी एक फ़ोटोशॉप डिज़ाइन ही है. ‘designcrowd.com’ वेबसाइट के मुताबिक, इस तस्वीर को एक अमेरिकी डिज़ाइनर ‘blackbook’ ने 2018 में क्राउड कंपनी के कम्युनिटी कॉन्टेस्ट के लिए बनाया था.

चौथी तस्वीर

‘designcrowd.com’ वेबसाइट ने इस तस्वीर को बनाने का श्रेय कनाडियन डिज़ाइनर ‘IronKite’ को दिया है. वेबसाइट के मुताबिक, ‘IronKite’ ने ये तस्वीर 2 अक्टूबर 2002 को कम्युनिटी कॉन्टेस्ट के लिए बनाई थी. ये तस्वीर प्रोजेक्ट ‘Archaeological Anomalies 2’ के तहत बनाई गई थी.

पांचवी तस्वीर

अमेरिकन डिज़ाइनर ‘Anakinnnn’ ने ये तस्वीर 8 अप्रैल 2004 को बनाई थी. इसे प्रोजेक्ट ‘Archaeological Anomalies 4’ के अंदर बनाया गया था.

छठी तस्वीर

बाकी की तस्वीरों की तरह ही ये तस्वीर भी फॉटोशॉप डिज़ाइन है जिसे स्पैनिश डिज़ाइनर ‘amaranto’ ने 9 अप्रैल 2004 को बनाया था. इस प्रोजेक्ट का नाम ‘Archaeological Anomalies 4’ है.

विशालकाय कंकाल की और भी कुछ तस्वीरें सोशल मीडिया में घटोत्कच के कंकाल की बताकर या फ़िर अन्य किसी दावे से शेयर हो रही हैं. ये तस्वीरें फ़ोटोशॉप की हुई हैं. ‘designcrowd’ वेबसाइट पर आपको ऐसे बहुत से कंकालों की फ़ोटोशॉप तस्वीरें देखने को मिलेंगी.

इस तरह, फ़ोटोशॉप तस्वीरों या कलाकृतियों की तस्वीरों को सोशल मीडिया में इस झूठे दावे से शेयर किया गया कि ये महाभारत के पात्र भीम के बेटे घटोत्कच के कंकाल की हैं. पाठकों से हमारी रीक्वेस्ट है कि सोशल मीडिया में ऐसी तस्वीरों को सही न मानते हुए एक बार फ़ैक्ट-चेक रिपोर्ट्स या फ़िर मीडिया रिपोर्ट्स ज़रूर देख लें.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.