कांग्रेस मंत्री डीके शिवकुमार के घर से नकदी पकड़े जाने के रूप में पुराने, असंबद्ध वीडियो वायरल

दो वीडियो, जिनमें एक साथ जमा किए गए नोटों के ढेर दिखाई दे रहे हैं, इस दावे के साथ प्रसारित हो रहे हैं कि यह नकदी कर्नाटक कांग्रेस के मंत्री डीके शिवकुमार के आवास से जब्त हुई थी।

दोनों वीडियो को शेयर करने के लिए इस संदेश का इस्तेमाल किया गया — “दिल्ली में कर्नाटक कांग्रेस के मंत्री डी के शिवकुमार के दिल्ली सफदरजंग एन्क्लेव के बंगले पर छापा पड़ा है उसका वीडियो आपके साथ शेयर कर रहा हुँ ..रुपये का गोदाम देखों और शेयर करों जिससे कांग्रेस का असली भृष्टाचारी चेहरा सामने आ सकें !!!”

पहला वीडियो

ऑल्ट न्यूज़ ने इस वीडियो को तभी खारिज कर दिया था जब यह तमिलनाडु के विधायक एसपी वेलुमणि के नाम से प्रसारित किया जा रहा था।

हमने पाया कि नकदी का ढेर यूरो करेंसी नोटों का था और यह स्पेन में हाथ से तैयार एक कला दर्शाती थी। कलाकार अलेजांद्रो मोंगे ने उनकी कलाकृति को लेकर किए गए झूठे दावों की निंदा करते हुए, यही वीडियो अपने इंस्टाग्राम अकाउंट पर अपलोड किया था।

AFP से हुए ईमेल संवाद में मोंगे ने कहा था, “यह वीडियो 2018 के आर्टमैड्रिड कला मेले के एक आगंतुक द्वारा लिया गया था, और एक डच वेबसाइट ने बिना कुछ भी जिक्र किए, इसे प्रकाशित किया था, इसलिए, बिना किसी संदर्भ का यह वीडियो दुनियाभर के नकली समाचार वेबसाइटों के लिए सही था, हम जानते हैं कि हैती, रूस, कैमरून, स्पेन और पाकिस्तान में, इसका इस्तेमाल स्थानीय राजनीतिज्ञों से इसे जोड़ते हुए, विभिन्न समाचार कथाओं के साथ किया गया। यह मूर्तिकला मेरे इंस्टाग्राम पेज पर एक वर्ष पूर्व, पूरी रचना प्रक्रिया के दस्तावेजीकरण समेत, प्रकाशित की गई। यह मूर्तिकला राल (resin) और लकड़ी से बनी है और नोटों को रंगीन पेंसिलों से हाथ से रंगा गया है।”- (अनुवाद)

दूसरा वीडियो

 

दिल्ली में कर्नाटक कोंग्रेस के मंत्री डी के शिवकुमार के दिल्ली सफदरजंग एन्क्लेव के बंगले पर छापा पड़ा है उसका वीडियो आपके साथ शेयर कर रहा हुँ ..
रुपये का गोदाम देखों और शेयर करों जिससे 👹 कांग्रेस का असली भृष्टाचारी चेहरा सामने आ सकें ——

जब प्यादे ने इस तरह लूटा है तो सोनिया और राहुल और रावर्ट बाड्रा ने कितना लूटा होगा —–

Posted by Vedanand Ojha on Friday, 22 March 2019

यह वीडियो भी ऑल्ट न्यूज़ द्वारा तब खारिज किया गया था जब इसे भाजपा सांसद राजीव चंद्रशेखर के आवास से बरामद नकदी के रूप में प्रसारित किया जा रहा था।

हमने पाया कि यह वीडियो रोहित टंडन के स्वामित्व वाली दिल्ली की T&T लॉ फर्म में 2016 में हुए आयकर छापे को दर्शाता है। समाचारों के अनुसार, आयकर अधिकारियों ने 13.48 करोड़ रुपये की रकम बरामद की थी। 12 दिसंबर 2016 को द टाइम्स ऑफ इंडिया द्वारा प्रकाशित एक रिपोर्ट में कहा गया है, “आयकर विभाग और दिल्ली पुलिस की अपराध शाखा की संयुक्त टीम ने रविवार को ग्रेटर कैलाश-1 के पॉश इलाके में रोहित टंडन के कार्यालय में नोटों से भरी अलमारियां और गुप्त तिजोरियां पाईं। नकदी वाले कई डिब्बे भी मिले।”

शिवकुमार के दिल्ली, बेंगलुरु और कानापुरा परिसरों में आयकर विभाग द्वारा अगस्त में आईटी छापे मारे गए थे। हालांकि, सोशल मीडिया में वायरल वीडियो इन छापों से संबंधित नहीं है। ऑल्ट न्यूज़ ने इस वीडियो को 2017 में तब खारिज किया था, जब इसे इसी संदेश के साथ शेयर किया जा रहा था।

योगदान करें!!
सत्ता को आइना दिखाने वाली पत्रकारिता जो कॉरपोरेट और राजनीति के नियंत्रण से मुक्त भी हो, वो तभी संभव है जब जनता भी हाथ बटाए. फेक न्यूज़ और गलत जानकारी के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद कीजिये. डोनेट करिये.

Donate Now

तत्काल दान करने के लिए, ऊपर "Donate Now" बटन पर क्लिक करें। बैंक ट्रांसफर / चेक / डीडी के माध्यम से दान के बारे में जानकारी के लिए, यहां क्लिक करें

Send this to a friend