सोशल मीडिया पर एक वीडियो बहुत वायरल है जिसमें एक खोई हुई बच्ची को गुरुद्वारा लाया गया है. एक व्यक्ति वीडियो बनाते हुए लोगों से इसे शेयर करने की अपील कर रहा है ताकि बच्ची के माता-पिता तक पहुंचा जा सके. ये वीडियो शेयर करने वालों में अभिनेत्री दिव्या दत्ता शामिल हैं. वीडियो के साथ अंग्रेज़ी में मेसेज लिखा है, “ये छोटी बच्ची दक्षिण भारत के मैंगलोर में कुछ भिखारियों के साथ मिली है. अपना नाम सोनल बिपिन पटेल बता रही है. भिखारियों ने बताया कि बच्ची मुंबई से आने वाली एक ट्रेन में मिली.”

ये वीडियो और मेसेज व्हाट्सऐप पर भी वायरल है.

ये वीडियो फ़ेसबुक पर शेयर किया जा रहा है.

पुराना वीडियो, बच्ची के माता-पिता मिल चुके हैं

वायरल वीडियो पिछले साल का है. ऑल्ट न्यूज़ को कुछ पोस्ट्स मिले जिसमें बताया गया है कि बच्ची नई दिल्ली के जैतपुर में मिली थी.

ऑल्ट न्यूज़ ने जैतपुर गुरुद्वारा के संदीप सिंह राय से संपर्क किया जिन्होंने बताया कि बच्ची को वहां लाया गया था. उन्होंने बताया कि बच्ची को माता-पिता से पिछले साल ही मिलवाया जा चुका है. संदीप ने हमारे साथ एक अन्य वीडियो शेयर किया जिसमें गुरुद्वारा के एक अधिकारी हरजीत सिंह बता रहे हैं कि बच्ची मिल चुकी है और वायरल दावा ग़लत है.

वो कहते हैं, “करीब चार महीने पहले नवम्बर, 2020 में एक बच्ची मिली थी जो लोकल एरिया की बताई जा रही थी. तो मैंने इसी गुरुदारे से घोषणा करते हुए लोगों को इत्तेला किया था कि बच्ची ग़ुम हो गयी है. जो भी मां बाप हैं वो आयें, बच्ची की आईडी और अपने मां-बाप होने की आईडी दिखाएं और बच्ची को ले जायें. पहले बच्ची के चाचा आये, हमने बच्ची उन्हें नहीं दी. कुछ समय बाद वो बच्ची की मां को साथ लेकर आये और आधार कार्ड दिखाया तो हमने उस बच्ची को उसकी मां को सौंप दिया.”

ज़ी न्यूज़ के पत्रकार तेजपाल रावत ने भी ट्वीट कर जानकारी दी थी कि बच्ची सही-सलामत घर पहुंच चुकी है.

वायरल मेसेज अन्य वीडियो के साथ भी शेयर

ये दावा कि ‘सोनल बिपिन पटेल’ रास्ते में खो गयी और मैंगलोर में मिली, अक्सर वायरल होता रहता है. दिसम्बर 2019 में भी एक और छोटी बच्ची का वीडियो शेयर किया गया था और कहा गया था कि ये बच्ची मैंगलोर में भिखारियों के साथ मिली.

ग़ाज़ियाबाद पुलिस ने ट्वीट कर जानकारी दी थी कि बच्ची को उसके घरवालों के पास पहुंचाया जा चुका है.

इस वीडियो पर ऑल्ट न्यूज़ का फ़ैक्ट-चेक आप यहां पढ़ सकते हैं.

इसी मेसेज के साथ एक और बच्ची की तस्वीर शेयर की गयी थी.

ऑल्ट न्यूज़ ने पाया था कि ये बांग्लादेश की घटना थी और भारत में ग़लत मेसेज के साथ वायरल हो रही थी.

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Pooja Chaudhuri is a senior editor at Alt News.