रेलवे स्टेशन में तोड़फोड़ करने का एक वीडियो सोशल मीडिया में इस दावे से प्रसारित है कि यह घटना कोलकाता की है और वे लोग बांग्लादेशी शरणार्थी है। साझा किए जा रहे संदेश के अनुसार, “यह दृश्य कोलकाता के है, वे बांग्लादेशी शरणार्थी है, उनके पास कोई नागरिकता नहीं है, अगर वे यह नागरिकता के बगैर कर सकते है तो उन्हें नागरिकता मिलने के बाद वे क्या क्या करेंगे। भगवान हमारे देश की रक्षा करे।” (अनुवाद)

 

This scene from Kolkata, these are Bangladesh Refugees, they don’t have any citizenship, if they dare to do this even without citizenship what happens after giving them Citizenship, God bless our Country 🙏🏼

_Forwarded

Posted by Rashmi R Chandra on Tuesday, December 24, 2019

यह वीडियो फेसबुक पर वायरल है।

ऑल्ट न्यूज़ के अधिकृत एप पर इस वीडियो की पड़ताल करने के कई अनुरोध प्राप्त हुए हैं।

बांग्लादेश का वीडियो

वीडियो में कुछ स्थान पर, रेलवे स्टेशन का नाम ‘ব্রাহ্মণবাড়িয়া’ (भ्रह्मनबारिया) दिखाई देता है। गूगल पर सर्च करने पर मालूम हुआ कि यह रेलवे स्टेशन बांगलादेश में है।

गूगल पर ‘Brahmanbaria railway station vandalism’ कीवर्ड्स से सर्च करने पर हमें 2016 में प्रकाशित बांग्लादेशी मीडिया संगठन की एक रिपोर्ट मिली। वीडियो में दिख रहे दृश्य जैसे तस्वीर प्रकाशित करते हुए डेली सन ने लिखा है, “मदरसे में विवाद के चलते एक बच्चे की हत्या के मामले में भ्रह्मनबारिया जिले में मंगलवार को हिंसा भड़की थी, जिसके चलते पुलिस ने 5000 अज्ञात लोगों के खिलाफ छह मामले दर्ज़ किये गए हैं।” (अनुवाद)

द डेली स्टार की 13 जनवरी, 2016 की एक रिपोर्ट के अनुसार, “लाठी और स्टील रॉड के ज़रिये उन्होंने [मदरसा छात्र] भ्रह्मनबारिया रेलवे स्टेशन में तोड़फोड़ मचा दी, रेलवे ट्रेक की फिशप्लेट निकल दी और गवाहों के मुताबिक उन्होंने अवामी लीग के कार्यालय में भी तोड़फोड़ की और पुलिस वैन में आग लगा दी।” (अनुवाद)

बांग्लादेश से 3 साल पुराना वीडियो सोशल मीडिया में पश्चिम बंगाल के कोलकाता में बांगलादेशी शरणार्थियों द्वारा रेलवे स्टेशन में तोड़फोड़ मचाने के दावे से प्रसारित किया गया।

डोनेट करें!
सत्ता को आईना दिखाने वाली पत्रकारिता का कॉरपोरेट और राजनीति, दोनों के नियंत्रण से मुक्त होना बुनियादी ज़रूरत है. और ये तभी संभव है जब जनता ऐसी पत्रकारिता का हर मोड़ पर साथ दे. फ़ेक न्यूज़ और ग़लत जानकारियों के खिलाफ़ इस लड़ाई में हमारी मदद करें. नीचे दिए गए बटन पर क्लिक कर ऑल्ट न्यूज़ को डोनेट करें.

Donate Now

बैंक ट्रांसफ़र / चेक / DD के माध्यम से डोनेट करने सम्बंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें.
About the Author

Pooja Chaudhuri is a senior editor at Alt News.